Home /News /entertainment /

Rajinikanth एक्शन हीरो ही नहीं बल्कि हैं एक बेहतरीन कॉमेडियन भी, कहा- 'सिनेमा मेरी लाइफ का हिस्सा है'

Rajinikanth एक्शन हीरो ही नहीं बल्कि हैं एक बेहतरीन कॉमेडियन भी, कहा- 'सिनेमा मेरी लाइफ का हिस्सा है'

Rajinikanth एक्शन हीरो ही नहीं बल्कि हैं एक बेहतरीन कॉमेडियन भी

Rajinikanth एक्शन हीरो ही नहीं बल्कि हैं एक बेहतरीन कॉमेडियन भी

तमिल सिनेमा (Tamil Cinema) के दिग्गज एक्टर रजनीकांत (Rajinikanth) को लोग एक एक्शन हीरो के तौर पर जानते हैं, लेकिन इस बात को बहुत कम लोग ही जानते होंगे कि वो एक्शन के साथ-साथ एक बेहतरीन कॉमेडियन भी हैं. जानें उनकी फिल्मों के नाम...

अधिक पढ़ें ...

    अर्चना आर.

    साउथ के सुपरस्टार एक्टर रजनीकांत (Rajinikanth Awarded) को 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार समारोह में दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड (Dada Saheb phalke Award) से सम्मानित किया गया है. उन्हें ये अवॉर्ड सिनेमा में दिए गए योगदान के लिए दिया गया है. ऐसे में आपको बता रहे हैं कि वो एक एक्टर ही नहीं बल्कि बेहतरीन कॉमेडियन भी हैं. उन्होंने एक बार कहा था कि ‘सिनेमा की उनकी लाइफ का एक हिस्सा है.’

    रजनीकांत तमिल सिनेमा के फेमस एक्टर और टैलेंटेड कॉमेडियन हैं. उन्होंने इस बात को फिल्म ‘Mullum Malarum’ से साबित कर दिया. इसे 1978 में रिलीज किया गया था. इसके अलावा दिवंगत डायरेक्टर राजशेखर के साथ उन्होंने फिल्म Thambi Entha Ooru, Padikkadavan, Mappillai और Dharmadurai जैसी फिल्मों में कॉमेडी का जबरदस्त डोज दिखाया है. उनकी ये मूवीज फैमिली ड्रामा हैं. रजनीकांत ही साउथ एक ऐसे एक्टर हैं, जिन्होंने चारों तरफ अपनी एक्टिंग का दम दिखाया है. उन्होंने ये भी साबित कर दिया कि एक एक्शन हीरो भी शानदार कॉमेडियन हो सकता है और इसके बाद यही एक मात्र कारण बन गया कि रजनीकांत की फैन फॉलोइंग तमिलनाडु के अलावा जापान तक फैल गई.

    फिल्म Thambikku Entha Ooru, 1984

    फिल्म Thambikku Entha Ooru को 1984 में रिलीज किया गया था. इस मूवी में एक्टर पर एक सांप का सीन फिल्माया गया था, जो कि उनके बैड पर आ जाता है और उस समय उनके चेहरे पर जो एक्सप्रेशन देखने के लिए मिलते हैं वो कमाल के होते हैं. उससे वो दर्शकों को गुदगुदाने में कामयाब हुए थे. जबकि इस सीन में कोई डायलॉग भी नहीं था. बिना कुछ कहे उन्होंने अपने एक्सप्रेशन से लोगों को हंसाया था.

    फिल्म चंद्रमुखी (2005)

    रजनीकांत की फिल्म चंद्रमुखी तो आप सभी को याद होगी इसमें उन्होंने एक्टर Vadivelu के साथ लीड रोल प्ले किया था. फिल्म का एक शैतानी सीन दर्शकों को खूब गुदगुदाता है.

    Thillu Mullu, 1981

    रजनीकांत की पहली कॉमेडी फिल्म Thillu Mullu, 1981 थी. इसे दिवंगत डायरेक्टर के बालचंदर ने डायरेक्ट किया था. इस मूवी को करने के लिए डायरेक्टर की इस बात से एक्टर राजी हुए कि वो उनकी कमर्शियल फिल्मों की धुरी को तोड़ना चाहते थे. वो उस वक्त अकेले ही एक स्टंट हीरो थे.

    Anbukku Naan Adimai, 1980

    फिल्म Anbukku Naan Adimai, 1980 का एक सीन रजनीकांत की कॉमेडी को दिखाता है, जिसमें उन्हें उनके को-एक्टर के साथ कूकिंग को लेकर बातचीत करते हुए देखा जाता है. उनका को-एक्टर अपनी पत्नी को बॉस कहता है और उसके लिए खाना बनाता है.

    Dharmathin Thalaivan, 1988

    रजनीकांत ने इस फिल्म में डबल एक्शन रोल प्ले किए हैं. इसमें एक रोल में वो एक टीचर के किरदार में होते हैं. एक बार तो वो इसमें अपनी धोती पहनना भूल जाते हैं और बस स्टॉप पर ऐसे ही चले जाते हैं. जहां लोग उनका मजाक उड़ाते हैं और जब उन्हें इस बात का एहसास होता है कि उन्होंने अपनी धोती नहीं पहनी है तो वो वहां से भाग जाते हैं. इसके बाद कुत्ते भी उनके पीछे पड़ जाते हैं. उनका ये सीन काफी कॉमेडी वाला होता है.

    Muthu, 1995

    90 के दशक में रजनीकांत की ये फिल्म ब्लॉकबस्टर रही थी. इसमें एक लेटर सीन होता है, जो लोगों को गुदगुदाता है. उस सीन को रजनीकांत, मीना, सरथ बाबू, सेंथिल, वडिवेलु और अन्य एक्टर्स पर फिल्माया गया होता है.

    खैर, अब रजनीकांत को सिनेमा के क्षेत्र में दिए योगदान के लिए दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया है. इस खास मौके पर रजनीकांत (Rajinikanth) ने सफेद कुर्ता और पायजामा पहना हुआ था. उन्होंने चेहरे पर मुस्कान के साथ प्रतिष्ठित पुरस्कार को उपराष्ट्रपति के हाथों से लिया. उन्होंने इस अवॉर्ड को खुद किया और इसे अपने गुरु के बालचंदर, अपने बड़े भाई सत्यनारायण गायकवाड़ और अपने सबसे अच्छे दोस्त राज बहादुर को समर्पित किया है. बता दें कि राज बहादुर एक्टर के उस वक्त के दोस्त हैं, जब वो बस में कंडक्टर थे.

    इस दौरान रजनीकांत ने कहा कि, ‘मैं इस पुरस्कार को अपने मेंटोर और गुरु के बालाचंदर सर को समर्पित करता हूं. इस समय, मैं उन्हें याद कर रहा हूं और मेरे भाई सत्यनारायण गायकवाड़, जो मेरे पिता की तरह हैं, मुझे महान मूल्यों की शिक्षा देने और मुझमें आध्यात्मिकता पैदा करने के लिए. साथ ही, मेरे मित्र और सहयोगी राज बहादुर को धन्यवाद, जो एक बस ड्राइवर थे. जब मैं बस कंडक्टर था, उन्होंने ही मुझमें एक्टर की पहचान की और मुझे फिल्मों में जाने के लिए प्रोत्साहित किया. इन सभी को ये अवार्ड डेडिकेट कर रहा हूं.’

    Tags: Rajinikanth, South cinema, Superstar Rajinikanth

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर