करियर को सेलिब्रेट करने जैसा है 'दबंग' फ्रैंचाइजी का सेलिब्रेशन: सोनाक्षी सिन्हा

सोनाक्षी सिन्हा.
सोनाक्षी सिन्हा.

दबंग 3 (Dabangg 3) के वर्ल्ड टेलीविजन प्रीमियर पर सोनाक्षी सिन्हा (Sonakshi Sinha) ने कहा कि, दबंग ने ही इंडस्ट्री में मुझे पहचान दिलाई. दबंग को सेलिब्रेट करना अपने करियर को सेलिब्रेट करने जैसा है और इसकी हर कड़ी के साथ यह और बड़ी और बेहतर होती जा रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 25, 2020, 8:57 AM IST
  • Share this:
मुंबई. दबंग फ्रेंचाइज़ी (Dabangg Franchise) ने देश भर में भारी संख्या में फैंस बनाए हैं और बॉक्स ऑफिस पर राज किया है. इस मसाला एंटरटेनर में सबके चहेते पुलिस वाले चुलबुल पांडे उर्फ रॉबिनहुड पांडे अपनी हीरोगिरी और विचित्र कारनामों के साथ एक बार फिर पधार रहे हैं. ज़ी सिनेमा पर 25 अक्टूबर को दोपहर 12 बजे, दबंग 3 का वर्ल्ड टेलीविजन प्रीमियर होने जा रहा है.

प्रभु देवा के निर्देशन में बनी दबंग 3 में सलमान खान (Salman Khan), सोनाक्षी सिन्हा (Sonakshi Sinha), महेश मांजरेकर, अरबाज़ खान और खूबसूरत नवोदित एक्ट्रेस सई मांजरेकर हैं. दबंग 3 में एक पुलिस ऑफिसर के रूप में चुलबुल पांडे की शुरुआत दिखाई गई है. उनका सामना बाली सिंह नाम के एक पुराने दुश्मन से होता है, जिससे उनकी पुरानी यादें ताजा हो जाती हैं और फिर वो अपने चाहने वालों को बचाने के लिए इस स्थिति से निपटते हैं. ग्लैमरस सोनाक्षी सिन्हा ने दबंग फ्रेंचाइज़ी का हिस्सा बनकर इसमें रज्जो का रोल निभाया है. फिल्म के वर्ल्ड टेलीविजन प्रीमियर के अवसर पर सोनाक्षी सिन्हा ने अपना अनुभव बताते हुए एक खास चर्चा की. पढ़िए उन्होंने क्या-क्या बताया...

इस फिल्म की तीनों फ्रेंचाइज़ी में काम करने वालीं आप अकेली एक्ट्रेस हैं, तो ऐसे में आपको कैसा महसूस होता है?



दबंग मेरे लिए घर की तरह है. मैंने इस फिल्म से इंडस्ट्री में अपना करियर शुरू किया था. मुझे खुशी है कि मैं इस फ्रेंचाइज़ी का अभिन्न हिस्सा हूं. यह मेरे लिए सम्मान की बात है और मैं सभी की आभारी हूं, खासतौर पर सलमान खान की, जिन्होंने रज्जो के रोल के लिए मुझमें विश्वास जताया और मुझे मेरा पहला ब्रेक दिया. दबंग सबसे सफल फ्रेंचाइज़ी में से एक है और ऐसे में इस सफर का हिस्सा बनकर मजबूती से आगे बढ़ते हुए बहुत अच्छा लगता है.
दबंग 1 से लेकर दबंग 3 में काम करने का अनुभव कैसा रहा?

दबंग एक दिलचस्प फिल्म है और हर फ्रेंचाइज़ी में हमें साथ काम करते हुए बहुत मजा आया. हालांकि पहली फिल्म में मैं नई थी और हर चीज सीख रही थी और फिर बाद की फिल्मों में इसे समझने लगी. तब तक मुझे कुछ अनुभव हो गया था, इसलिए मुझमें ज्यादा आत्मविश्वास था. फिल्म की हर किस्त के साथ मैं अपने किरदार रज्जो के और करीब आती गई. मैंने अपने किरदार को समझा और इसे ज्यादा आसानी से प्रस्तुत किया. पिछले कुछ वर्षों में रज्जो के किरदार में भी काफी बदलाव आए हैं. वो एक बेटी से लेकर एक खुशमिजाज और प्रोटेक्टिव पत्नी, बहू और एक मां बनी. ऐसे में इस किरदार के गुणों में भी बदलाव आए हैं. इसलिए हर इंस्टॉलमेंट में मेरे लिए कुछ नया था.
View this post on Instagram

Curly fries 🍟

A post shared by Sonakshi Sinha (@aslisona) on




आपको ऐसा क्यों लगता है कि दबंग एक जबर्दस्त मनोरंजक फिल्म है, जो हर तरह के दर्शक को पसंद आती है?

मेरा मानना है कि दर्शक किसी फिल्म को तब पसंद करते हैं, जब वो फिल्म के किरदारों और स्थितियों से व्यक्तिगत रूप से जुड़ते हैं या फिर वो कोई प्रेरणादायक किरदार देखते हैं. दबंग में अपने-से लगने वाले किरदार और स्थितियां दोनों ही हैं. इस फ्रेंचाइज़ी में एक्शन और ड्रामा से लेकर कॉमेडी और यहां तक कि रोमांटिक सीक्वेंस, सभी खूबियां हैं. दबंग 3 के साथ मसाला और मनोरंजन बड़ा और बेहतर हो गया है. जहां इसमें मशहूर कॉप चुलबुल पांडे के कारनामे हैं, वहीं यह दर्शकों को बीती हुई कहानी में ले जाती है, जिसकी वजह से वो आज चुलबुल पांडे यानी रॉबिनहुड पांडे बने. जब फिल्म के विलेन बाली सिंह के रूप में उनका अतीत उनके सामने आता है तो स्थिति एक अनपेक्षित मोड़ लेती है और यही खूबी इसे एक संपूर्ण फैमिली एंटरटेनर बनाती है.

दबंग को लेकर प्रभु देवा का नजरिया आपको कैसा लगा?

मुझे प्रभु सर के साथ काम करके मजा आया. मैं उनके साथ तीन फिल्मों में काम कर चुकी हूं और वे सेट पर हमेशा समर्पित और पूरे जोश में रहते हैं. उनकी एनर्जी दबंग की एनर्जी से बखूबी मेल खाती है. मुझे लगता है कि चुलबुल की शुरुआत वाली कहानी के साथ प्रभु सर से बेहतर न्याय कोई और नहीं कर सकता था. मसाला फिल्मों के मामले में उन्हें भारतीय दर्शकों की पसंद अच्छी तरह पता है और मुझे उनकी इस खूबी पर रश्क होता है. उनके साथ काम करना हमेशा एक मस्ती भरा और सीखने वाला अनुभव रहता है.

बीते कुछ वर्षों में रज्जो एक दमदार महिला बनकर उभरी हैं?


रज्जो एक बहुत अच्छी, विनम्र और मजबूत पत्नी और मां है, जिन्हें हम हर भारतीय परिवार में देखते हैं. वो परिवार को जोड़कर रखती हैं और अपनी राय में सच्ची हैं. इस किरदार की जो खूबी मुझे सबसे ज्यादा पसंद है, वो है चुलबुल पांडे से उनका रिश्ता. आपस में उन दोनों की केमिस्ट्री बिल्कुल अलग है और सामान्य तौर पर दिखाए जाने वाले रिश्तों से बिल्कुल अलग है.

आज भी दबंग 3 को लेकर आपको किस बात की सबसे ज्यादा खुशी होती है?

मैं बहाव के साथ आगे बढ़ने में यकीन रखती हूं और मैं हमेशा से ऐसी ही रही हूं. मुझे खुशी है कि मुझे फिल्म दबंग मिली. जैसा कि मैंने बताया दबंग ने मुझे आकर्षित किया और इसी फिल्म के साथ मैंने अपना करियर शुरू किया है, इसलिए यह फिल्म हमेशा मेरे लिए खास रहेगी. इस फिल्म को इतना प्यार और तारीफें मिलीं कि अब इसकी शुरुआत की कहानी की मांग हो रही थी. मैं उन सभी की आभारी हूं, जिन्होंने मेरे लिए दबंग को मुमकिन बनाया. इसलिए मैं इस फ्रेंचाइज़ी की किसी एक फिल्म को सेलिब्रेट नहीं कर सकती. दबंग ने ही इंडस्ट्री में मुझे मेरी पहचान दिलाई. दबंग को सेलिब्रेट करना अपने करियर को सेलिब्रेट करने जैसा है और इसकी हर कड़ी के साथ यह और बड़ी और बेहतर होती जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज