वेब सीरीज 'अनदेखी' को लेकर बोले अंकुर राठी- क्या चुप रहना समस्या का हिस्सा है?

अंकुर राठी
अंकुर राठी

रिलीज होने के कुछ हफ्तों के भीतर 'अनदेखी' को पॉजिटिव रिव्यू मिल रही है और अंकुर राठी (Ankur Rathee) ने अपने एक्टिंग से दर्शकों और समीक्षकों को फिर से प्रभावित किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 4, 2020, 7:05 PM IST
  • Share this:
मुंबई. फिल्म 'थप्पड़', 'फोर मोर शॉट्स प्लीज' और 'हेलो मिनी' में अपने एक्टिंग का जादू दिखाने वाले एक्टर अंकुर राठी (Ankur Rathee) इन दिनों अपनी नई वेब सीरीज 'अनदेखी' (Undekhi) की सफलता का आनंद ले रहे हैं. रिलीज होने के कुछ हफ्तों के भीतर 'अनदेखी' को पॉजिटिव रिव्यू मिल रही है और अंकुर ने अपने एक्टिंग से दर्शकों और समीक्षकों को फिर से प्रभावित किया है. इस वेब सीरीज में उन्होंने दमन की भूमिका निभाई है.

'अनदेखी' एक क्राइम थ्रिलर ड्रामा है, जो कि सच्ची घटनाओं से प्रेरित है. इसे बड़े पैमाने पर मनाली में शूट किया गया था. इस वेब सीरीज को अप्लाउज एंटरटेंनमेंट और एजस्ट्रोम प्रोडक्शन ने प्रोड्यूस किया है. इसे आशीष आर शुक्ला ने निर्देशित किया है. इसमें हर्ष छाया, दिब्येन्दु भट्टाचार्य, अंकुर राठी, सूर्या शर्मा, अंचल सिंह, अभिषेक चौहान, एनी जोया, अपेक्षा पोरवाल और संदीप सेन अहम रोल में हैं.

शो के प्रभाव के बारे में बात करते हुए अंकुर को लगता है कि ऐसे समय में जब समाज में अन्याय व्याप्त है, 'अदेखी' कुछ बहुत ही प्रासंगिक सवाल पूछता है. उन्होंने कहा, "लिंग, धन, जाति और रंग द्वारा सीमांकित भारतीय समाज में हम सभी जानते हैं कि हम अधिक या कम कहां खड़े हैं. गरीब और दलितों के अनगिनत अन्याय का शिकार होने के दौरान कुछ बड़े लोग सुख-सुविधाओं को स्वीकार करते हैं. क्या हम उनके मानवीय अधिकारों के लिए लड़ते हैं या क्या हम बड़े पैमाने पर उनके दुख को अनदेखा करते हैं. शो में, दमन के रोल ने मुझे अपने आप से एक बहुत ही असहज सवाल पूछा कि क्या चुप रहना समस्या का हिस्सा है? यहां आपके पास एक ऐसा चरित्र है जिसके पिता ने जघन्य अपराध किया है. वह हमेशा से जानता था कि उसके परिवार ने आपराधिक माध्यमों से अपना भाग्य हासिल कर लिया है, लेकिन उसने जानबूझकर इसे अनदेखा किया. हालांकि, जब एक महिला को आंखों के सामने गोली मार दी जाती है, तो वह इसे अनदेखी नहीं कर सकता. उसे पिता को बचाना चाहिए या उनकी निंदा करनी चाहिए. आज हम अन्याय को देखते हैं फिर भी हम में से कई लोग आंखे बंद कर लेते हैं. जब हम कुछ अनदेखी करते हैं तो मानवता की क्या कीमत होती है?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज