अपना शहर चुनें

States

शेफ व‍िकास खन्ना ने फ‍िर क‍िया Tweet- मुझसे फिल्म रिव्यू के लिए मांगे थे पैसे

विकास खन्ना ने फिर किया एग्रेसिव ट्वीट
विकास खन्ना ने फिर किया एग्रेसिव ट्वीट

सेलिब्रिटी शेफ विकास खन्ना (VIKAS KHANNA) अपने एक ताजा ट्वीट के कारण सुर्खियों में हैं. उन्‍होंने अपने ट्वीट के जर‍िए खुलासा क‍िया है कि उनकी फिल्‍म 'द लास्‍ट कलर' का र‍िव्‍यू करने के ल‍िए उनसे पैसे मांगे गए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 21, 2021, 12:32 AM IST
  • Share this:
सेलिब्रिटी शेफ विकास खन्ना (VIKAS KHANNA) अपने एक ताजा ट्वीट के कारण सुर्खियों में हैं. विकास ने एक ट्वीट कर अपना गुस्सा जाहिर क‍िया और बताया कि क्रिटिक्स ने उनकी फिल्म के रिव्यू के लिए पैसे मांगे थे. बता दें विकास पहले भी इस बात को लेकर सोशल मीडिया पर लिख चुके हैं, जिसके बाद उन्हें हर तरह के रिएक्शन्स मिले थे. कुछ लोगों ने विकास खन्ना का सपोर्ट किया था, तो वहीं उन्हें खरी-खोटी भी सुननी पड़ी थी.

विकास गुप्‍ता ने ‘द लास्ट कलर’ से डायरेक्टोरियल डेब्यू किया, जिसमें नीना गुप्ता लीड रोल में है. फिल्म वृंदावन और वाराणसी में रहने वाली विधवाओं की जिंदगी पर आधारित है. अमेजन प्राइम पर रिलीज के बाद फिल्म को दर्शकों से तो शानदार प्रतिक्रिया मिल रही है, लेकिन इंडस्ट्री से समर्थन न मिलने से विकास खन्ना दुखी हैं. इसी दुख को शेयर करते हुए अपनी पोस्ट में विकास ने बिना किसी का नाम लिए लिखा- 3 स्टार के लिए 3 लाख, 4 स्टार के लिए 4 लाख. ये बातचीत मैं मरते दम तक नहीं भूल सकता.


विकास की इस पोस्ट पर डायरेक्टर विवेक रंजन अग्निहोत्री ने कमेंट किया- भाई ये बहुत ही भ्रष्ट दुनिया है. अपने क्रिएटिव काम के साथ चमकते रहो. तुम्हें शुभकामनाएं विकास.विवेक के अलावा नेशनल अवॉर्ड विजेता फिल्ममेकर अपूर्व असरानी ने भी पोस्ट पर कमेंट करते हुए लिखा- मुझे भी इस तरह के कॉल्स आए थे, जो कहते थे कि अगर मुझे अपने शो की सफलता पर स्टोरी या इंटरव्यू करना है तो मुझे पैसा देना होगा. लेकिन अगर आपने अच्छा काम किया, तो मीडिया इसे जरूर दिखाएगा.



विकास खन्ना ने एक ट्वीट में कहा था कि ‘लोग नेपोटिस्म और फेवरेटिस्म की निंदा करते हैं लेकिन एक सेल्फ-मेड को मौका नहीं देते’. उन्होंने कहा कि लोग नए लोगों के प्रति 'निर्दयी' होते हैं।

इसके पहले विकास ने सोशल मीडिया पर कंगना को सपोर्ट करते हुए लिखा कि जब कंगना फेवरिटिज्म, नेपोटिज्म पर बोल रहीं थी तब उन्हें बहुत बुरा लगा था. लेकिन अब वे भी कंगना की बात से पूरी तरह सहमत हैं. यहां बाहरी लोगों को एंट्री नहीं दी जाती है. भले ही उन्होंने अपना दिल और आत्मा, कला में झोंक दी हो. यह सुनकर बेहद दर्द होता है कि या तो आप पैसे दो या हम आपको बर्बाद कर देंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज