• Home
  • »
  • News
  • »
  • entertainment
  • »
  • एशियाड में गोल्ड मेडलिस्ट हैं 'महाभारत' के 'भीम', सुबह 3 बजे उठकर करते थे प्रैक्ट‍िस

एशियाड में गोल्ड मेडलिस्ट हैं 'महाभारत' के 'भीम', सुबह 3 बजे उठकर करते थे प्रैक्ट‍िस

महाभारत में अपनी लंबी-चौड़ी कद-काठी के लिए पहचाने वाले भीम, पांच पांडवों में से एक थे.

महाभारत में अपनी लंबी-चौड़ी कद-काठी के लिए पहचाने वाले भीम, पांच पांडवों में से एक थे.

महाभारत (Mahabharata) में अपनी लंबी-चौड़ी कद-काठी के लिए पहचाने वाले भीम, पांच पांडवों में से एक थे. बीआर चोपड़ा की महाभारत में जिस शख्स ने इस किरदार को निभाया था, उनका नाम प्रवीण कुमार सोबती (Praveen Kumar Sobti ) हैं. प्रवीण कुमार भारत के 'हैमर थ्रो' खिलाड़ी रहे हैं.

  • Share this:
    मुंबई- लॉकडाउन (Lockdown) में लोगों की भारी मांग के बाद दूरदर्शन (Doordarshan) ने पुराना दौर वापस ला दिया है. रामायण जहां पिछले 3 हफ्तों से टीआरपी के नए रिकॉर्ड बना रही हैं, वहीं डीडी भारती पर दोबारा प्रसारित होने वाले शो महाभारत (Mahabharata) की भी चर्चा कम नहीं है. दोबारा से प्रसारित होने वाले इन धारावाहिकों के साथ ही इनके किरदारों की चर्चा भी तेज हो गई हैं. लगभग तीन दशकों पुराने इस शो को लेकर लोगों में आज भी जबरदस्त एक्साइटमेंट देखने को मिल रही है. इन दिनों महाभारत के भीम (Bheem) की चर्चा खूब हो रही है. क्या आप जानते हैं कि वो एक भारत के खिलाड़ी भी रह चुके हैं.

    महाभारत से मिली इस खिलाड़ी को पहचान
    महाभारत में अपनी लंबी-चौड़ी कद-काठी के लिए पहचाने वाले भीम, पांच पांडवों में से एक थे. बीआर चोपड़ा की महाभारत में जिस शख्स ने इस किरदार को निभाया था, उनका नाम प्रवीण कुमार सोबती (Praveen Kumar Sobti ) हैं. प्रवीण कुमार भारत के 'हैमर थ्रो' खिलाड़ी रहे हैं.  वो एश‍िया के नंबर वन ख‍िलाड़ी रह चुके हैं. खेल के मैदान में बेहतरीन ख‍िलाड़ी होने के बावजूद उन्हें सीरियल महाभारत से पहचान मिली.

    कई प्रतियोगिताएं जीती
    प्रवीण ने कई प्रतियोगिताएं जीती और 1966 के कॉमनवेलथ गेम्स में डिस्कस थ्रो के लिए उनका सिलेक्शन किया गया. जमैका में आयोजित इस खेल प्रतियोगिता में प्रवीण ने सिल्वर मेडल जीता. 1972 में प्रवीण ने जर्मनी के म्यूनिक शहर में आयोजित ओलंपिक्स में हिस्सा लिया.



    जिंदगी का सबसे अहम मोड़
    एक इंटरव्यू के दौरान प्रवीण ने बताया था कि वो एशियन खेलों में हिस्सा लेने के लिए हैमर थ्रो की प्रैक्टिस कर रहे थे और तब उनकी मुलाकात एक कास्टिंग डायरेक्टर से हुई थी. सालभर बाद उन्हें मुंबई से बुलावा आया और मुंबई में कुछ छोटे मोटे रोल करने के बाद प्रवीण की जिंदगी का सबसे अहम मोड़ आया.

    भीम के लिए परेशान थे बी आर चोपड़ा
    उन्होंने बताया कि महाभारत की पूरी कास्ट फ़ाइनल हो गई थी लेकिन भीम के लिए बी आर चोपड़ा साहब परेशान थे.मुझे देखते ही बोले, चलो भई शूटिंग की तैयारी करो भीम मिल गया है. उन्होंने कहा थी कि लोग आज भी मुझे प्रवीण के नाम से कम और भीम के नाम से ज्यादा जानते हैं.

    दमदार शरीर बनाने में लगे 3 साल
    प्रवीण ने एक्ट‍िंग में आने से पहले अपने शेड्यूल के बारे में बताया था कि वो रोज दमदार शरीर बनाने के लिए प्रैक्टिस करते थे. गांव में कोई जिम जैसी चीज नहीं थी और न ही तब तक मैंने ऐसी चीज देखी थी. मां घर में जो चक्की अनाज पीसने के लिए इस्तेमाल करती थी, उसी की सिल्ल‍ियों का वजन उठाकर मैं ट्रेनिंग करता था. रोज सुबह 3 बजे से सूरज निकलने तक मैं ट्रेनिंग करता था. तीन साल लगे शरीर बनाने में और जब जानने वालों ने मुझे देखा तो वो पहचान नहीं पाए. मेरा शरीर एकदम देसी खुराक से बना था.

    ये भी पढ़ें- तीसरी रिकॉर्डिंग में फाइनल हुआ था 'मैं समय हूं', जानिए किसने किया था महाभारत में ये किरदार

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज