डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘माई ऑक्टोपस टीचर’ ने जीता ग्लोबल सस्टेनेब्लिटी अवार्ड

डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘माई ऑक्टोपस टीचर’ का एक पोस्टर. (Photo: Netflix)
डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘माई ऑक्टोपस टीचर’ का एक पोस्टर. (Photo: Netflix)

प्रकृति के संपर्क में रहने के महत्व को रेखांकित करने वाले डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘माई ऑक्टोपस टीचर’ ने नौवें ग्लोबल सस्टेनेब्लिटी फिल्म अवार्ड्स (जीएसएफए) में संस्थापक पुरस्कार जीता है. पिप्पा एहरलिच और जेम्स रीड ने इसका निर्देशन किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 23, 2020, 12:06 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रकृति के संपर्क में रहने के महत्व को रेखांकित करने वाले डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘माई ऑक्टोपस टीचर’ ने नौवें ग्लोबल सस्टेनेब्लिटी फिल्म अवार्ड्स (जीएसएफए) में संस्थापक पुरस्कार जीता है. पिप्पा एहरलिच और जेम्स रीड द्वारा निर्देशित इस फिल्म में उन अनुभवों को दर्शाया गया है जिसे फिल्कार और गोताखोर क्रैग फोस्टर ने तैराकी के दौरान ओक्टोपस के साथ गुजारे एक साल के दौरान हासिल किया.

इस साल डिफिकल्ट डायलॉग ने 16 नवंबर से पांच दिवसीय सम्मेलन के लिए टीवीई ग्लोबल सस्टेनेब्लिटी के साथ साझेदारी की. इस सम्मेलन के दौरान संवाद, परिचर्चा हुई और फिल्में दिखायी गईं. डिफिकल्ट डायलॉग एक ऐसा इंटरनेशनल प्लेटफॉर्म है जो हर वर्ष वैश्विक महत्व के ज्वलंत मुद्दों पर चर्चा करता है. बड़े पर्दे पर सस्टेनेबिलिटी के लिए जीएसएफए संस्थापक पुरस्कार नामित श्रेणी का पुरस्कार है और इसकी स्थापना 2017 में सूरीना नरूला ने की थी.

यह हर साल उस फीचर फिल्म को दिया जाता है जो नए और नवोन्मेषी तरीके से संपोषणीयता के मुद्दों से निपटता है. फिल्मों को उसकी कथा प्रस्तुति, उसकी पहल की रचनाशीलता और उसके सस्टेनेबिलिटी मैसेज (संपोषणीय संदेश) की विश्वसनीयता के आधार पर चुना जाता है. ‘माई ऑक्टोपस टीचर’ नेटफ्लिक्स ऑरिजनल डॉक्यूमेंट्री फिल्म है, जो सितंबर में दुनियाभर में प्रदर्शित की गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज