Home /News /entertainment /

बॉलीवुड के बादशाह इस मामले में खुद को मानते हैं फेल!

बॉलीवुड के बादशाह इस मामले में खुद को मानते हैं फेल!

PIC : AFP

PIC : AFP

मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय अभिनेता शाहरुख खान को सोमवार को अपने छठे दीक्षांत समारोह में मानद डॉक्टर की उपाधि से सम्मानित किया गया. इन्हें यह उपाधि उर्दू भाषा और संस्कृति को बढ़ावा देने में योगदान के लिए दी गई.

  • Bhasha
  • Last Updated :
    मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय अभिनेता शाहरुख खान को सोमवार को अपने छठे दीक्षांत समारोह में मानद डॉक्टर की उपाधि से सम्मानित किया गया. इन्हें यह उपाधि उर्दू भाषा और संस्कृति को बढ़ावा देने में योगदान के लिए दी गई.

    सुपरस्टार शाहरुख खान ने युवा छात्रों से कहा कि वे अपने दिल की सुनें और वही करें जो वह करना चाहते हैं, ताकि जीवन में आगे जाकर उन्हें अपने करियर को लेकर कोई अफसोस न हो. यह मानते हुए कि रचनात्मक अभिव्यक्ति का कोई भी रूप भावनाओं को जाहिर करने का बेहतरीन जरिया है, शाहरुख ने कहा कि ऐसी आदत होने से अकेलेपन में भी सुकून रहता है.

    उन्होंने कहा, ‘‘मैं खराब शायर हूं. लेकिन फिर भी कुछ न कुछ लिखता रहता हूं. जब मैं लिखता हूं, मुझे शांति मिलती है.’’ इससे पहले चांसलर जफर सरेशवाला ने उर्दू भाषा और संस्कृति को बढ़ावा देने में योगदान के लिए विश्वविद्यालय के छठे दीक्षांत समारोह में खान और रेखता फाउंडेशन के संस्थापक संजीव सराफ को ‘डॉक्टर ऑफ लेटर्स’ प्रदान किए.

    उन्होंने कहा, ‘‘जब आप मेरी या अपने माता पिता की या अपने शिक्षक की उम्र के होंगे तो कहीं न कहीं यह मलाल होगा कि मैंने (करियर के तौर पर) वह क्यों नहीं किया. मैं हर लड़के और लड़की से सिर्फ यह कहना चाहता हूं कि वही करो, जहां आपका दिल हो.’’

    अभिनेता ने अपने (मरहूम) पिता को याद किया, जिनकी माली हालत भले बहुत अच्छी नहीं थी, लेकिन उन्होंने उन्हें जिंदगी में बहुत सी चीजें सिखाईं. उन्होंने कहा कि वह हनुमान मंदिर के मुख्य पुजारी के साथ शतरंज खेला करते थे. अभिनेता ने कहा कि उनके पिता ने उन्हें जो सबक सिखाए उनमें दूसरों के साथ मिलकर काम करने का हुनर और आगे बढ़ने के लिए कभी कभी थोड़ा पीछे हटने की सीख शामिल है.

    उन्होंने कहा, ‘‘कोई छोटा नहीं है. आपको सबकी इज़्ज़त करनी चाहिए.’’ शाहरुख ने कहा, ‘‘उन्होंने मुझे एक टाइपराइटर दिया. टाइपिंग में बहुत एकाग्रता की जरुरत होती है. जब मैंने टाइपिंग सीखी तो मुझे अहसास हुआ कि अभ्यास आपको उत्तम बनाता है. आप जीवन में जो भी करें, एकाग्रता से करें जैसे यह करने का आखिरी मौका है.’’

    शाहरुख ने कहा कि उनके पिता ने उन्हें हंसने हंसाने की आदत और बच्चों जैसी मासूमियत सदा बनाए रखने को कहा. अभिनेता ने कहा, ‘‘अगर आप हास्यवृत्ति के साथ चीजों को देखते हैं तो जिंदगी बेहतर होगी.’’

    मानद डॉक्टरेक्ट की उपाधि दिए जाने पर खुशी जाहिर करते हुए खान ने कहा कि उन्हें यह सम्मान मिलने से उनके पिता खुश होंगे क्योंकि वह स्वतंत्रता सेनानी थे और मौलाना आजाद तथा उच्च शिक्षा के प्रति उनके मन में बहुत सम्मान था. शाहरुख ने कहा कि वह उन्हें दी गई जिम्मेदारी को निभाने की कोशिश करेंगे.

    Tags: Shahrukh khan

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर