सलमान खान और कमाल आर खान के बीच जारी है जंग, KRK ने एक्टर के लॉयर को बताया LIAR

नहीं थम रहा केआरके र सलमान का विवाद. (फोटो साभार:beingsalmankhan/kamaalrkhan/Instagram

)

नहीं थम रहा केआरके र सलमान का विवाद. (फोटो साभार:beingsalmankhan/kamaalrkhan/Instagram )

कमाल आर खान (Kamal R Khan) ने सोशल मीडिया पर सलमान खान (Salman Khan) के खिलाफ जंग छेड़ दिया है. कभी वीडियो तो कभी पोस्ट करके लगातार आरोप लगाते जा रहे हैं. अब डीएसके लीगल के लॉयर्स को ही झूठा करार दिया है.

  • Share this:

मुंबई : बॉलीवुड एक्टर सलमान खान (Salman Khan) और फिल्म क्रिटिक कमाल आर खान (Kamal R Khan) के बीच शीत युद्ध जारी है. सलमान ने कमाल पर डिफेमेशन केस कर लीगल नोटिस भेजा था. इसके बाद सलमान की लीगल टीम डीएसके (DSK) ने एक बयान जारी कर बताया  कि ‘कमाल आर खान ने ट्वीट और वीडियो शेयर कर आरोप लगाया है कि सलमान खान ने उन पर डिफेमेशन केस फिल्म ‘राधे’ के निगेटिव रिव्यू के लिए किया गया है. ये सही नहीं है. केस सलमान खान को भ्रष्ट और उनके ब्रांड बीइंग ह्यूमन को धोखाधड़ी, हेरफेर और मनी लॉड्रिंग में शामिल बताते हुए बदनाम करने वाले आरोप के लिए किया गया है’. इसके जवाब में कमाल ने एक नया वीडियो शेयर कर सलमान खान के वकीलों को झूठा बताया है.

फिल्म क्रिटिक कमाल आर खान ने इंस्टाग्राम पर एक नया वीडियो शेयर कर कैप्शन में लिखा है ‘सलमान खान लॉयर्स लायर हैं’. इस वीडियो में कमाल बता रहे हैं कि ‘दोस्तों जैसा कि आप सभी जानते हैं कि डीएसके लीगल के लॉयर्स ने सॉरी.. लायर्स ने कल ये स्टेटमेंट दिया था कि ‘जो डिफेमेशन केस उन्होंने मेरे ऊपर डाला है उससे राधे रिव्यू का कोई लेना देना नहीं है. मैं यहां कुछ बातें बोल नहीं पाऊंगा कोर्ट के ऑर्डर की वजह से ये.. ये तो जज साहब को ही डिसाइड करना है कि ये डिफेशन केस सही है या नहीं. इतना तो मैं गारंटी से कह सकता हूं कि ये जो DSK के लॉयर्स हैं वो सरासर झूठ बोल रहे हैं क्योंकि ये डिफेमेशन केस राधे के रिव्यू के लिए ही है. और अब मैं यह बात आपको साबित करके दिखाऊंगा.

View this post on Instagram

A post shared by KRK (@kamaalrkhan)



केआरके आगे कहते हैं 'देखिए लीगल सिस्टम कैसे काम करता है. अगर एक आदमी ने 10 क्राइम किए हैं तो उस पर 10 क्राइम का एक केस नहीं चल सकता. हर क्राइम का अलग-अलग केस चलता है. लेकिन हर क्राइम के साथ बाकी 9 क्राइम्स की डिटेल लिखी जाती है. ये साबित करने के लिए कि वो वाकई ही क्रिमिनल है. उसी तरह के डिफेमेशन केस एक ही के लिए किया जा सकता है 10 बातों को जोड़कर एक डिफेमेशन केस नहीं बनाया जा सकता’.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज