कुली और बस कंडक्टर से कैसे फिल्मों में हीरो बने Rajinikanth? जानिए उनका असली नाम और फैमिली बैकग्राउंड

जानिए रजनीकांत का अब तक का सफर

जानिए रजनीकांत का अब तक का सफर

साउथ फिल्म इंडस्ड्री से लेकर हिंदी सिनेमा (Bollywood) में अपने अभिनय का लोहा मनवाने वाले मेगास्टार रजनीकांत (Rajinikanth) को दादा साहब फाल्के अवॉर्ड (Dadasaheb Phalke Award) से नवाजा जाएगा. जैसे ही कि केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने ये ऐलान किया है तबसे ट्विटर पर रजनीकांत के फैंस उन्हें धेर सारी बधाइयां दे रहे हैं. आज उन्हें एक्टिंग के लिए फिल्म का सबसे बड़े अवॉर्ड की घोषणा हुई लेकिन इससे पहले वे कुली और बस कंडक्टरी करते थे.

  • Share this:
साउथ फिल्म इंडस्ट्री (South Film Industry) से लेकर बॉलीवुड में भी अपने अभिनय का परचम लहराने वाले अभिनेता रजनीकांत (Rajinikanth) को दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा. इस बात की जानकारी केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने गुरुवार (1 अप्रैल) को दी है. रजनीकांत तो दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड (Dadasaheb Phalke Award) दिए जाने का ऐलान ऐसे समय हुआ है जब तमलिनाडू राज्य में विधानसभा चुनाव होने हैं. बीते 5 दशक से सिनेमा पर राज करने वाले रजनी को 51वां दादा साहेब फालके अवॉर्ड ने नवाजा जाएगा. अभिनेता के बारे में बहुत कम लोगों को मालूम हो कि रजनीकांत एक्टिंग से पहले बस कंडेक्टर थे. यहां हम रजनीकांत की पर्सनल और प्रोफेशनल दोनों लाइफ के बारे में आपको जानकारी दे रहे हैं.

Rajinikanth Likely to Announce Date of His Party's Launch Tomorrow

बचपन में उठ गया था मां का साया

12 दिसंबर 1950 को बेंगलुरू के मराठी परिवार में जन्मे रजनीकांत (Rajinikanth) ने कड़ी मेहनत से आज ये मुकाम हासिल किया है. रजनीकांत का असली नाम शिवाजी राव गायकवाड़ था उनका बचपन काफी अभाव में गुजरा. बचपन में ही उनकी मां का निधन हो गया था. घर चलाने की जिम्मेदारी उनके कंधों पर थी. घर चलाने के लिए रजनीकांत ने कुली (coolie) तक का काम किया था. बाद में उन्होंने बेंगलुरू ट्रांसपोर्ट सर्विसेज में कंडक्टरी भी की है. हालांकि, उनका बचपन से सपना एक्टर बनने का था लिहाजा उन्होंने कंडक्टरी करने के साथ-साथ कुछ स्टेज शो भी शुरू कर दिए थे. इसी दरमियान एक अखबार में फिल्म इंस्टिट्यूट का विज्ञापन छापा गया था जो फिल्मो में काम करने के लिए कोर्स मुहैया करवाता था. रजनीकांत ने घर पर इस बारे में बात कि हलाकि परिवार की हालत ठीक नहीं होने की वजह से उन्हें परिवार की तरफ से सपोर्ट नहीं मिला.
Rajinikanth Spoke Like PM Modi, Says RSS Ideologue

दोस्त की मदद से शुरू हुआ था एक्टिंग का सफर

बाद में रजनीकांत के मित्र राज बहादुर ने उनकी सहायता की और उनका एक्टिंग इंस्टिट्यूट में दाखिला दिलवाया. यहीं से शुरू हुआ उनका एक्टिंग का सफर. रजनीकांत ने एक्टिंग करियर की शुरुआत कन्नड़ नाटकों से की थी. वहां महाभारत के दुर्योधन को रूप में उनके अभिनय की काफी तारीफ होती थी. रजनीकांत ने तमिल फिल्म इंडस्ट्री में एंट्री करने से पहले तमिल भाषा की शिक्षा ली थी. उनकी पहली फिल्म अपूर्वा रागनगाल (Apoorva Raagangal) थी. इस फिल्म में कमल हासन भी नजर आए थे.



कभी फिल्में छोड़ना चाहते थे रजनी

ये बात भी बहुत लोग जानते हैं कि एक एक समय ऐसा भी आया जब रजनीकांत ने फिल्में छोड़ने पर विचार किया था लेकिन उनके परिवार ने उनको ऐसा नही करने दिया. तलिल, तेलुगू के अलावा रजनीकांत बॉलीवुड में भी अपना जलबा बिखेरने में पीछे नहीं रहे. फिल्म अंधा कानून से रजनीकांत ने बॉलीवुड में अपने करियर की शुरुआत की और इसके बाद उन्होंने 'भगवान दादा', 'आतंक ही आतंक' और 'चालबाज' जैसी कई बॉलीवुड फिल्मों में भी अभिनय किया. वहीं बात अगर उनकी साउथ इंडियन फिल्मों की करें तो उन्होंने 1975 में तमिल फिल्म 'अपूर्व रागंगल' से अभिनय की दुनिया में कदम रखा था. इसके बाद उन्होंने 'बिल्लू', 'मुथु', 'बाशहा', 'शिवाजी' और 'एंथीरन' जैसी सुपरहिट फिल्मों में काम किया.

It's Definitely MHA Failure': Rajinikanth on Violence in Delhi; Gets a Pat on the Back from Kamal Haasan

राजनीति में आने के भी चर्चे

अभिनय के अलावा राजनीति में भी आने पर विचार किया था लेकिन बाद में पिछले साल दिसंबर में ही उन्होंने खराब सेहत का हवाला देकर चुनावी राजनीति में उतरने की योजनाओं को रद्द कर दिया था. उन्होंने कहा था कि वह स्वास्थ्य ठीक नहीं होने के कारण राजनीति में प्रवेश नहीं करेंगे. हालांकि, उन्हें राजनीति से जुड़ने के लिए कमल हासन पूरी जुगत में हैं. पिछले दिनों उन्होंने रजनी से मुलाकातें भी कीं और उनकी पार्टी को समर्थन करने की अपील की है.

Tamil Director Lashes Out at Rajinikanth, Calls the Superstar an 'Outsider'

पीएम मोदी ने की एक्टर की सहारना

70 वर्षीय अभिनेता को दादा साहब फाल्के मिलने की घोषणा के बाद पीएम मोदी (Narendra Modi) ने उन्हें बधाई दी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बधाई देते हुए सिनेमा में योगदान के लिए उनकी सराहना की है. पीएम ने रजनी को लेकर ट्वीट किया, ''कई पीढ़ियों के बीच लोकप्रिय, शानदार काम जो बहुत कम लोग ही कर पाते हैं, विविध भूमिकाएं और एक प्यारे व्यक्तित्व के धनी... ऐसे हैं रजनीकांत जी। यह अत्यंत प्रसन्नता की बात है कि थलाइवा को दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया है. उन्हें बधाई.''
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज