Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    मुकेश खन्ना की सफाई- जितनी इज्जत मैं नारियों की करता हूं, शायद ही कोई करता होगा

    मुकेश खन्ना.
    मुकेश खन्ना.

    मुकेश खन्ना (Mukesh Khanna) ने कहा है कि, मैंने कभी नहीं कहा कि औरतों को काम नहीं करना चाहिए. मैंने ये नहीं कहा कि, नारी बाहर जाती है तो Me Too होता है. मैं सिर्फ़ ये बताने जा रहा था कि #MeToo की शुरुआत कैसे होती है. मुझे अफ़सोस है कि मैं अपनी बात सही ढंग से नहीं रख पाया.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 1, 2020, 8:38 PM IST
    • Share this:
    मुंबई. टीवी सीरियल महाभारत में 'भीष्म पितामह' और 'शक्तिमान (Shaktimaan)' के किरदार को जीवंत करने वाले मुकेश खन्ना (Mukesh Khanna) का मीटू मूवमेंट पर दिए गए बयान पर नेटिजन्स ने उन्हें जमकर ट्रोल किया है. उनका मीटू को लेकर दिए गए बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है.

    वीडियो में मुकेश खन्ना कह रहे हैं कि- 'मर्द अलग होता है औरत अलग होती है. औरत की रचना अलग होती है और मर्द की अलग होती है. औरत का काम होता है घर संभालना, माफ करना मैं कभी-कभी बोल जाता हूं. प्रॉब्लम कहां से शुरू हुई है मी-टू (#MeToo) की, जब औरतों ने भी काम करना शुरू कर दिया. आज औरत मर्द के साथ कंधे से कंधा मिलाकर बात करती हैं.'

    इस वीडियो को लेकर विवाद हो गया तो मुकेश खन्ना ने सफाई पेश की है. मुकेश खन्ना ने कहा है कि सोशल मीडिया पर जो वीडियो वायरल हुआ है, वह एक छोटा अंश है और उसके आधार पर उन्हें गलत नहीं ठहराया जा सकता. एक्टर ने अपने फेसबुक और इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक वीडियो शेयर करके अपनी सफाई दी है. उन्होंने विडियो के साथ बड़ी सी पोस्ट भी लिखी है.



    मुकेश खन्ना ने बड़ी सी पोस्ट में ये बातें लिखी हैं
    उन्होंने लिखा है कि, ‘मुझे सचमुच हैरानी हो रही है कि मेरे एक स्टेट्मेंट को बहुत ही ग़लत तरीक़े से लिया जा रहा है. मुझे औरतों के ख़िलाफ़ बताया जा रहा है. जितनी इज़्ज़त मैं नारियों की करता हूँ शायद ही कोई करता होगा. इसीलिए मैंने LAXMI BOMB नाम का विरोध किया. मैं नारियों की सुरक्षा को लेकर चिंतित हूँ. हर रेप कांड के ख़िलाफ़ मैं बोला हूं. मेरे एक इंटरव्यू की क्लिपिंग को लेकर कुछ लोगों ने शोर मचा दिया है.

    मैंने कभी नहीं कहा कि औरतों को काम नहीं करना चाहिए. मैं सिर्फ़ ये बताने जा रहा था कि Me Too की शुरुआत कैसे होती है. हमारे देश में औरतों ने हर फ़ील्ड में अपनी जगह बनाई है. फिर चाहे वो डिफ़ेन्स मिनिस्टर हो, फ़ाइनैन्स मिनिस्टर हो, विदेश मंत्री हो या स्पेस में हो. हर जगह नारी ने अपना परचम लहराया है. तो मैं नारी के काम करने के ख़िलाफ़ कैसे हो सकता हूं. उस विडियो इंटरव्यू में मैं सिर्फ़ नारी के बाहर जाकर काम करने से क्या दिक़्क़तें आ सकती हैं उस पर रोशनी डाल रहा था. जैसे घर के बच्चे अकेले पड़ जातें हैं. मैं पुरुष और नारी धर्म की बात कर रहा था जो हज़ारों सालों से चला आ रहा है.
    View this post on Instagram

    मुझे सचमुच हैरानी हो रही है कि मेरे एक स्टेट्मेंट को बहुत ही ग़लत तरीक़े से लिया जा रहा है। मुझे औरतों के ख़िलाफ़ बताया जा रहा है। जितनी इज़्ज़त मैं नारियों की करता हूँ शायद ही कोई करता होगा। इसीलिए मैंने LAXMI BOMB नाम का विरोध किया। मैं नारियों की सुरक्षा को लेकर चिंतित हूँ। हर रेप कांड के ख़िलाफ़ मैं बोला हूँ।मेरे एक इंटर्व्यू की क्लिपिंग को लेकर कुछ लोगों ने शोर मचा दिया है। मैंने कभी नहीं कहा कि औरतों को काम नहीं करना चाहिए। मैं सिर्फ़ ये बताने जा रहा था कि Me Too की शुरुआत कैसे होती है। हमारे देश में औरतों ने हर फ़ील्ड में अपनी जगह बनाई है। फिर चाहे वो डिफ़ेन्स मिनिस्टर हो, फ़ाइनैन्स मिनिस्टर हो , विदेश मंत्री हो या स्पेस में हो हर जगह नारी ने अपना परचम लहराया है। तो मैं नारी के काम करने के ख़िलाफ़ कैसे हो सकता हूँ। उस विडीओ इंटर्व्यू में मैं सिर्फ़ नारी के बाहर जाकर काम करने से क्या दिक़्क़तें आ सकती हैं उस पर रोशनी डाल रहा था। जैसे घर के बच्चे अकेले पड़ जातें हैं। मैं पुरुष और नारी धर्म की बात कर रहा था जो हज़ारों सालों से चला आ रहा है। मैंने ये नहीं कहा कि नारी बाहर जाती है तो Me Too होता है। मैंने एक साल पहले इसी टॉपिक पर एक विडीओ बनाई थी जो मैं आप लोगों को दिखाना चाहता हूँ कि तब भी मैंने यही कहा था कि नारियों को अपने काम काने की जगह पर अपनी सुरक्षा कैसे करनी चाहिये। मैंने तब भी नहीं कहा कि नारियाँ काम पर ना जाएँ। तो आज कैसे कह सकता हूँ। मैं अपने सभी दोस्तों से यही कहना चाहता हूँ कि मेरे स्टेट्मेंट को ग़लत तरीक़े से मत पेश करें। मेरा पिछला चालीस साल, मेरा फ़िल्मी सफ़र इस बात की पुष्टि करता है मैंने हमेशा नारियों की इज़्ज़त की है। इस बात को हर कलाकार या हर फ़िल्म यूनिट का मेम्बर जानता है कि मैंने हमेशा सबकी इज़्ज़त की है।अगर कोई भी नारी मेरे इस स्टेट्मेंट से आहत हुई हो तो मुझे अफ़सोस है कि मैं अपनी बात सही ढंग से नहीं रख पाया। मुझे इस बात की चिंता नहीं कि नारी समाज मेरे ख़िलाफ़ हो जाएगा। उन्हें होना भी नहीं चाहिए।मेरी ज़िंदगी खुली किताब है। सब जानते हैं कि मैंने कैसे ज़िंदगी जी है और कैसे जी रहा हूँ। मैं अपना वही इंटर्व्यू आपको पूरा दिखाना चाहता हूँ जिसमें से ये क्लिपिंग ली गई है। आपको पता चलेगा मैं नारियों के प्रति क्या विचार रखता हूँ।

    A post shared by Mukesh Khanna (@iammukeshkhanna) on




    मैंने ये नहीं कहा कि नारी बाहर जाती है तो Me Too होता है. मैंने एक साल पहले इसी टॉपिक पर एक विडियो बनाई थी जो मैं आप लोगों को दिखाना चाहता हूं कि तब भी मैंने यही कहा था कि नारियों को अपने काम करने की जगह पर अपनी सुरक्षा कैसे करनी चाहिए. मैंने तब भी नहीं कहा कि नारियां काम पर ना जाएं, तो आज कैसे कह सकता हूं.

    मैंने हमेशा नारियों की इज़्ज़त की है
    मैं अपने सभी दोस्तों से यही कहना चाहता हूं कि मेरे स्टेटमेंट को ग़लत तरीक़े से मत पेश करें. मेरा पिछला चालीस साल, मेरा फ़िल्मी सफ़र इस बात की पुष्टि करता है मैंने हमेशा नारियों की इज़्ज़त की है. इस बात को हर कलाकार या हर फ़िल्म यूनिट का मेम्बर जानता है कि मैंने हमेशा सबकी इज़्ज़त की है. अगर कोई भी नारी मेरे इस स्टेटमेंट से आहत हुई हो तो मुझे अफ़सोस है कि मैं अपनी बात सही ढंग से नहीं रख पाया.

    मुझे इस बात की चिंता नहीं कि नारी समाज मेरे ख़िलाफ़ हो जाएगा. उन्हें होना भी नहीं चाहिए. मेरी ज़िंदगी खुली किताब है. सब जानते हैं कि मैंने कैसे ज़िंदगी जी है और कैसे जी रहा हूं. मैं अपना वही इंटरव्यू आपको पूरा दिखाना चाहता हूं, जिसमें से ये क्लिपिंग ली गई है. आपको पता चलेगा मैं नारियों के प्रति क्या विचार रखता हूं.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज