• Home
  • »
  • News
  • »
  • entertainment
  • »
  • समीक्षा: शुद्ध देसी रोमांस में प्यार की नई परिभाषा
/5
पर्दे पर:
डायरेक्टर :
संगीत :
कलाकार :
शैली :
यूजर रेटिंग :
0/5
Rate this movie

समीक्षा: शुद्ध देसी रोमांस में प्यार की नई परिभाषा

सालों से हिंदी फिल्में प्यार और शादी को लेकर अक्सर पुराने ख्यालों को हमारे दिमाग में भर्ती आई हैं। फिल्म शुद्ध देसी रोमांस उन्हीं विचारों को उल्टा दिखाकर एक नया रास्ता लेती है।

  • News18India
  • Last Updated :
  • Share this:
नई दिल्ली। सालों से हिंदी फिल्में प्यार और शादी को लेकर अक्सर पुराने ख्यालों को हमारे दिमाग में भर्ती आई हैं। फिल्म शुद्ध देसी रोमांस उन्हीं विचारों को उल्टा दिखाकर एक नया रास्ता लेती है। खास बात ये है कि शुद्ध देसी रोमांस यशराज फिल्मस के बैनर से निकल के आ रही है, वही स्टूडियो जिसने उन्हीं विचारों को बढ़ावा देते हुए हमें चांदनी, दिल तो पागल है और बचना ए हसीनो जैसी फिल्में दी है।

फिल्म बैंड बाजा बारात के मनीष शर्मा द्वारा निर्देशित और फिल्म चक दे इंडिया के जयदीप साहनी द्वारा लिखी गई फिल्म शुद्ध देसी रोमांस मिडिल क्लास जयपुर की भाग दौड़ के बीच फिल्मायी गई है, जहां बेरोजगार नौजवान चंद हजार रुपयों और सोने की चैन के लिए खुशी-खुशी किसी भी बारात में दोस्त या कजिन होने का नाटक कर शामिल हो जाते हैं। जब रघु यानि सुशांत सिंह राजपूत विदेशी टूरिस्ट को अपने कमिशन के लिए लोकल दुकानों से हेंडीक्राफ्ट खरीदने के लिए बेवकूफ नहीं बना रहा होता, वह प्यार करने में बिजी होता है। लेकिन वो फिर स्वार्थी बनने में उतना ही वक्त लगाता है जितना वक्त किसी को अपना शादी का शूट बदलने में लगता है।
पहले तो वो किसी लड़की को पटाता है, उसका दिल जीतता है और फिर मंडप में आने से पहले जैसे वो डर सा जाता है। शुद्ध देसी रोमांस यह तीन बार होता है, जो बहुत थका देने वाला और काफी हद तक उम्मीद के मुताबिक भी होता अगर साहनी के बेहतरीन डॉयलाग और चार्मिंग किरदार भी नहीं होते जो वह पर्दे पर उतारते हैं। गायत्री यानि परिणीति चोपड़ा एक जिंदादिल लड़की है, जिससे रघु की मुलाकात होती है जब वह खुद अपनी शादी में जा रहा होता है। गायत्री स्मोक करती है, उसके बॉयफ्रेंड्स रहे हैं और वह रघु को अपने घर में अपने साथ रहने की जगह देती है जब वह अपनी शादी छोड़कर चला जाता है। तारा यानि की न्यूकमर वाणी कपूर एक ऐसी लड़की है जिसके साथ धोखा हुआ है, लेकिन वह रघु और दर्शकों, दोनों को ही सरप्राइज कर देती है।

ज्यादातर हिंदी मूवीज के रिलेशनशिप्स से अलग यहां हमारे मुख्य किरदारों के बीच की इक्वेशन का एक अहम हिस्सा है सेक्सुअल आकर्षण और ये फिल्म उसको दिखाती है, बिना बढ़ा-चढ़ाकर। साहनी की स्क्रिप्ट की तारीफ करनी पड़ेगी जो अपने इन ब्रेव आइडियास को चीख-चीखकर नहीं बताती। मेलोड्रामा को खूबी से दूर रखते हुए यह फिल्म उस जनरेशन को दिखाती है, जहां सिंगल लड़कियां अपने बॉयफ्रेंड्स के साथ लिव-इन रिलेशनशिप्स में रह सकती हैं, वो भी बिना सोसाइटी से बैन किए हुए। यह एक नया और असली मिडिल क्लास इंडिया है, जहां लड़कियों के लिए शादी जिंदगी का एकलौती महत्वाकांक्षा नहीं है और जहां औरतें बावजूद इसके कि वह मंडप में ठुकराई जा चुकी हैं, सर उठा के अपनी जिंदगी जीती है।


शुद्ध देसी रोमांस के बारे में पसंद करने लायक बहुत सी चीजें हैं, जिनमें शामिल है वह खूबी जिसे शर्मा ने पिंक सिटी को पर्दे पर उतारा है। यह फिल्म बिजी मेट्रो के दृश्य और आवाजों को इतनी खूबसूरती से कैप्चर करती है कि शायद ही आजकल की फिल्में ऐसा कुछ ट्राय करें। अफसोस यह फिल्म कुछ हद तक अपना चार्म खोने लगती है, इसके फाइनल एक्ट में जहां फिल्म की दोनों हिरोइन एक दूसरे के आमने-सामने आती है एक बहुत ही बनावटी सीन में। दूसरी शिकायत है कैमरा में देख कर बात करने का अंदाज जो कुछ ज्यादा ही ओवरयूज हो चुका है पर जिसमें कमी नहीं निकाल सकते, वो है इसके मुख्य किरदारों का शानदार अभिनय। वाणी कपूर एक अच्छा डेब्यू करती है, खासतौर पर साहनी लाजवाब डॉयलाग्स को वो बहुत ही आसानी से कैरी कर लेती है।

रघु के किरदार में सुशांत सिंह राजपूत बहुत ही चार्मिंग लगते हैं और उनके बाहरी सादगी के पीछे बहुत गहराई छिपी है। पर वो परिणीति चोपड़ा ही है जो हमें यंग रानी मुखर्जी की याद दिलाती है और जिनके नाम यह फिल्म पूरी तरह से जाती है। वो अपनी आंखों से बहुत कुछ कह जाती हैं और उनके आव-भाव गायत्री को एक जीती जागती रियल औरत बनाती है।
फिल्म को बेहद फायदा मिलता है शानदार ऋषि कपूर की बदौलत भी जो एक एक हलुवाई है और रघु के पिता समान है। काफी हद तक शुद्ध देसी रोमांस बॉलीवुड नए सिरे से ढालती है। यह आजकल की फॉर्मूला फिल्म से बहुत अलग है और हमें ऐसे किरदार देते हैं जो आम नहीं है। इस प्यारी से फिल्म की छोटी-मोटी कमियों को नजरअंदाज किया जा सकता है। मैं शुद्ध देसी रोमांस को पांच में से साढ़े तीन स्टार देता हूं। इसे आप देखिए जरूर। आप इसे एंज्वॉय करेंगे।

डिटेल्ड रेटिंग

कहानी:
/5
स्क्रिनप्ल:
/5
डायरेक्शन:
/5
संगीत:
/5

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज