KBC 12: फरहत नाज ने 25 लाख लेकर क्विट किया शो, लखनऊ से जुड़ा था 50 लाख का सवाल, ये है सही जवाब

रायबरेली की रहने वाली फरहत नाज एक मदरसे में पिछले 12 साल से टीचर हैं.
रायबरेली की रहने वाली फरहत नाज एक मदरसे में पिछले 12 साल से टीचर हैं.

केबीसी 12 (KBC 12) में कंटेस्टेंट फरहत नाज (Farhat Naz) अगर 50 लाख के सवाल का जवाब देतीं, तो नीचे 3 लाख 20 हजार पर आ जातीं. लाइफ लाइन नहीं होने की वजह से उन्होंने शो को क्विट करने का फैसला किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 22, 2020, 8:55 AM IST
  • Share this:
मुंबई. टीवी का सबसे चर्चित कौन बनेगा करोड़पति (Kaun Banega Crorepati) में हॉट सीट पर पहुंचीं रायबरेली की रहने वाली फरहत नाज (Farhat Naz) 50 लाख रुपये के सवाल पर आकर अटक गईं. लखनऊ से जुड़े एक सवाल का सही जवाब नहीं पता होने की वजह से उन्होंने शो छोड़ने का फैसला किया और 25 लाख जीतकर वापस लौट गईं. लाइफ लाइन नहीं होने की वजह से उन्होंने शो को छोड़ने का फैसला किया. मंगलवार (20 अक्टूबर) के एपिसोड में फास्टेस्ट फिंगर फर्स्ट का सबसे तेज जवाब देकर हॉट सीट पर अपनी जगह बनाई थी, 80 हजार जीतने के बाद बुधवार (21 अक्टूबर) के एपिसोड में उन्होंने खेल की शुरुआत 1 लाख 60 हजार के प्रश्न से की.

अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) ने शो में 50 लाख के लिए सवाल किया- 1857 के विद्रोह के दौरान लखनऊ का नेतृत्व करने वाली बेगम हजरत महल का वास्तविक नाम क्या था? इसके उन्होंने चार ऑप्शन दिए. A. बीबी मुबारिका, B. मेहर-इन-निसा, C. सिकंदर जहान, D. मोहम्मदी खानम. सवाल पर काफी देर तक उन्होंने विचार किया. उन्हें इस सवाल का जवाब 'बीबी मुबारिका' लग रहा था, क्योंकि उनके पास कोई लाइफलाइन नहीं थी और सवाल का सही जवाब नहीं पता था इसलिए उन्होंने शो को छोड़ने का फैसला किया.

शो को क्विट करने के फैसले बाद उन्होंने सवाल का जवाब बताते हुए ऑप्शन A को चुना जो गलत था, इस सवाल को सही जवाब ऑप्शन D यानी मोहम्मदी खानम है.





रायबरेली की रहने वाली फरहत नाज एक मदरसे में पिछले 12 साल से टीचर हैं और अपने स्टूडेंट्स को हिंदी व अंग्रेजी पढ़ाती हैं. फरहत के पति सऊदी में रहते हैं. शो में उन्होंने बताया कि मदरसे में गरीब तबके के बच्चे पढ़ने आते हैं. वो चाहती हैं कि आर्थिक तंगी के अभाव में बच्चों की पढ़ाई ना छूटे और वो शिक्षित हों. उनका कहना है कि लोगों को किसी भी तरह से मदरसे को कम नहीं समझना चाहिए.

फरहत ने बताया कि उनकी शादी 18 साल की उम्र में हो गई थी, जिसके वजह से वह अपनी ग्रैजुएशन पूरी नहीं कर सकी थीं. ग्रैजुएट न होने की वजह से शादी के बाद उन्हें सरकारी स्कूल में टीचर के तौर पर नौकरी नहीं मिल सकी और उन्होंने अपनी पढ़ाई पूरी करने का फैसला किया. फरहत अभी एमए सेकंड ईयर की पढ़ाई कर रही हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज