Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    महिला क्रू मेंबर के द्वारा लगाए छेड़छाड़ के आरोपों पर एक्टर विजय राज ने तोड़ी चुप्पी, बोले- क्या मैं पीड़ित नहीं?

    विजय राज (Photo Credit- @ANI/Twitter)
    विजय राज (Photo Credit- @ANI/Twitter)

    अभिनेता विजय राज (Vijay Raaz) ने अपने ऊपर लगे महिला क्रू मेंबर से छेड़छाड़ (Molestation) के आरोपों पर चुप्पी तोड़ी है. उन्होंने इस मामले पर सफाई देते हुए खुद को पीड़ित बताया है और सवाल भी पूछा है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 13, 2020, 8:49 PM IST
    • Share this:
    मुंबई. बॉलीवुड के जाने-माने अभिनेता विजय राज (Vijay Raj) को लेकर बीते दिनों चौंकाने वाली खबर आई थी. उन पर क्रू की एक महिला सदस्य से छेड़छाड़ का आरोप (Molestation Allegations) लगाया था. जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार किए जाने की भी खबरें आई थीं. बताया जा रहा था ये वाकया एक फिल्म की शूटिंग के दौरान हुआ था. फिल्म के लिए ये शूट बालाघाट में चल रहा था. इस मामले में काफी समय बाद अब जाकर एक्टर ने चुप्पी तोड़ी है. उन्होंने इस पर सफाई देने के साथ-साथ खुद को पीड़ित बताया है. विजय राज ने ये भी बताया है कि उन्होंने उस महिला क्रू मेंबर से माफी भी मांग ली है.

    अभिनेता विजय राज ने अपने ऊपर लगे आरोपों पर जवाब देते हुए छेड़छाड़ को आरोप को पूरी तरह से गलत बताया है. उन्होंने बॉम्बे टाइम्स से की गई बातचीत में कहा कि उन्होंने उस महिला से मांफी मांग ली है, इसलिए नहीं कि वो गलत थे बल्कि इसलिए कि वो महिला की भावनाओं का सम्मान करते हैं. उन्होंने कहा कि इस वाकये ने उनकी इमेज को बहुत नुकसान पहुंचाया है. विजय राज अरेस्ट हो गए थे लेकिन इसी महीने उन्हें जमानत भी मिल गई और वो अपने काम पर भी वापस लौट आए.

    उन्होंने इस इंटरव्यू में बताया कि 'महिला की सुरक्षा सबसे पहले है. मेरी 21 साल की एक बेटी है, इसलिए मैं मामले की गंभीरता को समझता हूं. मैं इस मामले की जांच में पूरा सहयोग करूंगा. लेकिन मुझे बहिष्कृत करना, सस्पेंड करना और मेरी आने वाली फिल्मों से मेरी सेवाएं खत्म कर देना, वो भी किसी जांच से पहले ही... ये चौंकाने वाला है. मेरे पास कहने के लिए कोई शब्द नहीं है. ये बहुत ही खतरनाक जगह है. मैं फिल्म इंडस्ट्री में 23 साल से काम कर रहा हूं'.



    उन्होंने कहा कि- 'लोग एक तरफ की बात सुनकर जज करते हैं, आप पर एक ठप्पा लग जाता है. मुझे जांच से पहले ही आरोपी ठहरा दिया गया. मेरा जिंदगी जीने का अधिकार बुरी तरह प्रभावित हुआ है. क्या मैं हां पर पीड़ित नहीं हूं? मेरे बूढ़े पिता दिल्ली में रहते हैं. उन्हें भी समाज का सामना करना है, मेरी बेटी को भी'.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज