Home /News /entertainment /

when rajesh khanna was nervous on stage and did not properly deliver his first dialogue pr

राजेश खन्ना जब पहली बार स्टेज पर पहुंचे तो कांपने लगे थे, ऐसे नर्वस हुए कि डायलॉग ही भूल गए

राजेश खन्ना के लिए भी पहली बार स्टेज पर जाना आसान नहीं था. (फोटो साभार: Movies N Memories/Twitter)

राजेश खन्ना के लिए भी पहली बार स्टेज पर जाना आसान नहीं था. (फोटो साभार: Movies N Memories/Twitter)

राजेश खन्ना (Rajesh Khanna) हर दिन थियेटर के एक कोने में बैठ जाते और नाटक का रिहर्सल कर रहे लोगों को बड़े ही ध्यान से देखा करते थे. साथ ही ये इंतजार भी करते कि शायद वी के शर्मा की नजर उनके ऊपर पड़ जाए और उन्हें काम मिल जाए. महीनों इंतजार के बाद एक दिन किस्मत राजेश पर मेहरबान हुई (Rajesh Khanna First Play). एक शो से कुछ दिन पहले ही एक एक्टर बीमार पड़ गया और रिहर्सल पर नहीं आ सका.

अधिक पढ़ें ...

राजेश खन्ना (Rajesh Khanna) की शानदार एक्टिंग, उनकी स्माइल, उनकी फैन फॉलोइंग के साथ-साथ उनके रोमांटिक जीवन की कई दिलचस्प कहानियां हमने सुनी और पढ़ी है. लेकिन आज आपको बताते हैं कि हिंदी सिनेमा के पहले सुपस्टार कहे जाने वाले राजेश भी जब पहली बार एक्टिंग करने गए तो बुरी तरह घबरा गए थे. हम सब जीवन में, हर काम पहली बार करते हैं, घबराहट भी होती है, गलतियां भी होती है लेकिन जो इससे पार पा जाता है वह जिंदगी की जंग का सिकंदर कहलाता है. कुछ ऐसा ही किस्सा फिल्मी इंडस्ट्री के काका यानी राजेश खन्ना का भी है. ये यकीन करना मुश्किल है कि जिस राजेश की एक झलक पाने के लिए लोग बेकरार रहा करते थे, उनका जब पहली बार दर्शकों से सामना हुआ था तो नर्वस (Rajesh Khanna was nervous) हो गए थे.

राजेश खन्ना अपने पिता की मर्जी के खिलाफ फिल्मी दुनिया में किस्मत आजमाने आए थे. राजेश के कॉलेज का एक दोस्त उस जमाने में बंबई की मशहूर ड्रामा कंपनी आईएनटी से जुड़ा हुआ था. इस कंपनी के डायरेक्ट वी के शर्मा हुआ करते थे. वे नाटक लिखते और निर्देशित करते, कई बार एक्टिंग भी कर लेते. जबरदस्त प्रतिभा के धनी शर्मा जी के ड्रामा कंपनी में रिहर्सल के वक्त राजेश भी पहुंच जाया करते थे.

काम पाने की आस में रोज थियेटर जाते थे राजेश
राजेश खन्ना एक थियेटर के एक कोने में बैठ जाते और नाटक का रिहर्सल कर रहे लोगों को बड़े ही ध्यान से देखा करते थे. साथ ही ये इंतजार भी करते कि शायद वी के शर्मा की  नजर उनके ऊपर पड़ जाए और उन्हें काम मिल जाए. महीनों इंतजार के बाद एक दिन किस्मत राजेश पर मेहरबान हुई. एक शो से कुछ दिन पहले ही एक एक्टर बीमार पड़ गया और रिहर्सल पर नहीं आ सका. शो का दिन नजदीक था लेकिन जब एक्टर ठीक नहीं हुआ तो परेशान डायरेक्टर उसकी जगह किसी को लेने की सोचने लगे. ऐसे में उनकी नजर राजेश पर पड़ी, जो हर दिन रिहर्सल देखने आया करते थे.

छोटा सा रोल मिला तो खुशी से झूम उठे काका
नाटक के डायरेक्टर ने राजेश को बुलाया और कहा कि एक छोटा सा रोल करोगे? राजेश की तो जैसे मुराद पूरी हो गई, इतने खुश हुए कि तुरंत तैयार हो गए. आखिर इस दिन का कितने दिन से इंतजार कर रहे थे. राजेश के जानने वालों ने बताया था कि राजेश को दरबान का रोल मिला था, लेकिन वह इतने नर्वस थे कि कांपने लगे थे. इस रोल का डायलॉग भी बहुत छोटा-सा था या यूं कहें कि सिर्फ एक लाइन बोलनी थी- ‘जी हुजूर, साहब घर में हैं’.

लोगों को देख राजेश खन्ना के छूट गए थे पसीने
इस छोटे से डायलॉग के लिए भी राजेश ने जमकर मेहनत की. पहली बार इतने लोगों के सामने डायलॉग बोलने की बात सोच कर ही उन्हें पसीना आ रहा था. पर्दा उठा..राजेश को आगे आकर अपना डायलॉग बोलना था, लेकिन जैसे ही उनकी नजर सामने बैठे लोगों पर पड़ी और कई जोड़ी निगाहें टकराई तो दिल जोर-जोर से धड़कने लगा, ऐसा लगा मानों आंखों के आगे अंधेरा छा गया है.

ये भी पढ़िए-राजेश खन्ना ने कभी सोचा भी नहीं था कि फैंस उनसे बोर भी हो सकते हैं, बुरी तरह हिल गए थे काका !

घबराहट में गलत डायलॉग बोल गए थे राजेश खन्ना
घबराहट में राजेश खन्ना ‘जी हुजूर, साहब घर में हैं’ की जगह ‘जी साहब हुजूर घर में हैं’ बोल गए. मीडिया को दिए एक इंटरव्यू में अपनी जिंदगी के इस पहले शो का जिक्र करते हुए राजेश ने बताया था कि ‘अपनी घबराहट पर मेरी आंखों में आंसू आ गए और मैं बिना किसी को कुछ बताए वहां से भाग गया था’.

Tags: Rajesh khanna, Throwback

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर