Covid-19 second wave : सांसों के संकट पर गुस्साए सुनील शेट्टी, नेताओं को ठहराया जिम्मेदार

नेताओं पर गुस्साए सुनील शेट्टी. (फोटो साभार: suniel.shetty/Instagram)

नेताओं पर गुस्साए सुनील शेट्टी. (फोटो साभार: suniel.shetty/Instagram)

सुनील शेट्टी का (Suniel Shetty) मानना है कि पिछले साल कोरोना काल (Corona Pandemic) में लोग भूख और नौकरी के लिए परेशान थे लेकिन इस बार तो सांसों का संकट है. लोग ऑक्सीजन, दवा, बेड के लिए तरस रहे हैं और इसके लिए राजनेता जिम्मेदार हैं.

  • Share this:

मुंबई: बॉलीवुड एक्टर सुनील शेट्टी (Suniel Shetty) कोरोना पीड़ितों की मदद कर रहे हैं. सुनील सोशल मीडिया के जरिए जरुरतमंदों को फ्री ऑक्सिजन कंस्ट्रेटर मुहैया करवा रहे हैं. मुंबई और बेंगलुरु के अलावा दूसरे शहरों से भी उनके पास डिमांड आ रही है.  कोरोना की सेकेंड वेव (Second Wave Of Corona Virus) ने तो लोगों को तोड़ कर रख दिया है. देश की स्वास्थ्य व्यवस्था बुरी तरह चरमरा गई है. इस हालात से हर इंसान बेहद परेशान और हताश है. सुनील ने कोरोना वायरस की दूसरी लहर में इलाज के लिए भटकते लोगों के लिए राजनेताओं को जिम्मेदार ठहराया हैं.

देश के लाखों लोग कोविड-19 (COVID-19) से संक्रमित हो रहे हैं. आए दिन हजारों लोगों की मौत हो रही हैं. लोग अपने घरवालों–मित्रों के इलाज के लिए हॉस्पिटल, दवाओं, ऑक्सीजन और वेंटिलेटर के लिए भटक रहे हैं. इस पर  सुनील शेट्टी का गुस्सा फूट पड़ा. सुनील ने कहा कि नेताओं ने अपना काम ठीक से किया होता तो आज लोगों को इलाज के लिए दर-दर की ठोकरें नहीं खानी पड़ती.  जो भी राजनेता गद्दी संभालता है वह केवल यह सोचता है कि अगले 5 सालों तक कैसे पैसा कमाना है. यह नहीं सोचते हैं कि सिस्टम के लिए क्या करना है'.


सुनील शेट्टी ने कहा कि 'इन लोगों को हम लोगों ने ही चुना है और इनकी ही वजह से हमें बेड्स, ऑक्सीजन और इलाज के लिए भटकना पड़ रहा है. इन लोगों ने हमें हर चीज से मोहताज कर दिया है. लेकिन समय बदलेगा और गद्दी पर बैठे लोग भी बदलेंगे. सुनील ने कहा कि 'आइए, हम हर इलाके में अच्छे लोगों का चुनाव करें. मेहनत करने वाले लोगों को वोट करें जो परिवर्तन लाएं. ऐसे लोग किसी भी पॉलिटिकल पार्टी में हो सकते हैं.'
हालांकि सुनील शेट्टी ने यह भी कहा कि यह समय एक-दूसरे पर आरोप लगाने का नहीं है. सुनील ने बताया कि  मैंने जब भी मदद मांगी तो मुझे किसी ने मना नहीं किया है. ऐसा इसलिए है कि लोग सच में एक-दूसरे की मदद करना चाहते हैं'.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज