स्पोर्ट्स फिल्म नहीं 'एम.एस.धोनी : द अनटोल्ड स्टोरी': सुशांत

Agencies
Updated: September 29, 2016, 8:59 PM IST
स्पोर्ट्स फिल्म नहीं 'एम.एस.धोनी : द अनटोल्ड स्टोरी': सुशांत
तीन मिनट 17 सेकेंड के इस ट्रेलर के आखिर में जिन तीन खिलाड़ियों को मिसफिट बताते हुए धोनी बने सुशांत को दिखाया गया है, उस डायलॉग का इशारा आखिर किसकी तरफ है.

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत का कहना है कि 'एम.एस.धौनी : द अनटोल्ड स्टोरी' को लोग खेलों पर आधारित फिल्म समझने की गलती न करें क्योंकि यह सिर्फ और सिर्फ भारतीय टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी के जीवन पर आधारित फिल्म है और खेल इसका एक हिस्सा भर है.

  • Agencies
  • Last Updated: September 29, 2016, 8:59 PM IST
  • Share this:
अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत का कहना है कि 'एम.एस.धोनी : द अनटोल्ड स्टोरी' को लोग खेलों पर आधारित फिल्म समझने की गलती न करें क्योंकि यह सिर्फ और सिर्फ भारतीय टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी के जीवन पर आधारित फिल्म है और खेल इसका एक हिस्सा भर है.

सुशांत ने बताया कि फिल्म साइन करते वक्त उनके दिमाग में यही चल रहा था कि उन्हें इस किरदार को किस तरह अपने भीतर उतारना है ताकि ऐसा न लगे कि वह अभिनय कर रहे हैं बकौल सुशांत, "बचपन से मुझे क्रिकेट खेलना अच्छा लगता था.

मेरी बहन ने राष्ट्रीय स्तर पर क्रिकेट खेला है लेकिन मैं स्कूल की क्रिकेट टीम तक में नहीं चुना गया और अब इस पड़ाव पर आकर धौनी बना हूं तो मुझसे ज्यादा खुश और कौन हो सकता है?"

खेलों से जुड़ी फिल्में बॉक्स ऑफिस पर अच्छा कारोबार कर करती हैं तो ऐसे में सुशांत इस फिल्म की सफलता को लेकर कितने आश्वस्त हैं? इसके जवाब में वह कहते हैं, वास्तविक कहानियां लोगों को रुझाती हैं लेकिन ऐसी कई स्पोटर्स फिल्में हैं जो ज्यादा कमाल नहीं कर पाईं.

जब इस तरह की फिल्में नहीं चलती तो हम फिल्म की खराब कहानी का हवाला देते हैं और अगर चल जाती हैं तो स्पोटर्स फिल्म बोलकर खुश हो जाते हैं. फिल्मों के सफल-असफल होना कई चीजों पर निर्भर करता है."

सुशांत आगे कहते हैं, लोगों को पता है कि मैं एम.एस नहीं हूं. अगर कहानी अच्छी है तो यकीनन हिट होगी. लेकिन मैं यह साफ कर देना चाहता हूं कि यह फिल्म क्रिकेट के बारे में नहीं है."

फिल्म को लेकर धौनी के साथ किस तरह की ट्यूनिंग रही. इस पर सुशांत का कहना है, मैंने धौनी से जो भी सवाल पूछे, उन्होंने बड़ी ईमानदारी से उनका जवाब दिया. मुझे खुद के लिए यह साबित करना था कि मैं धौनी हूं और उसके लिए मेहनत जरूरी थी."
Loading...

सुशांत हालांकि इस किरदार को अपने लिए सबसे अधिक चुनौतीपूर्ण नहीं मानते. वह कहते हैं, मेरे अब तक के सभी किरदार चुनौतीपूर्ण रहे हैं लेकिन हां यह किरदार मेरे दिल के करीब है.

धोनी के हेलीकॉप्टर शॉट की पूरी दुनिया दीवानी है. इस शॉट को लेकर सुशांत के क्या अनुभव रहे? इसके जवाब में वह उत्साहित होकर कहते हैं, हेलीकॉप्टर शॉट धौनी ने ही ईजाद किया था.

मैंने तो सारे शॉट सीखे, जिसमें ये भी था. मेरे चार-पांच महीने तो सिर्फ बेसिक सीखने में ही लगे. शूटिंग के दौरान मैं चोटिल भी हुआ लेकिन मैंने इस फिल्म की शूटिंग के दौरान उस एक खास पल को जिया है जिसके लिए धौनी लोकप्रिय हैं.

धोनी ने एक छोटे से शहर रांची से भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान बनने तक का लंबा एवं संघर्षपूर्ण सफर तय किया है. इस मायने में वह धोनी से खुद को कितना जोड़ पाते हैं. सुशांत कहते हैं, मैं भी एक छोटे शहर से हूं और मैं जानता हूं कि छोटे शहर से इतनी लंबी दूरी तय करने के लिए कितना संघर्ष करना पड़ता है और यही हम दोनों के बीच में समान है.

यह पूछने पर कि धौनी बनना उनके लिए कितना मुश्किल था. वह कहते हैं, धोनी बनना बिल्कुल भी मुश्किल नहीं था. अगर मैं इंजीनियरिंग ही कर रहा होता तो वह मुश्किल होता. धोनी बनने के लिए मैं उत्सुक था.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनोरंजन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 29, 2016, 6:50 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...