लाइव टीवी

कोई भी सच अंतिम सच नहीं है

Manisha Pandey | News18Hindi
Updated: November 18, 2019, 3:50 PM IST
कोई भी सच अंतिम सच नहीं है
फिल्मः डाउट

कोई भी सच अंतिम सच नहीं है. जब आप सच को लेकर मुतमईन नहीं होते, अपने पूर्वाग्रहों से नहीं संचालित हो रहे होते तो शायद सच को पाने और सच तक पहुंचने की आपकी संभावना बढ़ जाती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 18, 2019, 3:50 PM IST
  • Share this:
फिल्मः डाउट

निर्देशक: जॉन पैट्रिक शैनले

साल 2008 में आई ये अमेरिकन फिल्म पुलित्जर प्राइज से नवाजे गए एक नाटक "डाउटः ए पैरेबल" पर आधारित थी. फिल्म को ऑस्कर के लिए भी नामांकित किया गया.

फिल्म की कहानी न सुनाते हुए भी फिल्म की कहानी को कुछ यूं सुनाया जा सकता है. हमने कुछ देखा, सुना और उसके बारे में अपनी एक राय बनाई. अपने मन में मान ली गई वो बात हमें इतनी सच लगी कि फिर उस सच के परे देखने की न कोई कोशिश की, न जरूरत महसूस हुई.

लेकिन क्या सच सिर्फ वही है जो हमें कुछ उड़ती जानकारियों, अनुभवों या कुछ बातों से लगा था. सच तो कुछ और भी हो सकता था. लेकिन हमने इस तरह से कभी सोचा ही नहीं.

इसे भी पढ़ें: क्‍यों हमें उससे ही प्‍यार है, जिसे हमसे प्‍यार नहीं

फिल्म "डाउट" की कहानी भी कुछ ऐसी ही है. सिस्टर बोवुआर को फादर फ्लिन के बारे में कुछ शक होता है. वो उस शक को यकीन मान लेती हैं और अंत तक इस बात के लिए लड़ती है कि फादर को उसकी सजा मिले. फादर को सजा मिलती भी है. लेकिन फिल्म खत्म उस मोड़ पर जाकर होती है, जहां खुद सिस्टर बोवुआर को ये डाउट है कि उसने फादर फ्लिन को जो समझा था, शायद वो ऐसे नहीं हैं. पूरे यकीन के साथ इतने समय तक वो जो लड़ाई लड़ती रहीं, अंत में उस यकीन पर ही उन्हें पूरा यकीन नहीं है. वो कहती हैं, आय डाउट.
Loading...

फिल्म की कहानी में दम है, दमदार कहानी को कहने का सिनेमाई अंदाज भी काफी दमदार है. दार्शनिक नजरिए से देखें तो इस फिल्म से एक ही बात समझ आती है कि हर सिक्के के दो पहलू होते हैं. सच के और कई पहलू हो सकते हैं. वयस्क, समझदार, बुद्धिमान और गहरा इंसान होने की पहचान ही यही है कि वो किसी सच को अंतिम सच की तरह न देखे, न माने. वो सवाल करे, वो शंकाओं के लिए जगह रखे, वो दूसरों से और खुद से सवाल करे, जवाब ढूंढे.

क्योंकि कोई भी सच अंतिम सच नहीं है. जब आप सच को लेकर मुतमईन नहीं होते, अपने पूर्वाग्रहों से नहीं संचालित हो रहे होते तो शायद सच को पाने और सच तक पहुंचने की आपकी संभावना बढ़ जाती है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनोरंजन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 18, 2019, 3:24 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...