होम /न्यूज /मनोरंजन /बर्थडे स्पेशल: दिग्गज एक्ट्रेस सुरेखा सीकरी जब घर-घर में बन गईं थीं खौफ का दूसरा नाम!

बर्थडे स्पेशल: दिग्गज एक्ट्रेस सुरेखा सीकरी जब घर-घर में बन गईं थीं खौफ का दूसरा नाम!

सुरेखा को जन्मदिन की बधाई.
(फोटो साभार : #surekhasikri/Instagram)

सुरेखा को जन्मदिन की बधाई. (फोटो साभार : #surekhasikri/Instagram)

नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (National School Of Drama) में अपनी एक्टिंग की धार को तेज करने वाली सुरेखा सीकरी (Surekha Sikri) ...अधिक पढ़ें

    मुंबई : थियेटर, सिनेमा और छोटे पर्दे हर जगह दिग्गज कलाकार सुरेखा सीकरी (Surekha Sikri)  का नाम बहुत ही सम्मान के साथ लिया जाता है. यह शानदार अदाकारा आज अपना जन्मदिन मना रही हैं. 19 अप्रैल 1945 में जन्मीं सुरेखा सीकरी ने 1978 में पॉलिटिकल ड्रामा फिल्म ‘किस्सा कुर्सी का’  (Kissa Kursi Ka) से डेब्यू किया. इसके बाद कई हिंदी फिल्मों और मलयालम फिल्मों में सपोर्टिंग कलाकार की भूमिका निभाई. इसके अलावा कई डेली सोप में अपने अभिनय का ऐसा डंका बजवाया कि लोगों के जेहन में बस गईं सुरेखा सीकरी.

    सुरेखा सीकरी (Surekha Sikri) ने चाहे कितने भी फिल्मों में काम किया हो लेकिन उन्हें घर-घर पहचान मिली लंबे समय से दर्शकों का मनोरंजन करने वाले शो ‘बालिका वधू’ के कल्याणी  के किरदार से. इस कैरेक्टर ने उन्हें एक ऐसे मुकाम पर पहुंचा दिया जिसकी चाहत हर एक्टर-एक्ट्रेस को होती है. सीरियल ‘बालिका वधू’  की दादी सा यानी कल्याणी देवी ने अपने रुतबे से ऐसा खौफ और प्यार का मिलाजुला रुप दिखाया कि हर कोई सुरेखा का मुरीद हो गया.

    एक तरफ जग्या के लिए उनका प्यार तो वहीं आनंदी के लिए सख्ती ने उन्हें विलेन बना दिया. हालांकि बाद में आनंदी से अजीज उन्हें कोई नहीं लगता. कल्याणी देवी की एक आवाज सुनते ही पूरा गांव उन के पैरों में आकर गिर जाता था. पूरे गांव में कोई भी इंसान कल्याणी देवी की बात को नहीं टाल सकता था. उम्रदराज होने के बाद भी कल्याणी देवी अपने पूरे इलाके पर राज करती थीं. सुरेखा की बेमिसाल एक्टिंग ही थी कि कई घरों में बच्चे और महिलाएं उनके दबंग से खौफ खाते थे. दादी सा की एक्टिंग का कमाल ही था कि सिद्धार्थ सेनगुप्ता और प्रदीप यादव के निर्देशन में बना यह धारावाहिक लंबे समय तक चलने वाला पहला शो बन गया.

    सुरेखा सीकरी ने दिल्ली के एनएसडी में पढ़ाई पूरी करने के बाद नाटक, सीरियल और फिल्मों में उन्होंने एक लंबा सफर तय किया है. 'किस्सा कुर्सी का'  के अलावा 'तमस', 'सलीम लंगड़े पर मत रो', 'लिटिल बुद्धा', 'सरफरोश' , 'काली सलवार', 'रेनकोट', 'तुमसा नहीं देखा', 'हमको दीवाना कर गए', 'देव डी', के अलावा  आयुष्मान खुराना की फिल्म 'बधाई हो' जैसी सुपरहिट फिल्मों के साथ-साथ सोशल फिल्म 'शीर कोरमा' में भी काम किया. सुरेखा  काफी समय से स्वस्थ नहीं चल रही हैं. लेकिन वह अब भी काम कर रही हैं.

    Tags: Balika vadhu, National School of Drama

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें