बीजेपी को मिला 'ढाई किलो' का हाथ, बॉलीवुड के ‘ज़िद्दी’ हैं सनी देओल

News18Hindi
Updated: April 23, 2019, 3:45 PM IST
बीजेपी को मिला 'ढाई किलो' का हाथ, बॉलीवुड के ‘ज़िद्दी’ हैं सनी देओल
बॉलीवुड एक्टर सनी देओल.

गुरदासपुर सीट सनी देओल के लिए एक सेफ सीट साबित हो सकती है क्योंकि इस सीट का बॉलीवुड कनेक्शन बहुत स्ट्रांग है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 23, 2019, 3:45 PM IST
  • Share this:
सनी देओल ने करीब दो दिन पहले ही दावा किया था कि वो राजनीति से अभी दूरी बना कर रखेंगे, लेकिन अब उन्होंने भारतीय जनता पार्टी से जुड़ने का फैसला कर लिया. ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि बीजेपी उन्हें पंजाब की गुरदासपुर लोकसभा सीट से उम्मीदवार बना सकती है.

बॉलीवुड के ‘ज़िद्दी’ सनी देओल की राजनीति में एंट्री के कई मायने हैं. वह देओल परिवार के तीसरे सदस्य हैं जो राजनीति में जगह बनाएंगे और गुरदासपुर के साथ उनका एक विचित्र संबंध भी है. गुरदासपुर वो लोकसभा सीट है, जहां से विनोद खन्ना लगातार तीन बार सांसद रहे थे. इस जगह से कई बॉलीवुड हस्तियों का जुड़ाव रहा है, जिसमें जाने माने गायक गुरु रंधावा, एवरग्रीन स्टार देव आनंद और उनके भाई, फिल्म निर्माता-निर्देशक विजय आनंद भी आते हैं.

एक दिलचस्प बात यह भी है कि हेमा मालिनी को राजनीति में लाने का श्रेय विनोद खन्ना को जाता है और विनोद उन्हें सबसे पहले गुरदासपुर में ही अपने चुनाव प्रचार के लिए लाए थे. अब इसी सीट से सनी देओल के लोकसभा उम्मीदवार होने की बात संयोग ही होगी. 62 साल की उम्र में भाजपा से जुड़ने वाले सनी देओल बॉलीवुड के सबसे फिट सितारों में से एक हैं. 1983 में ‘बेताब’ से अपने फिल्मी करियर की शुरूआत करने वाले सनी की पहली फिल्म सुपरहिट रही और बॉलीवुड को उनका एक्शन हीरो मिल गया.

यह भी पढ़ें- BJP ज्वॉइन करने के बाद सनी देओल बोले- 'पापा अटल के साथ थे, मैं मोदी के साथ जुड़ा'

स्वाभाव से बेहद शर्मीले और सेट के बाहर चुपचाप रहने वाले सनी के बारे में मशहूर था कि वो इतने धीरे डॉयलॉग बोलते थे कि सामने वाले को सुनाई नहीं देता और फिर जब वो चिल्लाते तो सेट पर मौजूद लोगों का दिल दहल जाता. मीनाक्षी शेशाद्रि ने कहा था कि सनी के साथ एक्टिंग करते समय बहुत ध्यान से सुनना पड़ता था कि वो अपना डायलॉग कब खत्म करने वाले हैं.

सनी ने दो बार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार अपने नाम किया है और उनकी दोनों ही परफॉर्मेंस ‘घायल’ (1991) और ‘दामिनी’ (1994) आज तक याद की जाती हैं. इन दोनों फिल्मों के डॉयलॉग सनी के साथ जुड़े हुए हैं और वो ‘ढाई किलो के हाथ’ के लिए मशहूर हैं. उनकी फिल्में ‘गदर- एक प्रेम कथा’,‘बॉर्डर’ और ‘हीरो’ ने उन्हें देशभक्त हीरो का टैग दिलाया.

हालांकि बॉलीवुड में वो लंबे समय से लगातार फ्लॉप फिल्मों से परेशान थे. अगर फिल्मी बिज़नेस की बात करें तो सनी की आखिरी हिट फिल्म साल 2011 में ‘यमला पगला दीवाना’ थी और इसके बाद से वो लगातार 10 फ्लॉप का सामना कर चुके हैं. इस दौरान सनी ने ‘घायल वन्स अगेन’ भी बनाई थी. लेकिन इस फिल्म ने भी बॉक्स ऑफिस पर पानी नहीं मांगा. अब सनी के बेटे बॉलीवुड में अपना डेब्यू करने वाले हैं और इस दौरान पापा ने बॉलीवुड छोड़ राजनीति का दामन थाम लिया है.
Loading...

गुरदासपुर सीट सनी देओल के लिए एक सेफ सीट साबित हो सकती है क्योंकि इस सीट का बॉलीवुड कनेक्शन बहुत स्ट्रांग है. भाजपा के सांसद के तौर पर विनोद खन्ना यहां से 4 बार विजयी रहे हैं और अब सनी देओल के आने से बॉलीवुड का चार्म और जाट–सिख वोट उनके हिस्से में आ सकता है. लेकिन ये अभी फाइनल नहीं है.

परिवार की बात करें तो सनी की पत्नी पूजा देओल को कैमरा के सामने शायद ही किसी ने देखा हो. पूजा और सनी के दो बेटे हैं करन और राजवीर जिनमें करन जल्दी ही अपना बॉलीवुड डेब्यू करने वाले हैं. इसके अलावा सनी देओल मुंबई में अपना स्टूडियो चलाते हैं जहां फिल्मों की विशेष स्क्रीनिंग और डबिंग का काम होता है.

यह भी पढ़ें:

BJP ज्वॉइन करने के बाद सनी देओल बोले- 'पापा अटल के साथ थे, मैं मोदी के साथ जुड़ा'

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बॉलीवुड से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 23, 2019, 12:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...