• Home
  • »
  • News
  • »
  • entertainment
  • »
  • बॉम्बे हाईकोर्ट ने 65 साल से ऊपर के लोगों को फिल्म सेट पर नहीं आने देने के लिए उद्धव सरकार को लगाई फटकार

बॉम्बे हाईकोर्ट ने 65 साल से ऊपर के लोगों को फिल्म सेट पर नहीं आने देने के लिए उद्धव सरकार को लगाई फटकार

बॉम्बे हाईकोर्ट (फ़ाइल फोटो)

बॉम्बे हाईकोर्ट (Bombay High Court) ने फिल्म और टीवी कार्यक्रमों के सेट पर 65 साल से अधिक उम्र के लोगों को आने की अनुमति नहीं देने के मामले में महाराष्ट्र सरकार को फटकार लगाई.

  • Share this:
    मुंबई. बॉम्बे हाईकोर्ट (Bombay High Court) ने फिल्म और टीवी कार्यक्रमों के सेट पर 65 साल से अधिक उम्र के लोगों को आने की अनुमति नहीं देने के मामले में महाराष्ट्र सरकार को फटकार लगाई. अदालत ने कहा कि इस उम्र से अधिक के शारीरिक रूप से स्वस्थ व्यक्ति गरिमामय जीवन कैसे बिता पाएंगे अगर उन्हें बाहर निकलने और आजीविका हासिल करने की इजाजत ही नहीं दी जाएगी.

    जस्टिस एस जे कथावाला और जस्टिस आर आई छागला की बेंच ने प्रमोद पांडे की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए मंगलवार को ये टिप्पणियां की जिसमें राज्य सरकार द्वारा 30 मई, 2020 को जारी दिशा-निर्देशों को चुनौती दी गई है. इन दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि 65 वर्ष से अधिक वायु वाले किसी भी कास्ट या क्रू सदस्य को शूटिंग के दौरान फिल्म या टीवी सेट पर आने की अनुमति नहीं होगी.

    70 साल के याचिकाकर्ता ने कहा कि वह चार दशक से टीवी सीरियल और फिल्मों में छोटी भूमिकाएं निभा रहे हैं और उनके पास आय का कोई दूसरा स्रोत नहीं है. उन्होंने अपनी याचिका में कहा कि वह शारीरिक रूप से स्वस्थ हैं. इसके बावजूद उन्हें स्टूडियो तक जाने और शूटिंग में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं दी जा रही है.

    हाईकोर्ट ने सरकार से कहा कि छोटे किरदार निभाने वाले कलाकारों को स्टूडियो जाना पड़ता है और दो वक्त की रोटी कमाने के लिए काम मांगना पड़ता है. कोई भी निर्देशक या निर्माता उनकी भूमिका फेसटाइम, जूम या स्काइप से शूट नहीं करने वाला है.

    कोर्ट ने कहा, ''राज्य सरकार को एक हलफनामे में बताना होगा कि 65 वर्ष या उससे अधिक उम्र का कोई भी शारीरिक रूप से स्वस्थ व्यक्ति सम्मानित जीवन कैसे जिएगा अगर उसे आजीविका के लिए बाहर जाने की अनुमति नहीं होगी.''

    बेंच ने कहा कि सरकार को हलफनामे में यह भी बताना होगा कि इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी करते वक्त क्या किसी तरह के डेटा या सांख्यिकी पर विचार किया गया था. कोर्ट ने कहा कि यह भी स्पष्ट करना होगा कि क्या ट्रेन या बस या विमान से सफर करने वाले 65 वर्ष के अधिक उम्र के लोगों के लिए भी यही नियम है, क्या दुकान या निजी दफ्तरों में काम करने वाले इस उम्र के लोगों के लिए इस तरह का कोई नियम है.

    मामले में अगली सुनवाई 24 जुलाई को होगी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज