बियॉन्ड द क्लाउड्स
3.5/5
पर्दे पर : 20 अप्रैल 2018
डायरेक्टर : माजिद मजीदी
संगीत : ए.आर.रहमान
कलाकार : ईशान खट्टर, मालविका मोहनन, तनिष्ठा चटर्जी
शैली : ड्रामा फिल्म
यूजर रेटिंग :
0/5
Rate this movie

Beyond The Clouds Review : पहली ही फिल्म से दिल छू गए ईशान खट्टर

तकनीक और कला का मास्टरपीस है माजिद मजीदी की ये फिल्म. कई मामलों में माजिद मजीदी हॉलीवुड फिल्ममेकर डैनी बॉयल को टक्कर देते नजर आ रहे हैं. ये फिल्म देखना मस्ट वॉच है.

News18Hindi
Updated: April 19, 2018, 9:20 AM IST
Beyond The Clouds Review : पहली ही फिल्म से दिल छू गए ईशान खट्टर
Beyond the clouds
News18Hindi
Updated: April 19, 2018, 9:20 AM IST
विवेक शाह

निराशा के बादलों से दूर एक उम्मीद और फिर जिंदगी की महक को दर्शकों तक पहुंचाती है ईरानी फिल्ममेकर माजिद मजिदी की फिल्म बियॉन्ड द क्लाउड्स. भारतीय कहानी को ग्लोबल मैप पर जिस तरह माजिद ने पेश करने की कोशिश की है, वह अपने आप में काबिले तारीफ है. इस फिल्म के जरिये वह स्लमडॉग मिलिनेयर बनाने वाले हॉलीवुड निर्देशक डैनी बॉयल को टक्कर देते नजर आ रहे हैं. फिल्म की कहानी आमिर और उसकी बहन तारा के इर्द-गिर्द घूमती है. दोनों की जिंदगी कड़े इम्तेहानों के दौर से गुजर रही है. भाई को बचाने की कोशिश में बहन तारा जेल चली जाती है. भाई के रोल में हैं ईशान खट्टर और बहन के रोल में हैं मालविका मोहनन. कई जगह पर फिल्म 1997 में आई चिल्ड्रन ऑफ हेवन का विस्तृत वर्णन लगती है. इस फिल्म को भी माजिद मजीदी ने ही बनाया था, बस फर्क ये है कि इस बार फिल्म की शूटिंग मुंबई में हुई है.

फिल्म में हर बार की तरह माजिद ने मानवीय सवेंदनाओं को काव्यात्मक खूबसूरती से पेश किया है. मजीदी एक ऐसे फिल्ममेकर हैं, जो सत्यजीत रे से काफी गहरे तक प्रेरित हैं. ये बात उनके सिनेमा में भी साफ नजर आती है. कहानी के साथ फिल्म की कास्टिंग को लेकर भी निर्देशक माजिद मजीदी का विजन साफ नजर आता है. ईशान और मालविका के अलावा किसी और कलाकार को इस रोल में फिट कर पाना फिल्म देखने के बाद काफी मुश्किल नजर आता है. ईशान खट्टर ने अपनी इस पहली ही फिल्म से दिखा दिया है कि उनमें असीम संभावनाएं हैं और भविष्य में वह बिना किसी शक के सिनेप्रेमियों के दिल में अपनी खास जगह बनाने वाले हैं. मलयालम एक्ट्रेस मालविका मोहनन भी अपने बॉलीवुड डेब्यू से बेहद इंटेंस, पावरफुल और दमदार नजर आई हैं. फिल्म में तनिष्ठा चटर्जी की भूमिका काफी सीमित है, लेकिन अच्छी है.

तकनीकी और कलात्मक दोनों ही तरह से फिल्म एक मास्टरपीज है. भारतीय सिनेमेटोग्राफर अनिल मेहता का काम भी आकर्षित करता है. फिल्म का विज्युअल एक्सपीरियंस भी काफी बेहतरीन है. हालांकि फिल्म में ए.आर.रहमान का संगीत कुछ ज्यादा आकर्षित नहीं करता है. पटकथा से जुड़ी कुछेक कमजोरियों को छोड़ दें, तो बियॉन्ड द क्लाउड्स एक मस्ट वॉच फिल्म है.

 

(इसका अंग्रेजी रिव्यू PickdFlick पर भी पढ़ सकते हैं.)

 

डिटेल्ड रेटिंग

कहानी :
4/5
स्क्रिनप्ल :
3.5/5
डायरेक्शन :
4/5
संगीत :
3.5/5
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर