/5
पर्दे पर:
डायरेक्टर :
संगीत :
कलाकार :
शैली :
यूजर रेटिंग :
0/5
Rate this movie

'Deadly Illusions' Film Review: ये थ्रिलर सिर्फ वयस्क ही देखें तो बेहतर है

मानसिक बीमारी से पीड़ित एक और लेखिका की कहानी देखनी हो तो देखिये नेटफ्लिक्स पर 'डेडली इल्यूजन्स'.

कहानी एक लेखिका मैरी मॉरिसन (कर्स्टन डेविस) की है, जो अपना नया उपन्यास लिखना शुरू करती है और घर के काम, बच्चों को संभालने के लिए एक हाउस-हेल्प ग्रेस (ग्रीयर ग्रामर) को रख लेती है.

  • Share this:
अमेरिका में एक बात तो बड़ी कॉमन है. सभी के सभी किसी न किसी तरह की मानसिक बीमारी से त्रस्त हैं. अमेरिका की फिल्में देखकर तो कोई भी यही समझेगा. संभव है कि एकल परिवार जहां पति-पत्नी और एक या दो बच्चे होते हैं, वहां किसी बुजुर्ग का साया न होना, रिश्तेदारों का छटे-चौमासे मिलना और भाई बहनों में भी बरसों की दूरी होना, बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य पर असर डालते हैं और आस पास की कमर्शियल- मटेरियल दुनिया देखकर, जीवन में किसी मृदु भावना का जन्म न ले पाना भी एक समस्या ही है. मानसिक बीमारी से पीड़ित एक और लेखिका की कहानी देखनी हो तो देखिये नेटफ्लिक्स पर 'डेडली इल्यूजन्स'. करीब 2 घंटे की फिल्म है और थ्रिलर होने के साथ-साथ न्यूडिटी और सेक्स भी रखा गया है. इस वजह से नेटफ्लिक्स की सबसे सफल फिल्मों में एक मानी जाती है.

फिल्मः डेडली इल्यूजन्स
भाषाः इंग्लिश
ड्यूरेशनः 114 मिनट्स
ओटीटीः नेटफ्लिक्स

कहानी एक लेखिका मैरी मॉरिसन (कर्स्टन डेविस) की है, जो अपना नया उपन्यास लिखना शुरू करती है और घर के काम, बच्चों को संभालने के लिए एक हाउस-हेल्प ग्रेस (ग्रीयर ग्रामर) को रख लेती है. दोनों में अच्छी जमने लगती है और मैरी का ग्रेस के प्रति यौनाकर्षण हो जाता है जो हर दिन बढ़ता रहता है. वो दिन भर अपने और ग्रेस के बीच होने वाले यौन संबंधों की कल्पना करने लगती है. मैरी को लगता है कि ग्रेस और मैरी के पति के बीच कोई चक्कर चल रहा है, ग्रेस बच्चों से करीब होती जा रही है और मैरी दूर. एक दिन मैरी को पता चलता है कि जिस एजेंसी से ग्रेस आयी है उस एजेंसी में ग्रेस नाम की कोई लड़की काम ही नहीं करती. मैरी अपनी दोस्त के क्लिनिक जाती है तो वहां उसकी लाश मिलती है और पुलिस को मैरी पर ही शक होता है. जांच के दौरान मैरी, ग्रेस के गांव जा कर उसके परिवार से मिलती है. पता चलता है कि ग्रेस मानसिक रोगी है, उसके माता पिता उसे बचपन में मारते थे इसलिए ग्रेस कभी कभी हिंसक हो जाती है. उसके अंदर एक और पर्सनालिटी है "मार्गरेट" जो कि ग्रेस से गलत काम करवाती है. मैरी अपने पति को ये बताने के लिए फ़ोन करती है तो वो फ़ोन नहीं उठाता. ग्रेस तब तक मैरी के पति पर आक्रमण कर चुकी होती है. खैर पहले मैरी और फिर पुलिस पहुंच कर सबकी जान बचते हैं. ग्रेस मेन्टल हॉस्पिटल में भेज दी जाती है और मैरी का उपन्यास पूरा हो जाता है. अंत में एक छोटा सस्पेंस है जो कहानी के लिहाज से महत्वपूर्ण है.

हिंदुस्तान के परिवेश में इस तरह की घटनाओं का कभी कोई उल्लेख नज़र नहीं आता है इसलिए बचपन में माता-पिता द्वारा की गयी पिटाई हमें असहज नहीं लगती. मल्टीपल पर्सनालिटी की कहानियां भी अमेरिका के मानसिक रोगों के इतिहास में देखने को मिली हैं, हिंदुस्तान में ऐसा कुछ कानूनन स्वीकार्य भी नहीं है. लेखन एक बहुत ही एकाकी काम है, लिखने वाले का दिमाग किसी भी दिशा में जा सकता है, लेकिन हमेशा वो सेक्स की तरफ जाएगा इसकी उम्मीद कम होती है. अमेरिकन लेखकों के इतिहास में एक बात और देखने को मिलती है कि उनके लेखन-समय में इस तरह के ख़यालात ज़्यादा होता हैं. तकरीबन हर लेखक, किसी न किसी तरह से सेक्स और लेखन को एक रूप में देखने का प्रयास करता ही है. हिंदुस्तान में ऐसा कम देखने को मिला है.

कहानी थोड़ी टेढ़ी है. हमारे परिवेश के हिसाब से नहीं है फिर भी दिलचस्प है. ऐना एलिज़ाबेथ जेम्स ने फिल्म लिखी और निर्देशित भी की है और इसके बावजूद, फिल्म की अवधि एकदम सही है. फिल्म बोर नहीं करती और एडिटर ब्रायन स्कोफ़ील्ड ने भी फिल्म की रफ़्तार बनाये रखने में खासी मेहनत की है. मैरी और ग्रेस के अंतरंग दृश्य चूंकि मैरी की कल्पना की उपज हैं, उसमें माइक मैकमिलिन की सिनेमेटोग्राफी ने कैमरा प्लेसमेंट में कमाल काम किया है. कुछ दृश्यों में सिर्फ कैमरा ही सस्पेंस पैदा करने में कामयाब हुआ है. माइक ने ज़्यादातर शॉर्ट फिल्म्स शूट की हैं और इस फिल्म में भी कई दृश्यों को फिल्माने का अंदाज़ वैसा ही है. कम समय में ज़्यादा बात, एक ही फ्रेम में सब कुछ कह जाने की जो प्रवृत्ति है, उसमें माइक ने अपनी प्रतिभा खूब दर्शाई है. फिल्म वयस्कों के लिए है. देर रात को देखिये. बच्चों के साथ देखने की भूल मत कीजियेगा. साइकोलॉजिकल थ्रिलर है, गहरा असर करती है. छोटी सी कहानी होने के बावजूद, 2 घंटे तक आप ऊबेंगे नहीं. शनिवार या रविवार रात को देखना बेहतर रहेगा.

डिटेल्ड रेटिंग

कहानी:
/5
स्क्रिनप्ल:
/5
डायरेक्शन:
/5
संगीत:
/5