Home /News /entertainment /

Film Review: हॉलीवुड की इस हॉरर फिल्म से शुरू हुआ 2018 का बॉक्स ऑफिस

इनसिडियस : द लास्ट की
इनसिडियस : द लास्ट की
3.5/5
पर्दे पर:05 जनवरी 2017
डायरेक्टर : एडम रॉबिटेल
संगीत : जोसफ बिशारा
कलाकार : लिन शे, एंगस सैंपसन, ली व्हेनल
शैली : हॉरर
यूजर रेटिंग :
0/5
Rate this movie

Film Review: हॉलीवुड की इस हॉरर फिल्म से शुरू हुआ 2018 का बॉक्स ऑफिस

इनसिडियस फिल्मों की चौथी फिल्म इस सीरीज़ की आखिरी फिल्म भी हो सकती है.

इनसिडियस फिल्मों की चौथी फिल्म इस सीरीज़ की आखिरी फिल्म भी हो सकती है.

Film Review : हॉलीवुड की इस हॉरर फिल्म से शुरु होगा 2018 का बॉक्स ऑफिस

    साल का पहला शुक्रवार होने के चलते आज बॉलीवुड की कोई फ़िल्म रिलीज़ नहीं हो रही है लेकिन हॉलीवुड अपनी हिट हॉरर फ्रेचाइजी 'इनसिडियस' के चौथे भाग 'दि लास्ट की' को रिलीज कर रहा है. साल 2010 में इनसीडियस फिल्मों की पहली कड़ी आई थी और तब से इस फिल्म की एक अच्छी खासी फैन फॉलोइंग है.

    हॉलीवुड की सबसे डरावनी फिल्मों में शुमार 'कॉन्जयुरिंग' को टक्कर देती इन फिल्मों में कहानी 60 की उम्र पार कर चुकी प्रेतात्मा विशेषज्ञ एलिसे रेनर और उनके द्वारा सुलझाए गए पैरानॉर्मल केसेस के इर्द गिर्द घूमती है.

    साल 2010 में रिलीज हुई पहली इनसिडियस फिल्म में एलिसे को एक ऐसे बच्चे को प्रेतात्माओं से बचाना था, जिसकी आत्मा दूसरी दुनिया में खो गई थी और इस दुनिया में उसका शरीर कोमा में पड़ा था. दूसरी दुनिया में फंसे उस बच्चे के ज़िंदा शरीर को बुरी आत्माओं ने इस दुनिया में आने का ज़रिया बना लिया था और इस पूरे किस्से को रोकने के लिए एलिसे को दूसरी दुनिया में जाकर उस बच्चे को बचाना था.

    इस फिल्म की पहली ही कड़ी में एलिसे की मौत हो जाती है, इनसिडियस के निर्माताओं ने माना भी है कि पहली ही फिल्म में एलिसे को मार देना एक भूल थी क्योंकि अब वो इस किरदार को एक सीमित समय तक ही इस्तेमाल कर सकते हैं. साल 2010 के बाद 2013 में जब दूसरी इनसिडियस फिल्म रिलीज हुई तो एलिसे के किरदार को एक आत्मा के रुप में फिल्म में शामिल किया गया. तीसरी फिल्म में एलिसे के एक पुराने केस को दिखाया गया और अब चौथी कड़ी में पहली फिल्म तक की घटनाओं को जोड़ा गया है.

    कहानी
    दूसरी दुनिया और इस दुनिया के बीच आती-जाती शैतानी आत्माओं पर बनी इनसिडियस फिल्मों के चाहने वाले कई हैं और इस फिल्म का चौथा भाग भी इंप्रेस करता है.

    फिल्म एलिसे रेनर के बचपन पर प्रकाश डालती है और एलिसे के किरदार को खुल कर स्थापित करती है. एलिसे का बचपन काफी बुरा बीता है. अकेलेपन और पिता के बुरे बर्ताव से परेशान एलिसे मैक्सिको के एक दूरदराज के इलाके में रहती थी. उस घर में वो कुछ भुतहा अनुभव से गुजरती है और उसे दूसरी दुनिया के लोगों से बात करने की अपनी शक्तियों का अनुभव होना शुरु हो जाता है.

    लेकिन इस अनुभव की कीमत एलिसे को भारी पड़ती है. एलिसे को एहसास हो जाता है कि दूसरी दुनिया में मौजूद एक रहस्यमयी आत्मा उसके पीछे लग चुकी है. इस आत्मा से बचने के लिए वो अपने घर परिवार को छोड़कर अमेरिका चली जाती है. लेकिन किसमत कुछ ऐसा खेल रचती है कि सालों बाद एलिसे को अपने पुश्तैनी घर लौटना पड़ता है एक ऐसी लड़की की मदद के लिए जिसे कोई रहस्यमयी आत्मा परेशान कर रही होती है. ये वही आत्मा है जिसे एलिसे ने देखा था.

    निर्देशन
    एडम रॉबिटेल इस फिल्म को पहली बार निर्देशित कर रहे हैं और वो इस फिल्म के साथ इंसाफ करने की पूरी कोशिश भी करते हैं लेकिन इस फिल्म की कहानी कहां खत्म होगी दर्शकों को पता है और इस वजह से फिल्म डराने में नाकाम रहती है.

    सभी को पता है कि एलिसे इस फिल्म में बच जाएंगी क्योंकि साल 2010 में आई फिल्म का ये प्रीक्वल है. निर्देशक एडम कई बार सस्पेंस को बढ़ाने के लिए कुछ चीज़ों पर कैमरा को लंबे समय तक फोकस रखते हैं, आपको लगता है कि इसमें से भूत निकलेगा लेकिन ऐसा कुछ नहीं होता.

    एडम की सबसे बड़ी कमजोरी रही एलिसे के सहायकों टकर और स्पेक्स की रोमांटिक लाइफ दिखाने की कोशिश. जिस तरह से रामसे फिल्मों में जबर्दस्ती ग्लैमरस गाने और दृश्य डाले जाते हैं. इस फिल्म में भी एलिसे की भांजियो पर एलिसे के दो सहायक लाइन मारते नजर आते हैं जो इस फिल्म की कहानी के हिसाब से बेतुका लगता है.

    संगीत
    इस फिल्म का बैकग्राउंड स्कोर फिल्म की जान है और कुछ दृश्यों में सिर्फ संगीत ही आपके रोंगटे खड़े कर सकता है.

    अभिनय
    फिल्म में एलिसे का किरदार निभा रही लिन शे ने सबसे उम्दा एक्टिंग की है. लिन के अभिनय की तारीफ इसलिए भी करनी होगी कि वो असल ज़िंदगी में 74 साल की हैं लेकिन स्क्रीन पर इस बात का एहसास नहीं होता. लिन शे जानती हैं कि इनसिडियस सीरीज़ में ये उनका आखिरी अपीरियंस हो सकता है और वो अपने आखिरी को अपना बेस्ट बनाना चाहती हैं.

    लिन के सहायकों के किरदार को निभाने में एंगस सैंपसन और ली व्हेनल ने ठीक ठाक काम किया है लेकिन फिल्म की जान है फिल्म का मुख्य विलेन जिसके बारे में आपको फिल्म देखकर ही पता करना चाहिए.

    एक डीमन या पिशाच का काम होता है डराना और की फेस के किरदार में जेवियर बोटेट ये काम आसानी से करते हैं. लेकिन फिल्म की खासियत है जोसफ बिशारा का किरदार. जोसफ फिल्म के संगीतकार भी हैं और फिल्म में उस पिशाच के रोल में हैं जो पहली फिल्म से एलिसे का दुश्मन बना है.

    इस फिल्म की कहानी उतना महत्व नहीं रखती जितनी इस फिल्म की बनावट, फिल्म डराती है, रोंगटे खड़ी कर देती है, बस एक बात का ख्याल रखें. इस फिल्म के पिछले भाग अगर आप देख सकें तो ज़रुर देख लें वर्ना फिल्म के कई ऐसे सीन जो पिछली फिल्मों के सस्पेंस खोलते हैं आपके लिए समझने मुश्किल हो जाएंगे. नया साल मुबारक!

    डिटेल्ड रेटिंग

    कहानी:
    3.5/5
    स्क्रिनप्ल:
    4/5
    डायरेक्शन:
    3.5/5
    संगीत:
    2/5

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर