तापसी पन्नू कोरोना वॉरियर्स के समर्थन में फिर आईं आगे, नाम लिए बिना बाबा रामदेव पर कसा तंज

रामदेव का डॉक्टर्स पर बयान तापसी को नहीं आया रास. (Photo Credits: swaamiramdev/taapsee/Instagram)
)

रामदेव का डॉक्टर्स पर बयान तापसी को नहीं आया रास. (Photo Credits: swaamiramdev/taapsee/Instagram) )

तापसी पन्नू (Taapsee Pannu) ने ट्वीट कर बताया कि पिछले साल कोरोना वॉरियर्स (Corona Worriors) के लिए लोगों ने अपनी बालकनी में खड़े होकर ताली बजाकर स्वागत किया था.

  • Share this:

मुंबई: पिछले साल कोरोना संक्रमण की शुरुआत से ही योग गुरु बाबा रामदेव (Baba Ramdev) अपनी दवाओं और योग के बल पर ही लोगों को स्वस्थ बनाने का दावा करते आ रहे हैं. यहां तक तो ठीक था लेकिन जैसे ही रामदेव ने ऐलोपैथ को ‘मूर्खतापूर्ण विज्ञान’ बताया तो हर तरफ उनकी खिंचाई होने लगी. कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे डॉक्टरों में इस बयान से बड़ी निराशा हुई. ऐसे में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने भी रामदेव को पत्र लिखकर अपना बयान वापस लेने की बात कही. बयान तो रामदेव ने वापस ले लिया लेकिन लोगों के निशाने पर आ गए. बॉलीवुड एक्ट्रेस तापसी पन्नू (Taapsee Pannu) का ट्वीट भी कुछ इसी तरफ इशारा कर रहा है.

तापसी पन्नू ने बिना बाबा रामदेव का नाम लिए लोगों को पिछले साल की याद दिलाई. तापसी ने ट्वीट किया ‘लगभग एक साल पहले हम सब ने अपनी बालकनी में खड़े होकर उनके लिए तालियां बजाई, लगभग एक साल पहले उन लोगों के लिए आसमान रंगीन हो गया था. कोई भी राजा अपने योद्धाओं के बिना पॉवरलेस है’. इसके साथ ही ताली बजाते हुए इमोजी और कोरोना वॉरियर्स को हैशटैग किया है. तापसी ने हालांकि कहीं रामदेव का नाम नहीं लिया है लेकिन तंज उन्हीं के बयान की तरफ है. इसके साथ ही तापसी ने यह भी बताने की कोशिश की है कि इस समय देश कोविड-19 से जंग लड़ रहा है. इस समय डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ ही योद्धा हैं और उनके बिना यह जंग नहीं जीती जा सकती.

(taapsee pannu/twitter)

बता दें कि डॉक्टर हर्षवर्धन ने भी रामदेव को लिखा था ‘आपका बयान कोरोना योद्धाओं का अनादर और देश की भावना को आहत करने वाला है. आपका बयान स्वास्थ्यकर्मियों का मनोबल तोड़ कोविड-19 के खिलाफ चल रही जंग को कमजोर कर सकता है’. हालांकि रामदेव अपने इस बयान को वापस ले चुके हैं लेकिन इंडियन मेडिकल एसोसिएशन को सोशल मीडिया पर एक चिट्ठी जारी कर कहा है कि अगर एलोपैथी सर्वगुण संपन्न है तो इसके डॉक्टरों को बीमार नहीं पड़ना चाहिए. इस लेटर में 25 सवाल हैं.
इसके अलावा रामदेव ने अपने एक योग कार्यक्रम के दौरान कह दिया था कि एक हजार डॉक्टर कोरोना की डबल वैक्सीन लगाने के बाद भी खुद को नहीं बचा पाए, कैसी डॉक्टरी हैं ये?

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज