फन्ने खां
2.5/5
पर्दे पर : 3 अगस्त 2018
डायरेक्टर : अतुल मांजरेकर
संगीत : अमित त्रिवेदी
कलाकार : अनिल कपूर, ऐश्वर्या राय, दिव्या दत्ता, राजकुमार राव
शैली : कॉमेडी, म्यूजिक
यूजर रेटिंग :
0/5
Rate this movie

Film Review: फन्ने खां का संदेश अच्छा, मगर स्क्रिप्ट कमजोर

बेल्जियन फिल्म एवरीबडीज फेमस पर आधारित है अनिल कपूर की फिल्म फन्ने खां

News18Hindi
Updated: August 3, 2018, 4:47 PM IST
Film Review: फन्ने खां का संदेश अच्छा, मगर स्क्रिप्ट कमजोर
फन्ने खां फिल्म पोस्टर
News18Hindi
Updated: August 3, 2018, 4:47 PM IST
विवेक शाह

फन्ने खां एक ऐसे सिंगर की कहानी है, जो अपनी बेटी को संगीत की दुनिया में पॉपुलर बनाना चाहता है.
अतुल मांजरेकर निर्देशित ये म्यूजिकल कॉमेडी फिल्म 2002 में आई बेल्जियन फिल्म एवरीबडीज फेमस का रीमेक है. बाप-बेटी के रिश्ते पर केंद्रित इस फिल्म में मुख्य भूमिका निभाई है अनिल कपूर, ऐश्वर्या राय बच्चन, राजकुमार राव ने. उनके साथ नजर आ रहे हैं दिव्या दत्ता, करण सिंह छाबड़ा, पीहू संद, अनीता नायर, गिरिश कुलकर्णी और स्वाति सेमवाल. फिल्म की कहानी एक ऑटो ड्राइवर यानी अनिल कपूर पर आधारित है. वह अपने समय में सिंगर भी था. उसकी एक बेटी है, जिसका वजन ज्यादा है, लेकिन वो एक रॉकस्टार बनना चाहती है.

उसके इस सपने को पूरा करने के लिए अनिल कपूर एक रॉकस्टार को किडनैप कर लेते हैं. रॉकस्टार के इस रोल को निभाया है ऐश्वर्या राय बच्चन ने. इस किडनैपिंग में अनिल कपूर का साथ दिया राजकुमार राव ने. शुरुआत में फिल्म एक खूबसूरत संदेश देती है, 'आपको हमेशा खुद पर भरोसा रखना चाहिए. जो कुछ आपके पास है, उस पर भरोसा रखे, सारा जादू आपके भीतर है.' जिंदगी बहुत खूबसूरत है और इसलिए हमें इसका पूरा अनुभव लेना चाहिए. जो भी और जैसा भी आपको जीने के लिए मिले, उसमें हमें मुस्कुराना चाहिए.

फिल्म धीरे-धीरे आगे बढ़ती है और कई जगह पर मेलोड्रामा भी लगती है. सेकेंड हाफ में फिल्म अपनी गति खोती नजर आती है. मिडिल क्लास आदमी के तौर पर अनिल कपूर ने अच्छा बैलेंस बनाया है. वह सपनों और वास्तविकता के बीच संघर्ष करते नजर आ रहे हैं.

राजकुमार राव का रोल छोटा है, लेकिन उन्होंने अपना पूरा दमखम दिखा दिया है. ऐश्वर्या राय बच्चन का भी रोल छोटा ही है. वह कोई खास प्रभाव भी नहीं छोड़ पाती हैं. अनिल कपूर की पत्नी के तौर पर दिव्या दत्ता परफेक्ट पार्टनर साबित हुई हैं. फिल्म कोई खास प्रभाव नहीं छोड़ पाती है. स्क्रिप्ट काफी कमजोर है. फिल्म देखने के बाद आपको इसे भूलने में देर नहीं लगेगी.

इस फिल्म रिव्यू को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए के लिए PickdFlick पर क्लिक करें.

ये भी पढ़ें
Film Review : 'मुल्क' आंखों के लिए अच्छा सुरमा है पर इसमें थोड़ी किरकिरी भी है

डिटेल्ड रेटिंग

कहानी :
2/5
स्क्रिनप्ल :
2/5
डायरेक्शन :
2/5
संगीत :
2/5
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर