होम /न्यूज /मनोरंजन /

आनंद बख्शी के इन गानों ने पूरा किया उनके सिंगर बनने का सपना!

आनंद बख्शी के इन गानों ने पूरा किया उनके सिंगर बनने का सपना!

आनंद बख्शी की फाइल फोटो

आनंद बख्शी की फाइल फोटो

यूं तो आनंद बख्शी का हर गाना अपने आप में नायाब है, लेकिन उनमें से हम लेकर आए हैं आनंद बख्शी के 5 यादगार गाने.

    आनंद बख्शी ने लगभग चार दशक तक श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया, लेकिन बहुत कम लोगों को पता होगा कि वह गीतकार नहीं बल्कि प्लेबैक सिंगर बनना चाहते थे. पाकिस्तान के रावलपिंडी शहर में 21 जुलाई 1930 को जन्मे आनन्द बख्शी बचपन से ही फिल्मो में काम कर शोहरत की बुलंदियों तक पहुंचने का सपना देखते थे, लेकिन लोगों के मजाक उड़ाने के डर से उन्होंने अपनी यह मंशा कभी जाहिर नहीं की.

    फिल्म इंडस्ट्री में बतौर गीतकार स्थापित होने के बाद भी सिंगर बनने की आनंद बख्शी की हसरत हमेशा बनी रही. वैसे उन्होंने 1972 में प्रदर्शित फिल्म मोम की गुड़िया' में 'बागों मे बहार आई' गीत गाया जो लोकप्रिय भी हुआ. इसके साथ ही फिल्म चरस के गीत 'आजा तेरी याद आई' कि चंद पंक्तियों और कुछ अन्य फिल्मों में भी आनंद बख्शी ने अपना स्वर दिया. फिल्मी गीतों के बेताज बादशाह रहे आनंद बख्शी ने 550 से भी ज्यादा फिल्मों में लगभग 4000 गीत लिखे. बख्शी अपने करियर में चार बार सर्वश्रेष्ठ गीतकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किए गए.




    यूं तो आनंद बख्शी का हर गाना अपने आप में नायाब है, लेकिन उनमें से हम लेकर आए हैं आनंद बख्शी के 5 यादगार गाने...

    फिल्म 'जब जब फूल खिले' का गाना परदेसियों से न अखियां मिलाना अपने समय का उपर डुपर हिट गाना रहा. इस गीत को मोहम्मद रफ़ी ने अपने स्वर दिए.


    फिल्म 'मोम की गुड़िया' में गीतकार आनंद बख्शी ने अपनी ही आवाज़ दी है. ये बहुत कम ही लोग जानते होंगे की आनंद बख्शी सिंगर बनना चाहते थे और इसी कोशिश में उन्होंने इस गीत को अपनी आवाज़ दी जो काफी लोकप्रिय भी हुआ .


    धर्मेन्द्र और हेमा मालिनी की फिल्म 'चरस' के गाने 'आजा तेरी याद आई' में अपने स्वर दिए हैं. ये गाना आज भी उतना ही ताज़ा है जितना कि साल 1976 में फिल्म आने के दौरान था.


    आनंद बख्शी के गानों की इस लिस्ट में साल 1981 में आई फिल्म 'इक दूजे के लिए' का गाना सोलह बरस की बाली उम्र को सलाम एवरग्रीन गाना है.


    इस लिस्ट में आनंद बख्शी का ही एक और गाना ये रातें नई पुरानी, लता मंगेशकर की आवाज़ में है. ये गाना साल 1975 में आई फिल्म जूली का है.


    ये भी पढ़ें : इन YouTubers ने दी नोबिता-शिनचैन से लेकर अमरीश पुरी तक को अपनी आवाज़!undefined

    Tags: Bollywood, YouTubers

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर