डायरेक्टर कुशल जावेरी का खुलासा, #MeToo का आरोप लगने से बहुत परेशान थे सुशांत, 4 दिन सोए नहीं थे एक्टर

डायरेक्टर कुशल जावेरी का खुलासा, #MeToo का आरोप लगने से बहुत परेशान थे सुशांत, 4 दिन सोए नहीं थे एक्टर
अक्टूबर 2018 में एक्टर पर मीटू के तहत यौन उत्पीड़न की खबरें सामने आई थीं.

कुशल जावेरी (Kushal Zaveri) ने अपने पोस्ट में लिखा है, "मैं जुलाई 2018 से फरवरी 2019 तक सुशांत के साथ रहा था. 2018 के अक्टूबर में #MeToo मूवमेंट के तहत जब उस पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया गया, तब मैंने उसे सबसे अधिक बिखरा हुआ पाया था.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 6, 2020, 10:21 PM IST
  • Share this:
मुंबईः बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत मामले में एक्टर के पिता ने जब से एफआईआर दर्ज कराई है, उसके बाद से एक्टर को लेकर हर दिन दिन नए खुलासे हो रहे हैं. इस बीच एक्टर के दोस्त और टीवी सीरियल पवित्र रिश्ता (Pavitra Rishta) के निर्देशकों में से एक कुशल जावेरी ने एक्टर को लेकर बड़ा खुलासा किया है. कुशल जावेरी (Kushal Zaveri) के मुताबिक, सुशांत उस दौरान रात-रात भर सो नहीं पाते थे, जब उन पर अक्टूबर 2018 के समय मीटू मूवमेंट (MeToo Movement) के तहत यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया गया था. कुशल जावेरी ने इसे लेकर इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट लिखा है, जिसमें उन्होंने सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की उस दौरान की मानसिक स्थिति का खुलासा किया है, जब उन पर मीटू के तहत यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया गया था.

अपने पोस्ट में कुशल जावेरी ने लिखा है, "मैं जुलाई 2018 से फरवरी 2019 तक सुशांत के साथ रहा था. 2018 के अक्टूबर में #MeToo मूवमेंट के तहत जब उस पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया गया, तब मैंने उसे सबसे अधिक बिखरा हुआ पाया था. मीडिया में सुशांत को बिना किसी ठोस सबूत के निशाना बनाया जा रहा था. इस मामले के बाद हमने संजना सांघी (Sanjana Sanghi) से कॉन्टेक्ट करने की पूरी कोशिश की लेकिन, शायद वह उस समय अमेरिका में थीं. जिसके चलते वह इस मामले पर कुछ भी बोलने को लेकर उपलब्ध नहीं थीं (अजीब संयोग की बात है). सुशांत को इस बात का पता था कि उन्हें कौन फंसाने की कोशिश कर रहा है, लेकिन सबूत न होने की वजह से वह कॉल नहीं कर सके.'


कुशल आगे लिखते हैं- 'मुझे याद है इस घटना के बाद सुशांत चार रात तक सो नहीं पाए थे. इन आरोपों पर बात करने को लेकर वह संजना का इंतजार कर रहे थे. अंत में उसने 5वें दिन संजना से सारी बातें साफ कर दीं और यह एक बड़ी लड़ाई के बाद मिली जीत की तरह लग रहा था." इसके साथ ही कुशल ने यह भी साफ किया कि वह इस बात को क्यों उठा रहे हैं. कुशल के मुताबिक, उन्होंने इस बात को इस समय इसलिए उठाया ताकि उन लोगों का पदार्फाश किया जा सके जो सुशांत के मामले में दोषी हैं. कहीं ये वही लोग तो नहीं हैं, जिनके बारे में सुशांत उस वक्त सोच रहे थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज