ED के हत्थे चढ़ा बॉलीवुड का 'फाइनेंसर भाई' यूसुफ लकड़वाला, लगे हैं जमीन हड़पने के आरोप

करोड़ों रुपये के कई संदिग्ध लेनदेन के चलते लकड़ावाला ईडी के रडार पर आ गया. (फोटो: News18 English)

करोड़ों रुपये के कई संदिग्ध लेनदेन के चलते लकड़ावाला ईडी के रडार पर आ गया. (फोटो: News18 English)

Yusuf Lakdawala Case: 2019 में युसूफ लकड़वाला को गुजरात के अहमदाबाद इलाके से गिरफ्तार किया गया था. हालांकि उस वक्त पुलिस की टीम को जानकारी मिली थी कि वह बचने के लिए लंदन भागने की तैयारी कर रहा था.

  • Share this:

मुंबई. केन्द्रीय जांच एजेंसी ईडी (ED) ने एक बड़ी कार्रवाई को अंजाम देते हुए एक ऐसे आरोपी को गिरफ्तार किया है जो मुंबई समेत पूरे बॉलीवुड में फाइनेंसर भाई के नाम से मशहूर है. आरोपी का नाम युसूफ लकड़वाला (Yusuf Lakdawala) है, जिसे मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में ईडी की मुंबई ब्रांच द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया है. ये बॉलीवुड में काफी चर्चित शख्स है. हालांकि पुणे की आर्थिक अपराध शाखा (Economic Offences Wing) द्वारा ये दो साल पहले भी गिरफ्तार हो चुका है. लेकिन इस बार फिर से धोखाधड़ी और साजिश रचने के आरोप में केंद्रीय जांच एजेंसी ने शिकंजा कसा है. ईडी की टीम ने गुरुवार को मुंबई स्थित दफ्तर में कई घंटों की हुई पूछताछ के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया है.

फाइनेंसर भाई यानी युसूफ लकड़वाला का क्या है नवाबी महल कनेक्शन

ईडी के सूत्रों के मुताबिक युसूफ लकड़वाला के खिलाफ ईडी ने जो मामला दर्ज किया है वो काफी गंभीर है. दरअसल ये पिछले कई सालों मनी लॉन्ड्रिंग करके काफी पैसे बना चुका है. उसके बाद उसी पैसे को पिछले कई सालों से बॉलीवुड में निवेश करता रहा है. फिल्मों में पैसे निवेश करने और मुंबई में काफी चर्चित बिल्डर होने की वजह से इसका फिल्मी हस्तियों के अलावा नेताओं, पुलिस अधिकारियों और स्थानीय कई बदमाशों के साथ भी अच्छा कनेक्शन बन गया है.

इस बात का फायदा उठाकर ये अक्सर फाइनेंशियल फर्जीवाड़े के मामले को अंजाम देता रहता है. पिछले कुछ साल पहले युसूफ को खंडाला इलाके में एक खाली पड़ी प्रॉपर्टी की जानकारी मिली, उसके बारे में पता करने पर उसे ये जानकारी हुई कि ये हैदराबाद के नवाब रहे हिमायत नवाज जंग बहादुर की एक बहुत ही पुरानी और महंगी जमीन है. उस जमीन पर कब्जा करने के लिए उसने कई लोगों का सहारा लेते हुए फर्जी दस्तावेज तैयार करवाए.
इसके लिए कई सरकारी अधिकारियों, स्थानीय नेताओं और रियल स्टेट का कारोबार करने वाले एजेंट को साढ़े 11 करोड़ रुपये घूस देकर उस जमीन को अपने रिश्तेदार के नाम नाम करवा लिया. बाद में उसने जमीन को अपने नाम पर ट्रांसफर करा लिया था. ईडी के सूत्रों के मुताबिक उस विवादित प्रॉपर्टी की अनुमानित बाजार मूल्य करीब 52 करोड़ से ज्यादा आंकी जा रही है.

करोड़ों रुपये के कई संदिग्ध लेनदेन के चलते वह ईडी के रडार पर आ गया. लिहाजा इस मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच एजेंसी ने इस मामले में एक विशेष टीम का गठन करके इस मामले की तफ्तीश की गई और आरोपी फाइनेंसर भाई उर्फ युसूफ लकड़वाला को गिरफ्तार कर लिया गया. गिरफ्तारी के बाद जांच एजेंसी की टीम उसे स्थानीय कोर्ट में पेश करके उसकी रिमांड लेकर आगे की तफ्तीश कर रही है. फिलहाल अवैध रुपयों की आवाजाही को ईडी विस्तार से खंगाल रही है.




साल 2019 में युसूफ लकड़वाला को गुजरात के अहमदाबाद इलाके से मुंबई पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया था. हालांकि उस वक्त पुलिस की टीम को जानकारी मिली थी कि वह पुलिस से बचने के लिए लंदन भागने की तैयारी कर रहा था. उसी दौरान उसे गिरफ्तार कर लिया गया था. उस वक्त उसके खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी किया गया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज