Film Review : पंजाबी ह्यूमर के साथ गंभीर बात करती है सन ऑफ मंजीत सिंह

इस फिल्म की कहानी से आपको आमिर खान की फिल्म ‘तारे जमीन पर’ और ‘थ्री इडियट्स’ याद आ जाएगी. कुछ ऐसी ही लाइन पर बनी उन फिल्मों जमीन से जुड़ा वर्जन है ‘सन ऑफ मंजीत सिंह’.

Sushant Mohan | News18Hindi
Updated: October 12, 2018, 11:07 PM IST
Film Review : पंजाबी ह्यूमर के साथ गंभीर बात करती है सन ऑफ मंजीत सिंह
सन ऑफ मंजीत सिंह
Sushant Mohan | News18Hindi
Updated: October 12, 2018, 11:07 PM IST
आपकी ज़िंदगी में भी कभी न कभी ऐसा हुआ होगा जब आपके पिता ने आपकी किसी पसंदीदा चीज़ पर रोक लगा दी होगी या आपकी मां या आपके परिवार के चलते आप किसी मनपसंद चीज़ से हाथ धो बैठे होंगे, लेकिन इसके लिए आपने जरा भी दुख नहीं मनाया होगा. अगर आपका जवाब हां है, तो आप हैं सन ऑफ मंजीत सिंह. पंजाबी फिल्मों में जहां आमतौर पर सिर्फ नाच गाने और कॉमेडी की बातें होती हैं वहीं इस फिल्म में एक गंभीर मुद्दे को उठाने की कोशिश की गई है. मुद्दा है, अपने बच्चों को उनके सपने जीने देने की आजादी देना.

मंजीत सिंह अपने बेटे के करियर को लेकर चिंतित हैं. वो चाहते हैं कि उनका बेटा पढ़-लिख कर एक नौकरी कर ले, वहीं मंजीत का बेटा पढ़ाई में कमजोर है पर एक बेहतरीन खिलाड़ी है. वो क्रिकेट खेलना चाहता है और यही उसका सपना है. लेकिन पिता की ख्वाहिश और बेटे के सपने की इस जंग में किसकी जीत होगी, इसी की कहानी है – सन ऑफ मंजीत सिंह.

इस फिल्म की कहानी से आपको आमिर खान की फिल्म ‘तारे जमीन पर’ और ‘थ्री इडियट्स’ याद आ जाएगी. कुछ ऐसी ही लाइन पर बनी उन फिल्मों जमीन से जुड़ा वर्जन है ‘सन ऑफ मंजीत सिंह’. वैसे तो इस फिल्म में कपिल शर्मा का नाम जुड़ा है लेकिन फिल्म के मुख्य किरदार हैं गुरप्रीत गुग्गी. गुरप्रीत पहले ही फ्रेम से फिल्म में छाए हुए हैं और एक मिडिल क्लास पिता को रोल में वो जंचते हैं. वहीं फिल्म से अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत कर रहे दमनप्रीत ने फिल्म में अच्छा काम किया है.

kapil Sharma
कपिल शर्मा


फिल्म की कहानी प्रेडिक्टेबल होने की वजह से आपको चौंकाती नहीं है लेकिन पंजाबी ह्यूमर का तड़का आपको हंसा ज़रुर देगा. इसके किसी भी सीन में आपको आमिर खान के किसी फिल्म की कॉपी नहीं दिखेगी और यही इस फिल्म की जीत है.

इस फिल्म के बारे में खुद कपिल ने कहा था कि वो अपनी फिल्म फिरंगी को इतना नहीं बेच रहे थे जितना इस फिल्म को बेच रहे हैं क्योंकि इस फिल्म में वो बात है जो किसी अच्छी फिल्म में होती है.  कपिल की बात सही है भी. इस फिल्म में आपको, आप खुद नज़र आ जाएंगे. फिल्म के एक दृश्य में जब पिता मंजीत, बेटे का बैट तोड़ते हैं तो हॉल में बैठे कई दर्शकों के आँसू निकल जाते हैं.

Son of Manjeet Singh
सन ऑफ मंजीत सिंह

Loading...

इस फिल्म में भावुक करने वाले कई दृश्य हैं लेकिन विक्रम ग्रोवर की बतौर निर्देशक ये पहली फिल्म है और उनका नयापन दिखता है. फिल्म के कई सीन रीटेक किए जा सकते थे. साथ ही कई जगह पर ऑडियो सिंक ही खराब हो जाता है. लेकिन इस सबके बाद भी ये एक अच्छी पारिवारिक फिल्म है जिसे आप अपने परिवार के साथ देख सकते हैं.

अपने बच्चों के लिए पिता और पिता के लिए बच्चे क्या कर सकते हैं – इसी की कहानी बयां करती है ये फिल्म और अगर आप पंजाबी समझते हैं तो ये फिल्म आपको पसंद आएगी.

ये भी पढ़ें
Film Review Tumbadd : आप लालची हैं तो ये फिल्म आपको पसंद ज़रुर आएगी
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर