जलेबी
1/5
पर्दे पर : 12 अक्टूबर 2018
डायरेक्टर : पुष्पदीप भारद्वाज
संगीत : जीत गांगुली, तनिष्क बागची
कलाकार : रिया चक्रवर्ती, वरुण मित्रा
शैली : लवस्टोरी
यूजर रेटिंग :
0/5
Rate this movie

Movie Review: बिल्कुल बेस्वाद है ये जलेबी, इससे अच्छा है कोई सास-बहू ड्रामा देख लें

यह फिल्म सास बहु डेली सोप के एक एवरेज एपिसोड से भी गई गुजरी है. सलाह यही है कि आप इस बासी जलेबी का स्वाद चखने से बचें.

News18Hindi
Updated: October 12, 2018, 5:47 PM IST
Movie Review: बिल्कुल बेस्वाद है ये जलेबी, इससे अच्छा है कोई सास-बहू ड्रामा देख लें
जलेबी फिल्म 12 अक्टूबर को रिलीज होगी.
News18Hindi
Updated: October 12, 2018, 5:47 PM IST
यह काफी अजीब है कि एक मशहूर मिठाई के नाम पर रखी गई फिल्म पूरी तरह बेस्वाद निकली. यह ऐसी है जैसे इसे तेल में कम देर तला गया हो या जब आप इसे खाना चाहें तो चबाने में भयंकर दर्द हो. अगर आपने किसी तरह इसे निगल ही लिया तो इसका स्वाद आपको ज्यादा देर तक याद नहीं रहेगा. 'दि एवरलास्टिंग टेस्ट ऑफ लव' अपनी इस टैग लाइन से उलट यह फिल्म ऐसी है जिसके बाद स्वाद बदलने के लिए आपका सलाद खाने का मन करेगा. मेरी सलाह है कि आप जल्द से जल्द ऐसा करें. ये आपको गहरी नींद से वापस लौटने में मदद करेगा.

मुंबई की लड़की आयशा (रिया चक्रवर्ती) लेखक बनना चाहती है. अपनी दिल्ली की ट्रिप पर वह टूर गाइड और हिस्ट्री में पीएचडी कर रहे देव के प्यार में पड़ जाती है. प्यार उनकी समझ पर पर्दा डाल देता है. दोनों शादी कर लेते हैं और जब आंख खुलती तो पता चलता है कि दोनों अपनी-अपनी जिंदगियों से अलग चीजें चाहते हैं. इस अहसास के बाद दोनों अलग हो जाते हैं और सालों बाद दिल्ली की एक ट्रेन में मिलते हैं, जहां मौजूद को-पैसेंजर्स उतने ही क्लूलेस हैं जितने कि इस फिल्म के मेकर्स.

अब पैसेंजर्स की बात करें तो इसमें फिजूल की बातें करने वाली एक महिला है, जो लगातार बोले जा रही है. एक बूढ़ा कपल है जिसे फिल्म से कोई लेनादेना नहीं है. एक बच्ची है. ये केवल आयशा को देव के साथ बिताए पल याद दिलाने के लिए था. लेकिन ये सफर इन सब चीजों के बिना काफी अच्छा हो सकता था, क्योंकि यह सब केवल दर्शकों के लिए बोझिल हो रहा है.



एक सीन जहां रिया हीरो वरुण के घर को छोड़ने का फैसला कर लेती है आपको स्क्रीन पर मीम्स वाला परफेक्ट मसाला दिखेगा. फिल्म की एस्थेटिक्स पर बात करना कोई प्वाइंट ही नहीं क्योंकि फिल्म ना तो अपना मकसद जानती है और ना मंजिल. वरुण मित्रा अपने इमोशनल स्किल्स से इंप्रेस करने की पूरी कोशिश करते हैं लेकिन उनके सीन इतने डल हैं कि उनकी ब्राइट स्माइल भी डिम नजर आती है. यह फिल्म सास बहू डेली सोप के एक एवरेज एपिसोड से भी गई गुजरी है. सलाह यही है कि आप इस बासी जलेबी का स्वाद चखने से बचें.

डिटेल्ड रेटिंग

कहानी :
1.5/5
स्क्रिनप्ल :
1/5
डायरेक्शन :
1/5
संगीत :
1.5/5
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...