Home /News /entertainment /

कंगना रनौत के बयान से दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन समिति खफा, पुलिस में दर्ज कराई शिकायत

कंगना रनौत के बयान से दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन समिति खफा, पुलिस में दर्ज कराई शिकायत

कंगना रनौत ने कृषि कानूनों के वापस लिए जाने पर तीखी प्रतिक्रिया दी थी. फोटो साभारः इंस्टाग्रामः @kanganaranaut

कंगना रनौत ने कृषि कानूनों के वापस लिए जाने पर तीखी प्रतिक्रिया दी थी. फोटो साभारः इंस्टाग्रामः @kanganaranaut

कंगना रनौत (Kangana Ranaut) की हालिया टिप्पणियों से खफा दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक समिति ने जहां एक्ट्रेस के खिलाफ शिकायत मंदिर मार्ग थाने के साइबर प्रकोष्ठ में दर्ज करायी है. वहीं, कांग्रेस की युवा इकाई के राष्ट्रीय सचिव अमरीश रंजन पांडे और संगठन के विधि प्रकोष्ठ के सह-समन्वयक अंबुज दीक्षित ने संसद मार्ग थाने में शिकायत दर्ज कराई गई है. उनका मानना है कि कंगना की हालिया टिप्पणियां ‘राजद्रोह’ के दायरे में आती हैं.

अधिक पढ़ें ...

    कंगना रनौत (Kangana Ranaut) बॉलीवुड की वो एक्ट्रेस हैं, जो हर मुद्दे पर अपनी राय रखती हैं और कई बार ऐसे बयान दे जाती हैं, जिनको कारण उन्हें ट्रोलिंग का सामना तक करना पड़ता है. कंगना रनौत को इसलिए बॉलीवुड की ‘पंगा क्वीन’ कहा जाता है. हाल में तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को निरस्त करने की घोषणा के बाद कंगना की तीखी प्रतिक्रिया सामने आई, जिसको लेकर अब हंगामा मचा हुआ है. दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (The Delhi Sikh Gurdwara Management Committee), कांग्रेस की युवा इकाई के राष्ट्रीय सचिव अमरीश रंजन पांडे और संगठन के विधि प्रकोष्ठ के सह-समन्वयक अंबुज दीक्षित ने पुलिस में कंगना के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई हैं.

    दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक समिति और युवा कांग्रेसी बयान से खफा
    कंगना रनौत (Kangana Ranaut) की हालिया टिप्पणियों से खफा दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक समिति ने जहां एक्ट्रेस के खिलाफ शिकायत मंदिर मार्ग थाने के साइबर प्रकोष्ठ में दर्ज करायी है. वहीं, कांग्रेस की युवा इकाई के राष्ट्रीय सचिव अमरीश रंजन पांडे और संगठन के विधि प्रकोष्ठ के सह-समन्वयक अंबुज दीक्षित ने संसद मार्ग थाने में शिकायत दर्ज कराई गई है. उनका मानना है कि कंगना की हालिया टिप्पणियां ‘राजद्रोह’ के दायरे में आती हैं.

    ‘कंगना को या जेल भेजो या मानसिक रोग अस्पताल’ 
    दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने सिखों के खिलाफ कथित तौर पर अपमानजनक टिप्पणी करने को लेकर कंगना पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि सरकार को उनके खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘कंगना को या तो मानसिक रोग अस्पताल भेजा जाए या फिर जेल भेजा जाए. ‘

     ‘आपत्तिजनक और अपमानजनक’ भाषा का किया उपयोग
    समिति का कहना है कि सोशल मीडिया पर हाल में किए गए अपने पोस्ट में रनौत ने ‘जानबूझकर’ किसानों के प्रदर्शन को ‘खालिस्तानी आंदोलन’ बताया है. बयान में कहा गया है कि एक्ट्रेस ने सिख समुदाय के खिलाफ ‘आपत्तिजनक और अपमानजनक’ भाषा का उपयोग किया था. सिख समुदाय की भावनाओं को आहत करने के लिए जानबूझकर वह पोस्ट तैयार किया गया और आपराधिक मंशा से उसे साझा किया गया. इसलिए हम आपसे प्राथमिकता के आधार पर इस शिकायत पर संज्ञान लेने और प्राथमिकी दर्ज करने के बाद कड़ी कानूनी कार्रवाई करने का अनुरोध करते हैं.’

    किन धाराओं में दर्ज हुआ केस
    कांग्रेस की युवा इकाई के राष्ट्रीय सचिव अमरीश रंजन पांडे ने अपनी शिकायत में कहा कि कंगना रनौत एक प्रसिद्ध अभिनेत्री हैं और इंस्टाग्राम पर उनके 78 लाख से अधिक लोग फॉलोअर हैं. इसलिए, उनके जानबूझकर किये गए, गैर-जिम्मेदाराना और राजद्रोहात्मक पोस्ट में भारतीय गणराज्य के प्रति घृणा, अवमानना और वैमनस्य भड़काने की क्षमता है.’ उन्होंने अभिनेत्री के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 124 ए (राजद्रोह), धारा 504 (शांति भंग करने के इरादे से जानबूझकर अपमान) और धारा 505 (सार्वजनिक शरारत करने वाले बयान) के तहत प्राथमिकी दर्ज करने के लिए शिकायत दर्ज कराई गई है.

    कंगना ने ऐसे किया था रिएक्ट
    पीएम मोदी के ये बिल वापस लेने की घोषणा के बाद कंगना ने सरकार के इस कदम की सराहना करने वाले एक सोशल मीडिया उपयोगकर्ता को जवाब देते हुए लिखा था, ‘यदि सड़क पर लोगों ने कानून बनाना शुरू कर दिया है और निर्वाचित सरकार संसद में यह कार्य नहीं करे, तब फिर यह एक जिहादी राष्ट्र है…उन सभी को बधाई जो इसे पसंद करते हैं.’

    Tags: Delhi police, Kangana Ranaut

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर