लाइव टीवी

IFFI 2019: एक-दूसरे की बात नहीं मानते अमिताभ बच्चन और रजनीकांत, जानें क्या है मामला!

अमिताभ सिन्हा | News18Hindi
Updated: November 20, 2019, 8:17 PM IST
IFFI 2019: एक-दूसरे की बात नहीं मानते अमिताभ बच्चन और रजनीकांत, जानें क्या है मामला!
बुधवार को भारत के 50वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल का शुभारंभ हुआ.

भारत के 50वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल (International Film Festival of India) में सरकार ने सदी के दो महानायकों अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) और रजनीकांत (Rajinikanth) को सम्मानित करने के लिए आमंत्रित किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 20, 2019, 8:17 PM IST
  • Share this:
मुंबई. भारत के 50वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल (International Film Festival of India) में पूरे सभागार में हंसी और तालियों का ऐसा दौर गूंजा कि सदी के महानायक को अपनी स्पीच पर चंद क्षणों का विराम लगाना पड़ा. मौका था गोवा की राजधानी पंजिम में फ़िल्म फेस्टिवल के उद्घाटन समारोह का. जहां सरकार ने सदी के दो महानायकों अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) और रजनीकांत (Rajinikanth) को सम्मानित करने के लिए आमंत्रित किया था. आम तौर पर ऐसे समारोहों से दूर रहने वाले रजनीकांत को तो इस समारोह का आइकॉन बनाया गया है. और उन्हें सम्मानित करने दूसरे महानायक अमिताभ बच्चन हो तो समारोह की सफलता में चार चांद लगने ही थे.

रजनीकांत और सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जवाड़ेकर (Prakash Javdekar) जब मंच पर पहुंचे तो सम्मान देना था अमिताभ बच्चन को, लेकिन जब स्पीच की बारी आई तो अमिताभ बच्चन ने रजनीकांत की तारीफ की झड़ी लगा दी.

एक-दूसरे की बात नहीं मानते अमिताभ और रजनीकांत
अमिताभ बच्चन ने कहा कि रजनी न सिर्फ उनके इंस्पिरेशन हैं बल्कि उनके परिवार और दोस्त हैं, एक ऐसे दोस्त हैं जो एक-दूसरे की बात नहीं मानते. बच्चन ने कहा जब वह रजनी को सलाह देते हैं कि फलां काम मत करना वो जरूर करते हैं, और जब रजनी उन्हें कहते हैं कि ये मत करो तो वो उस काम को जरूर करते हैं.

अपनी ही बात पर हंस पड़े अमिताभ
ऐसा कहते-कहते बच्चन साहब खुद ही हंस पड़े, रजनीकांत की भी हंसी छूट ही गयी और पूरा स्टेडियम तालियों से गूंज उठा. फेस्टिवल में अमिताभ बच्चन की फिल्मों का पुनरावलोकन किया जा रहा है जिसे लेकर सदी के महानायक खासे भावुक थे. उन्होंने कहा कि फिल्मों के मशहूर होने में डायरेक्टर्स और स्क्रिप्ट लेखकों का योगदान तो है ही लेकिन असली धन्यवाद की हकदार देश की जनता है जिन्होंने उन्हें इतना प्यार दिया.

इस फेस्टिवल में 76 देशों की 200 फिल्मों को दिखाया जाएगा. इसमें ज्यादा फोकस रूस पर रहेगा. भारत के क्षेत्रीय सिनेमा को भी यहां जगह मिली है. इस मौके पर प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि फिल्मों की शूटिंग के लिए अब सिंगल विंडो क्लीयरेंस की दिशा में सरकार आगे बढ़ रही है. समारोह 30 नवंबर तक चलेगा.
Loading...

ये भी पढ़ें-
कमल हासन ने रजनीकांत के साथ सियासी तौर पर हाथ मिलाने की मंशा दोहराई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनोरंजन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 20, 2019, 8:12 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...