कुमार गौरव से मैंने 7 सेकेंड में 'अक्षय' नाम चुरा लिया: अक्षय कुमार

अक्षय ने बताया कि असल में उनकी पहली फिल्म 'आज' थी जिसे महेश भट्ट ने बनाया था.

Ankit Francis | News18Hindi
Updated: December 7, 2018, 10:30 PM IST
कुमार गौरव से मैंने 7 सेकेंड में 'अक्षय' नाम चुरा लिया: अक्षय कुमार
अक्षय कुमार (फ़ाइल फोटो)
Ankit Francis | News18Hindi
Updated: December 7, 2018, 10:30 PM IST
बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार ने जागरण फोरम कार्यक्रम में बताया कि उन्होंने अक्षय कुमार नाम कुमार गौरव से चुराया था. अक्षय ने बताया कि असल में उनकी पहली फिल्म 'आज' थी जिसे महेश भट्ट ने बनाया था. इस फिल्म में उनका सिर्फ 7 सेकेंड का रोल था और सके हीरो कुमार गौरव थे जिनका नाम फिल्म में 'अक्षय' था. इसी दिन उन्होंने अपना नाम राजीव भाटिया से बदल कर अक्षय कुमार कर लिया.

अक्षय कुमार ने कहा, '365 दिन कम पड़ते हैं, इसलिए सिर्फ 4 फिल्में कर पाता हूं'

अक्षय ने बताया कि नाम बदलने के बाद उन्होंने पहली बार विजिटिंग कार्ड छपवाया था और जिस दिन वो छप कर आया था उसी दिन मुझे पहली फिल्म भी मिल गई थी. अक्षय ने बताया- मैंने कभी नहीं सोचा था कि फिल्मों में आऊंगा, मैं मार्शल आर्टिस्ट बनना चाहता था और ब्रूस ली मेरे रोल मॉडल थे. मैं बैंकॉक में जब रहता था तो फाइट्स भी करता था और हारता भी था. मैंने बॉलीवुड भी इसी स्पोर्ट्स की तरह किया, मैंने लगातार 14 फ्लॉप फ़िल्में भी लगातार की हैं लेकिन मैंने नहीं मानी. कई बार फिल्म बनाने वालों के पास पैसे नहीं होते थे तो मैं अगली फिल्म के लिए इंतज़ार करता था.

सिर्फ पैसे कमाने आया था

अक्षय ने बातचीत में बताया कि मैं इस इंडस्ट्री में सिर्फ पैसे कमाने आया था, मैंने जिंदगी में कभी इतने पैसे देखे ही नहीं थे. हालांकि कमाते-कमाते अब मैं उस मुकाम पर हूं जब मैं चाहता हूं कि ऐसी फ़िल्में बनाऊं जिसके लिए लोग मुझे याद रखें, उनमें कोई सोशल मैसेज हो. मैं हर साल 4 की जगह 6 फ़िल्में बनाना चाहता हूं लेकिन साल में सिर्फ 365 ही दिन होते हैं. मैं सन्डे को काम नहीं करता, शनिवार हाफ डे रहता है और हर तीन महीने में 7 दिन छुट्टी लेता हूं, साल के किसी एक महीने काम नहीं करता.

2.0 के बाद ?
अक्षय ने बताया कि 2.0 बनाने के लिए तीन हज़ार लोगों की टीम काम कर रही थी. मैंने कई डायरेक्टर्स के साथ काम किया है लेकिन शंकर के बारे कहूंगा कि ये आदमी साइंटिस्ट है, दुनिया के कोने-कोने से लोगों को चुनकर इकठ्ठा करता है. अब मैं केसरी फिल्म बना रहा हूं 'बैटल ऑफ़ सारागढ़ी' की कहानी पर आधारित है. ये ऐसे 21 सरदारों की कहानी है जिन्होंने 10 हज़ार सैनिकों का सामना किया था. मैं इसरो के मंगलयान की सफलता पर भी एक फिल्म बना रहा हूं. हम इतनी हॉलीवुड फिल्म देख चुके हैं कि वैसा ही सीख भी रहे हैं जैसे कोई भी एलियन अटैक हो तो लगता है अमेरिका ही बचाएगा, लेकिन मैं चाहता हूं जब ऐसा हो तो हम इंडियन दुनिया को बचाएं.
Loading...

एक्शन-कॉमेडी सबसे ज्यादा पसंद
अक्षय ने बताया कि एक्शन फ़िल्में करते हुए मैं सबसे ज्यादा एन्जॉय करता हूं लेकिन एक्शन-कॉमेडी जॉनर मुझे काफी पसंद है. मैं प्लेन के ऊपर खड़ा हो गया था एक शॉट के लिए और ये सीन मैंने टॉम एंड जेरी में देखा था. मैं न सिर्फ प्लेन के ऊपर खड़ा हुआ बल्कि उस पर से एक हॉट एयर बलून पर भी कूदा था. हालांकि ये सबसे ख़राब काम था जो मैंने अपनी लाइफ में किया है और मैं नहीं चाहता कोई भी इस तरह से जिंदगी को खतरे में डाले. कॉमेडी सबसे मुश्किल काम है लेकिन उसे इंडस्ट्री में सही इज्ज़त नहीं दी जाती है. अक्षय ने कॉमेडी से जुड़े एक सवाल के जवाब में कहा कि जो चांदनी चौक में रहा है उसे कॉमेडी आ ही जाती है. मैं आप लोगों से भी यही कहना चाहता हूं कि लाइफ में सब कुछ सीरियस नहीं लेना चाहिए.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->