महाभारत पर आधारित फिल्म पर लगा ग्रहण, फिल्म के राइटर ने वापस मांगी स्क्रीनप्ले

भारतीय फिल्म जगत की अब तक की सबसे महंगी फिल्म पर ग्रहण लग चुका है. महाभारत की कहानी पर बनने वाली फिल्म के राइटर ने कॉन्ट्रैक्ट तोड़ने के आधार पर फिल्म के निर्माताओं से अपनी स्क्रीप्ले वापस करने की मांग की है.

News18Hindi
Updated: October 11, 2018, 5:34 PM IST
महाभारत पर आधारित फिल्म पर लगा ग्रहण, फिल्म के राइटर ने वापस मांगी स्क्रीनप्ले
महाभारत की फाइल फोटो
News18Hindi
Updated: October 11, 2018, 5:34 PM IST
एमटी वासुदेवन नायर के उपन्यास रंदामूजहम पर भारतीय फिल्म जगत की अब तक की सबसे महंगी फिल्म बनने वाली थी. उन्हें इस फिल्म के लिए स्क्रीनप्ले भी लिखने के लिए कहा गया था.  यह उपन्यास महाभारत की कहानी पर ही आधारित है, लेकिन उपन्यासकार ने इसे भीम के नजरिए से लिखा है.

अब जब फिल्म की घोषणा के चार साल हो चुके हैं. वासुदेवन ने फिल्म के निर्माताओं से अपनी लिखी स्क्रीनप्ले वापस पाने के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया, जिसने मामले में फिल्म के प्रोड्यूसर और डायरेक्टर को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है.

वासुदेवन का कहना है कि निर्माताओं ने उनसे वादा किया था कि वो तीन साल के अंदर फिल्म पर काम शुरू कर देंगे, लेकिन उन्होंने अभी तक इस फिल्म में काम शुरू नहीं किया है. न्यूज मिनट की रिपोर्ट के मुताबिक वासुदेवन ने कहा, '4 साल हो गए उसके बावजूद फिल्म की शूटिंग भी शुरू नहीं हुई है, जबकि कॉन्ट्रैक्ट सिर्फ तीन साल का था.' उन्होंने आगे कहा, 'हालांकि बाद में फिल्म का कॉन्ट्रैक्ट एक साल के लिए बढ़ाया गया था, उसके बावजूद उन्होंने फिल्म में काम शुरू नहीं किया है.'

ये भी पढ़ें- न शाहरुख़, न आमिर, अब मोहनलाल बनाएंगे 1000 करोड़ की महाभारत

ऐसा कहा जा रहा था कि फिल्म का निर्देशन वीए श्रीकुमार करेंगे और फिल्म में भीम का किरदार मलयालम फिल्मों के सुपरस्टार मोहनलाल निभाएंगे. ऐसी भी रिपोर्ट्स थीं कि इस फिल्म के लिए दुबई बेस्ड बिजनेसमैन बीआर शेट्टी लगभग 1000 करोड़ रुपए इनवेस्ट करेंगे.

एक साल पहले शेट्टी ने इंडिया टुडे से फिल्म के बारे में बात करते हुए कहा था, 'महाभारत महाकव्यों का महाकाव्य है. यह फिल्म सही मायने में दुनिया के लिए 'मेक इन इंडिया' साबित होगी. महाभारत मस्तिष्क के साथ-साथ जीवन और जीवन जीने के तरीके पर केंद्रित  है.'

बता दें कि इस उपन्यास को साल 1984 में लिखा गया था जिसे बहुत सारे साहित्यिक पुरस्कारों से भी नवाजा जा चुका है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर