अमरीश पुरी की याद में GOOGLE ने बनाया ऐसा DOODLE

Google Doodle : आज बॉलीवुड के महान खलनायक व चरित्र अभिनेता अमरीश पुरी का जन्मदिन है. उनका जन्म 22 जून 1932 को पाकिस्तान के लाहौर में हुआ था.

News18Hindi
Updated: June 22, 2019, 6:11 PM IST
अमरीश पुरी की याद में GOOGLE ने बनाया ऐसा DOODLE
गूगल ने डूडल बनाकर बॉलीवुड अभिनेता अमरीश पुरी को किया याद
News18Hindi
Updated: June 22, 2019, 6:11 PM IST
Google Doodle: बॉलीवुड के महान एक्टर अमरीश पुरी का आज जन्मदिन है. गूगल ने डूडल बनाकर उनको याद किया है. अमरीश पुरी अपने निगेटिव किरदारों के साथ ही चरित्र अभिनेता के तौर पर याद किए जाते हैं. उन्होंने अपनी एक्टिंग के दम पर विलेन के किरदारों को भी हीरो के बराबर पहचान दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी. वह जिस फिल्म में विलेन होते थे उसमें हीरो पर भी भारी पड़ते थे. यहां तक कि दर्शक हीरो से ज्यादा विलेन का रोल निभाने वाले अमरीश पुरी को पसंद करते थे.

अपनी एक्टिंग से लाखों दिलों में बनाई जगह 

अमरीश पुरी ने 'मिस्टर इंडिया', 'नगीना', 'नायक', 'दामिनी', 'कोयला' जैसी कई फिल्मों में अपनी एक्टिंग का लोह मनवाया और लाखों दिलों में जगह बनाई. उनके कुछ किरदारों को आज भी याद किया जाता है. अमरीश पुरी 80 और 90 के दशक में फिल्मों का अहम हिस्सा हुआ करते थे. उनके बिना फिल्में अधूरी सी होती थीं.

दमदार शख्सियत के जरिये सालों तक किया राज

लंबे चौड़े कद, रौबदार आवाज, गेटअप और दमदार शख्सियत के जरिये फ़िल्म प्रेमियों के दिलों में सालों से डर पैदा करने वाले अमरीश पुरी का जन्म 22 जून 1932 को पाकिस्तान के लाहौर में हुआ था. उनके बड़े भाई चमन पुरी और मदन पुरी भी फिल्म उद्योग में थे. अमरीश पुरी भी इसी काम में आना चाहते थे. उन्होंने शिमला के 'बीएम कॉलेज' से ग्रेजुएशन की पढ़ाई की थी.

पृथ्वी थिएटर में किया काम

बताया जाता है कि अमरीश पुरी अकसर स्क्रीन टेस्ट में फेल हो जाया करते थे. एम्प्लॉइज स्टेट इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन में काम करने के साथ उन्होंने पृथ्वी थिएटर में काम करना शुरू किया. सत्यदेव दुबे के नाटकों ने उन्हें खूब प्रसिद्धि दिलाई और 1979 में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया. बस इसके बाद विज्ञापनों और फिल्मों के दरवाजे उनके लिए खुल गए.
बॉलीवुड में पहला रोल 39 की उम्र में मिला

अमरीश पुरी ने को बॉलीवुड में पहला रोल 39 की उम्र में मिला था. इस फिल्म का नाम 'रेशमा और शेरा' था. फिल्म में उन्होंने वहीदा रहमान और सुनील दत्त के साथ काम किया था. कई फिल्मों में यादगार रोल निभाने के बाद अमरीश का 12 जनवरी, 2005 को ब्रेन हेमरेज से निधन हो गया था.

करीब 400 फिल्मों में किया काम 

अमरीश पुरी ने अपने 35 साल के फिल्मी करियर में लगभग 400 फिल्मों में काम किया. उन्होंने फिल्मों में हर तरह के किरदार निभाए. वह हर किरदार में अपनी दमदार एक्टिंग से सभी का दिल जीत लेते थे. लेकिन, उनकी पहचान एक विलेन के तौर पर बनी, क्योंकि उनके निभाए गए नकारात्मक रोल फिल्मों में जान डाल देते थे. अमरीश पुरी के किरदारों में से सबसे मशहूर रहा ‘मिस्टर इंडिया’ का ‘मुग़ैम्बो’. फिल्म में अमरीश पुरी ने एक क्रूर वैज्ञानिक का किरदार निभाया था. इस रोल में अमरीश पुरी के ड्रेसिंग सेन्स से लेकर हेयरस्टाइल तक की काफी चर्चा हुई थी. उनके कुछ फेमस डायलॉग्स में 'मोगेम्बो खुश हुआ', 'डॉन्ग कभी नहीं होता रॉन्ग' और 'जा सिमरन जा, जी ले अपनी जिंदगी' भी हैं.

ये भी पढ़ें- 

बिहार बीजेपी का हर सांसद चमकी पीड़ितों को देगा 25 लाख की मदद

जब ट्विटर पर सुशील मोदी बन गए मुख्यमंत्री तो RJD ने ली मौज
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...