होम /न्यूज /मनोरंजन /पल्लवी जोशी ने बताई बॉलीवुड फिल्मों की 'असफलता' की वजह, बायकॉट पर दी ये राय

पल्लवी जोशी ने बताई बॉलीवुड फिल्मों की 'असफलता' की वजह, बायकॉट पर दी ये राय

पल्लवी जोशी का कहना है कि उन्हें पता है कि द कश्मीर फाइल्स को किसी अवॉर्ड शो में नॉमिनेट नहीं किया जाएगा. (फोटो साभारः इंस्टाग्रामः @pallavijoshiofficial)

पल्लवी जोशी का कहना है कि उन्हें पता है कि द कश्मीर फाइल्स को किसी अवॉर्ड शो में नॉमिनेट नहीं किया जाएगा. (फोटो साभारः इंस्टाग्रामः @pallavijoshiofficial)

'द कश्मीर फाइल्स' (The Kashmir Files) ने 300 करोड़ का आंकड़ा पार किया और पहली ऐसी हिंदी फिल्म बनी, जिसने महामारी के बाद ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

मुंबईः जब इस साल मार्च में ‘द कश्मीर फाइल्स’ (The Kashmir Files) रिलीज हुई, तो सभी से मिली-जुली समीक्षा मिलने के बावजूद इसने बॉक्स ऑफिस पर खूब तहलका मचाया और फिल्म ब्लॉकबस्टर साहि हुई. फिल्म ने 300 करोड़ का आंकड़ा पार किया और पहली ऐसी हिंदी फिल्म बनी, जिसने महामारी के बाद ऐसा कमाल किया हो. फिल्म में अनुपम खेर (Anupam Kher), मिथुन चक्रवर्ती, पल्लवी जोशी और दर्शन कुमार महत्वपूर्ण रोल में दिखे, जिसका निर्देशन विवेक अग्निहोत्री ने किया था. दर्शकों के एक वर्ग ने जहां फिल्म को आंखें खोलने वाला बताया, वहीं कुछ को यह पसंद नहीं आई. इस बीच, पल्लवी जोशी ने बॉलीवुड फिल्मों की असफलता पर बात की है.

Hindustan Times से चर्चा के दौरान, पल्लवी जोशी ने खुलासा किया कि आखिर बॉलीवुड कहां गलती कर रहा है. पल्लवी कहती हैं- ‘मैं बॉलीवुड की विशेषज्ञ नहीं हूं, इसलिए मुझे नहीं पता कि ‘शमशेरा’ या ‘दोबारा’ या फिर अन्य फिल्मों में क्या गलत हुआ. लेकिन मैं आपको ये जरूर बता सकती हूं कि हमारी फिल्म के पक्ष में किस चीज ने काम किया.’

पल्लवी कहती हैं- ‘मेरा हमेशा से ये मानना ​​रहा है कि दर्शकों को उस मंशा का एहसास होता है जिसके साथ आप अपने विषय या प्रदर्शन को रखते हैं. थिएटर में, ऐसे दिन थे जब मैंने अपना ध्यान खो दिया था और दर्शकों से वैसी प्रतिक्रिया नहीं मिलती थी. यही बात फिल्मों पर भी लागू होती है. पर्दे के जरिए भी लोगों को आपकी ईमानदारी का एहसास होता है.’

पल्लवी के अनुसार, उन्हें लगता है कि द कश्मीर फाइल्स को इसलिए पसंद किया गया, क्योंकि फिल्म में दिखाई गई समस्याएं वह थीं, जिन्हें इस देश की जनता देखना चाहती है. कुछ ऐसा, जिसे दिखाने में ज्यादातर फिल्में कट रही हैं. वह कहती हैं- ‘एक आर्टिस्ट के रूप में, प्रशिक्षण समाज को आईना दिखाने के लिए है. भले ही आप थोड़े से सत्ता विरोधी हैं. राज कपूर, सुनील दत्त और मनोज कुमार की फिल्मों को देखा जाए तो उन्होंने वह दिखाया था, जो कुछ भी समाज में हो रहा था.’

Tags: Bollywood, Bollywood news, The Kashmir Files

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें