19 साल बाद अब ऐसी है KBC के पहले करोड़पति हर्षवर्धन नवाथे की लाइफ, रातोंरात स्टूडेंट से बने स्टार

Janardan Pandey | News18Hindi
Updated: August 21, 2019, 12:47 PM IST
19 साल बाद अब ऐसी है KBC के पहले करोड़पति हर्षवर्धन नवाथे की लाइफ, रातोंरात स्टूडेंट से बने स्टार
हर्षवर्धन नवाथे केबीसी के पहले करोड़पति बने थे.

कौन बनेगा करोड़पति (kaun banega crorepati) से पहले करोड़पति बनने वाले हर्षवर्धन नवाथे अब कहां हैं? न्यूज 18 हिन्दी से बातचीत में उन्होंने कई अहम बातें शेयर की हैं....

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 21, 2019, 12:47 PM IST
  • Share this:
कौन बनेगा करोड़पति के 11वें सीजन (KBC Season 11) का आगाज हो चुका है. दो एपिसोड में अब तक तीन प्रतिभागियों का खेल खत्म हो गया है. चौथी प्रतिभागी सरोज सिसोदिया हॉट सीट पर हैं और अमिताभ बच्चन (Amitabh bachchan) उनसे सवाल पूछ रहे हैं. हम सब जानते हैं कि टीवी जगत का ये सबसे सफल क्‍विज शो केबीसी साल 2000 में शुरू हुआ था, लेकिन यह बेहद कम लोगों को याद होगा कि केबीसी के पहले करोड़पति कौन बने थे. अगर कुछ लोगों को याद भी होगा तो शायद ही अब लोग ये जानते होंगे कि अब 19 साल बाद वो करोड़पति क्या कर रहे हैं.

केबीसी के पहले करोड़पति का नाम है, हर्षवर्धन नवाथे (Harshvardhan Navathe). हर्षवर्धन, मुंबई के ही रहने वाले हैं. वह अब भी मुंबई में ही रहते हैं. केबीसी के 11वें सीजन के शुरू होने के अवसर पर News 18 Hindi ने उनसे विशेष बातचीत की. आइए जानते हैं 19 साल बीतने के बाद अब कैसी है केबीसी के पहले करोड़पति की लाइफ-

kbc 11
हर्षवर्धन अब नौकरी करते हैं.


आपके केबीसी विनर बने 19 साल गुजर गए हैं, क्या अब लोग आपको केबीसी के विनर के तौर पहचानते हैं?

नया शो था. लोगों में बहुत उत्सुकता बढ़ गई थी. तब ये खेल बहुत बड़ा हो गया था. फिर मेरा नाम भी थोड़ा सा अलग है. अजय, संजय होता तो शायद लोग भूल जाते, लेकिन हर्षवर्धन नवाथे सुनने के बाद लोग पहचान लेते हैं, आज भी. हां, 10 साल बाद जो बदलाव आया वो ये कि चेहरा देखकर लोगों ने पहचाना बंद कर दिया था. लेकिन अब भी नाम जानने के बाद लोग पहचान लेते हैं.

अब आप क्या करते हैं?
मैं इस वक्त महिंद्रा एंड महिद्रा में CSR & एथिक्स डिपार्टमेंट में हूं. इस कंपनी में मैं साल 2005 से हूं. केबीसी में जीतने के वक्त तक मैं स्टूडेंट था. उस वक्त मैं सिविल सेवा (UPSE) के लिए तैयारी कर रहा था. मेरा सपना था कि आईएएस अधिकारी बनकर देश और लोगों की सेवा करूं.
Loading...

IAS बनने का सपना, लेकिन नौकरी कॉर्पोरेट में, ये कैसे हुआ?
कौन बनेगा करोड़पति ने जिंदगी में कई बदलाव लाए. उनमें से एक ये भी है. केबीसी में जीतने के बाद सिविल सेवा की परीक्षाओं से फोकस हट गया. लेकिन मैंने अपना सपना नहीं बदला. कार्पोरेट में भी मैं वही कर रहा हूं. मैं अभी सामाजिक सेवा के लिए ही काम करता हूं. असल में हर आदमी के मन में एक सेकेंड प्लान होता है. सिविल सेवा का तय नहीं होता कि सेलेक्‍शन होगा या नहीं. इसलिए तभी मैंने एमबीए करने की सोची थी. लेकिन तब पैसे नहीं थे.

kbc
अमिताभ ने अपने हाथों से साल 2000 में एक करोड़ का चेक दिया था.


केबीसी जीतने के पास मेरे पास पैसे आए. केबीसी के पैसों को मैंने अपनी पढ़ाई पर खर्च किए. मैंने विदेश (UK) जाकर एमबीए की पढ़ाई की. इसके बाद कुछ और जगहों पर काम किया. फिर महिंद्रा एंड महिंद्रा में आया. अब 15 सालों से यही हूं.

केबीसी जीतने के बाद और पढ़ाई की तरफ चले गए, क्या आपको मुंबई में कुछ और ऑफर नहीं मिले?
केबीसी का पहला शो जीतना बहुत कुछ बदल देने वाला था. तब भी मुंबई में मेरे कई दोस्त थे. मुझे कई सारी पा‌र्टियों में बुलाया गया. तब मैं काफी यंग था. मुझे कई जगहों से मॉडलिंग के ऑफर आए. टीवी चैनलों के कई टेलीविजन चैनलों की ओर से कॉन्ट्रैक्ट पर कई तरह के ऑफर मिले. विज्ञापनों और टीवी शोज को लेकर तो लगातार कई ऑफर आ रहे थे. कई आयोजनों में, उद्घाटन समारोहों में बतौर चीफ गेस्ट बुलाया जाता रहा.

हां, उन दिनों अभिनेता जॉन अब्राहम और क्रिकेटर सलिल अंकोला से दोस्ती हो गई थी. असल में जॉन अब्राहम के साथ काफी करीबी बढ़ गई थी. हमने साथ में कुछ शोज भी किए थे. लेकिन उनके जीने का अंदाज ही अलग था और मेरा अलग. इसलिए मैंने अपना रास्ता चुना.

kbc
केबीसी के पहले विनर बनने के बाद जॉन अब्राहम के दोस्त बने गए थे हर्षवर्धन.


केबीसी के पैसे कैसे मिले थे? क्या कुछ पैसे कटते हैं?
केबीसी की शूटिंग पहले ही हो जाती है. ऐसे में जिस दिन आपका एपिसोड दिखाया जाता है उस दिन की डेट का चेक मिलता है. चेक वही होता है जो आपको दिखाया जाता है. अब तो अकाउंट से सीधे ट्रांसफर होने लगा है. अब इस राशि में टैक्‍स कटकर पैसे मिलते हैं. लेकिन मेरे समय पर चेक जो दिखता था वो असली होता था. अभी भी ऐसा ही है. मैंने पैसे अपने सेविंग अकाउंट में जमा किए थे.

अब केबीसी की टीम से कोई कनेक्‍शन? क्या जीतने के बाद कभी संपर्क किया गया?
चैनल भले बदल गए है. डायरेक्टर और प्रोडक्‍शन टीम वही है. इसलिए कोई ऐसा इवेंट होता है तो बुलाते हैं. करीब चार-पांच साल पहले मुझे एक कार्यक्रम में बुलाया था. जब काम कुछ होता है तो बुलाते हैं.‌ मिलने में सबका व्यवहार वैसा ही है.

तब के केबीसी और अब के केबीसी में क्या फर्क आया है?
अब 19 साल हो गया है. पहले स्टार पर आता था अब सोनी पर आता है. चैनल के हिसाब से कंटेस्टेंट चुनने में थोड़े बदलाव दिखे हैं. जैसे शुरुआत में एकदम आम लोगों को चुनते थे. बाद में रूरल इंडिया पर फोकस गया तो कई गांव से नाता रखने वाले लोग दिखे. जिन दिनों में शाहरुख खान कार्यक्रम होस्ट करते थे उन दिनों यूथ पर बहुत फोकस था.

kbc
आईएएस अधिकारी बनना चाहते थे हर्षवर्धन.


आप पहले विनर हैं, आज के केबीसी के कंटेस्टेंट के लिए कोई मैसेज
यह एक क्वीज शो है. अगर आप इसमें पैसे देखकर खेलेंगे तो कुछ नहीं कर पाएंगे. बचपन से ही मैं सवाल-जवाब बहुत करता था. मैंने पाया कि खेल में लंबा टिकने के लिए इसी प्रवृति का आदमी चाहिए होता है. साथ ही मैं सिविल सेवा की तैयारी करता था इसलिए मेरा जीए अच्छा था.

केबीसी के दूसरे विनर्स से कुछ कहना चाहेंगे?
हां, यही कि केबीसी में आने से पहले अगर कोई चीज कर रहे हैं तो उसे करते रहें. केबीसी जीतने के बाद सबकुछ भूलकर कुछ और ही करना नहीं शुरू करना चाहिए. केबीसी जीतने से समाज की अपेक्षाएं जुड़ जाती हैं. ऐसे में आपको और ज्यादा संभलकर कदम उठाने की जरूरत होती है.

हर्षवर्धन न्यूज 18 हिन्दी से बातचीत के लिए शुक्रिया
आपका भी बहुत शुक्रिया.

यह भी पढ़ेंः KBC Season 11: टीवी के अलावा यहां भी देख सकते हैं केबीसी

यह भी पढ़ेंः KBC: 1 लाख 60 हजार जीतने के बाद इस इमारत को पहचानने में फेल हुए विवेक, मिले बस 10 हजार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए टीवी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2019, 12:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...