अमिताभ बच्चन को याद आए वो दिन, जब 2 रुपए की वजह से क्रिकेट क्लब में नहीं हो सके थे शामिल

अमिताभ बच्चन केबीसी को होस्ट करते हुए कई बार इमोशनल हुए.
अमिताभ बच्चन केबीसी को होस्ट करते हुए कई बार इमोशनल हुए.

जय कुलश्रेष्ठ (Jay Kulshreshtha) से बात करते हुए अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) ने बताया कि वह स्कूल क्रिकेट क्लब का मेंबर बनना चाहते थे, लेकिन ऐसा नहीं हो सका. क्योंकि इसके लिए उन्हें दो रुपये की जरूरत थी और उनके पास ये दो रुपये नहीं थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 2, 2020, 7:02 AM IST
  • Share this:
मुंबईः अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) का फेमस टीवी रियेलिटी शो 'कौन बनेगा करोड़पति' (Kaun Banega Crorepati) का 12वां सीजन (KBC 12) शुरू हो चुका है. शो शुरू होने के साथ ही दर्शकों में इसे लेकर काफी क्रेज देखने को मिल रहा है. शो के कुछ एपिसोड प्रसारित भी हो चुके हैं. जिसमें बिग बी शो के कंटेस्टेंट से सवाल करते हुए दर्शकों संग अपने जीवन से जुड़ी कुछ दिलचस्प कहानियां भी सुनाते दिखाई दिए. इस बीच हाल ही में केबीसी (KBC) के एक एपिसोड में अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan Emotional Story) ने अपने स्कूल के दिनों की एक बेहद इमोशनल कहानी शेयर की.

दरअसल, हॉटसीट पर बैठे जय कुलश्रेष्ठ ने शो के दौरान खुद से जुड़ी एक कहानी सुनाई. जय ने अपने बचपन की कहानी सुनाते हुए बताया कि वो अपने लिए 7 रुपये के स्नैक खरीदना चाहते थे, लेकिन उनकी मां के पास सिर्फ 5 रुपये थे. ऐसे में बिग बी ने भी उन दिनों को याद करते हुए कहा कि उनकी जिंदगी में भी एक दौर था, जब 2 रुपये का काफी महत्व था.

ये भी पढ़ेंः अमिताभ बच्चन ने शेयर की KBC की एक्सक्लूसिव तस्वीर, बोले- मैं प्रतिज्ञारत अंग दानकर्ता हूं



जय कुलश्रेष्ठ से बात करते हुए अमिताभ ने बताया कि वह स्कूल क्रिकेट क्लब का मेंबर बनना चाहते थे, लेकिन ऐसा नहीं हो सका. क्योंकि इसके लिए उन्हें दो रुपये की जरूरत थी. उन्होंने अपनी मां, तेजी बच्चन (Teji Bachchan) से 2 रुपये मांगे, लेकिन उनकी मां ने उन्हें यह कहकर रुपये देने से मना कर दिया कि उनके पास पैसे नहीं हैं. बिग बी आगे कहते हैं- उस दो रुपये का मूल्य मुझे आज समझ आता है.
ये भी पढ़ेंः KBC 12: अमिताभ बच्चन के कमरे में रोज घुस जाते थे चमगादड़, बीएमसी से की शिकायत तब हुआ चौंकाने वाला खुलासा

इसके साथ ही बिग बी ने एक और किस्सा याद किया. उन्होंने बताया कि उन्हें एक कैमरा चाहिए था. ये उन्हें मिला भी, लेकिन सालों बाद. उनके पिताजी, हरिवंशराय बच्चन (Harivansh Rai Bachchan) रूस से उनके लिए ये कैमरा लाए थे. उन्हें ये कैमरा तब मिला, जब वह एक एक्टर बन चुके थे. लेकिन, आज भी उनके पास वह कैमरा है. जो कि उनके लिए बेशकीमती है. बिग बी कहते हैं- 'चीजों का मूल्य हमारे जीवन भर हमारे साथ रहता है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज