मिशन इंपॉसिबल - फॉलआउट
4/5
पर्दे पर : 27 जुलाई 2018
डायरेक्टर : क्रिस्टोफर मैक्वरी
संगीत : लोर्न बाल्फ़
कलाकार : टॉम क्रूज़, हेनरी काविल, रिबेका फर्ग्युसन
शैली : एक्शन, एडवेंचर, थ्रिलर
यूजर रेटिंग :
0/5
Rate this movie

Film Review : इस बार मिशन इंपॉसिबल में 'सुपरमैन' से टकरा गए टॉम क्रूज़

56 साल की उम्र में अभिनेता टॉम क्रूज़ दांतो तले उंगली दबा लेने वाले स्टंट करते हैं और वो साबित करते हैं कि इस उम्र में भी वो किसी से कम नहीं.

News18Hindi
Updated: July 25, 2018, 4:58 PM IST
Film Review : इस बार मिशन इंपॉसिबल में 'सुपरमैन' से टकरा गए टॉम क्रूज़
मिशन इंपॉसिबल की छठी फिल्म में फिर से दिखेंगे टॉम क्रूज़
News18Hindi
Updated: July 25, 2018, 4:58 PM IST
फिल्म समीक्षक - विवेक शाह

जो काम ब्रिटेन के लिए जेम्स बॉन्ड करता है, ठीक वही काम अमेरिका के लिए एजेंट ईथन हंट करता है. मिशन इंपॉसिबल हॉलीवुड की हिट फ्रेंचाइज़ी है और टॉम क्रूज़ के करियर में इन फिल्मों का भारी योगदान है. 1996 में इस सीरीज़ की पहली फिल्म के बाद से हर चार-छह साल में मिशन इंपॉसिबल की एक फिल्म आ जाती है और बॉन्ड फिल्मों से अलग इन फिल्मों में अभी तक टॉम क्रूज़ ही लीड रोल में नज़र आए हैं. इस बार भी एजेंट हंट और उनके जाने पहचाने साथी एक मिशन पर हैं और हर बार की तरह इस बार भी मिशन कुछ गड़बड़ हो गया है.

मिशन इंपॉसिबल की इस छठी फिल्म का नाम 'फॉलआउट' रखा गया है और इसके लेखक और निर्देशक हैं क्रिस्टोफर मैक्वरी. क्रिस्टोफर इससे पहले मिशन इंपॉसिबल का पांचवा भाग 'रोग नेशन' निर्देशित कर चुके हैं और उस फिल्म की जबर्दस्त प्रशंसा हुई थी. अब वो एक बार फिर से इस फिल्म को निर्देशित कर रहे हैं और टॉम क्रूज़ उनके पसंदीदा हीरो हैं ही. मिशन इंपॉसिबल सीरीज़ का सबसे बड़ा अट्रैक्शन होता है इन फिल्मों का पहला सीन. यहां भी पहला ही सीन आपके रोंगटे खड़े कर देगा.

इन फिल्मों की कहानी लगभग एक जैसी ही रहती है लेकिन हर बार फिल्म के भव्य सेट, मेगा एक्शन सीन और फिर टॉम क्रूज़ इन फिल्मों की जान बनते हैं. फिल्म में कमाल का एक्शन है और आप इस तरह का एक्शन बॉलीवुड में नहीं देखते है. बाइक रेस, हैंड फाइट, स्काइडाइव इस फिल्म में वो सबकुछ है जो टॉम क्रूज़ की फिल्मों में होता है. फिल्म की कहानी सिंपल है - सोलोमन लेन नाम का अपराधी एक न्यूक्लियर वॉर करवाना चाहता है और अपने विरोधी देशों को एक झटके में मिटा देना चाहता है.

फिल्म में सुपरमैन बनने वाले अभिनेता हेनरी काविल का भी जबर्दस्त रोल है और वो एक सीआईए एजेंट के रोल में हैं. फिल्म की कहानी रोग नेशन को पीछे नहीं छोड़ती और पिछले भाग की कहानी को पूरा करती है जिससे आपको एक पूरी फ्रेंचाइज़ी का एहसास होता है. 56 साल की उम्र में भी टॉम क्रूज़ अपने से कई साल युवा अभिनेताओं को स्टंट करने में पीछे छोड़ सकते हैं. वो कहीं भी थके हुए नहीं लगते और शायद इसी वजह से साल 1996 से 2018 तक वो इस रोल में सुपरहिट हैं.

इस फिल्म को देखने से आपको समझ आएगा कि भारतीय एक्शन फिल्मों को अभी क्या क्या सीखना होगा. फिल्म के कैमरा वर्क से लेकर बैकग्राउंड स्कोर तक, सभी कुछ तो अदभुत है और आनंद देता है. इस फिल्म में आपको गलतियां ढूंढने से भी नहीं मिलेंगी और अगर आप एक्शन फिल्मों के फैन्स हैं तो ये फिल्म आपके लिए है.

(इस फिल्म समीक्षा का मूल लेख अंग्रेज़ी में यहां पढ़ें)

डिटेल्ड रेटिंग

कहानी :
3/5
स्क्रिनप्ल :
4/5
डायरेक्शन :
4/5
संगीत :
4/5
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर