• Home
  • »
  • News
  • »
  • entertainment
  • »
  • TV PEARL V PURI RAPE CASE VICTIM FATHER ISSUED OFFICIAL STATEMENT SAYS STOP ACCUSING MY DAUGHTER PR

पर्ल वी पुरी केस: पीड़िता के पिता ने जारी किया ऑफिशियल स्टेटमेंट, पूछा-बच्ची क्यों झूठ बोलेगी?

पर्ल को बच्ची ने ही पहचाना. (फोटो साभारः इंस्टाग्रामः pearlvpuri)

पर्ल वी पुरी (Pearl V Puri) रेप मामले में एक नया मोड़ आया है. पीड़ित बच्ची के पिता ने कहा कि उनकी 5 साल की बच्ची झूठ क्यों बोलेगी और बच्ची ने ही पर्ल को पहचाना है.

  • Share this:
    मुंबई. टीवी एक्टर पर्ल वी पुरी (Pearl V Puri) नाबालिग से रेप के आरोप में ज्यूडिशियल कस्टडी में हैं. पर्ल के समर्थन में एकता कपूर (Ekta Kapoor), दिव्या खोसला, निया शर्मा, हिना खान जैसे सेलेब्स आ चुके हैं. बच्ची की मां ने भी पर्ल का समर्थन करते हुए एक्टर को निर्दोष बताया है. पीड़ित बच्ची की मां का कहना है कि उसका पति बच्ची की कस्टडी के लिए इस तरह के आरोप लगा रहा है. इस बीच बच्ची के पिता ने अपने एडवोकेट के माध्यम से एक स्टेटमेंट जारी कर कहा है कि प्लीज बच्ची पर आरोप लगाना बंद करें और पर्ल का नाम उन्होंने नहीं लिया बल्कि बच्ची ने ही पहचाना.

    टीवी9हिंदी में छपी खबर के अनुसार बच्ची के पिता ने अपने वकील के हवाले से एक स्टेटमेंट जारी कर इस केस के बारे में तथ्यों को सामने रखा है. वकील ने बताया कि ‘मैं आशीष ए दूबे 5 साल की बच्ची के पिता का वकील अपने क्लाइंट की तरफ से स्टेटमेंट जारी कर रहा हूं. बच्ची अपनी मां की कस्टडी में थी. 5 महीने से बच्ची से मिले नहीं थे. एक दिन स्कूल में फीस भरने के लिए गए तो बच्ची भागकर अपने पापा के पास आ गई. वह बहुत डरी हुई थी. उसने अपने पापा के साथ जाने के लिए कहा. बच्ची को डरा देखकर वे अपने साथ ले आए. घर पर बच्ची ने पूरी बात बताई. इसके बाद उसे पुलिस स्टेशन ले गए और नायर ऑस्पिटल में मेडिकल जांच में साफ हो गया कि बच्ची सच बोल रही है. बच्ची ने आरोपी का ऑनस्क्रीन नाम बताया लेकिन चूंकि टीवी नहीं देखते थे इसलिए पहचान नहीं सके. जांच के बाद पता चला कि वह पर्ल वी पुरी है. बच्ची को कई एक्टर की फोटो दिखाई लेकिन पर्ल की फोटो देखते ही वह पहचान गई. पुलिस और मजिस्ट्रेट के सामने भी बच्ची ने वहीं बात बताई'.

    वकील ने अपने क्लाइंट की तरफ से बात रखते हुए बताया कि 'सोशल मीडिया पर झूठी कहानियां बनाई जा रही हैं. बच्ची का पिता होने के नाते उसे थाने ले गए और मेडिकल जांच करवाई क्या ये गलत है. मेरे कलाइंट ने किसी का नाम नहीं लिया बच्ची ने ही आरोपी को पहचाना. मेडिकल जांच में पुष्टि हुई तो मेरे क्लाइंट कहां गलत हैं. बच्ची की मां भी नायर हॉस्पिटल आई थी. क्या 5 साल की बच्ची इस तरह का झूठ बोलेगी? शादी अच्छी बुरी होने का घटना से कोई लेना-देना नहीं. आरोपी को सजा मिलनी चाहिए. प्रभावशाली लोग एक बच्ची के साथ हुए अपराध पर इस तरह नफरत फैला रहे हैं तो माता-पिता अपने बच्चों के न्याय के लिए क्यों लड़ते है? इसके अलावा उन्होंने कहा कि, मिडिल क्लास पिता आरोपों से आहत है और सभी से अपील है कि बच्ची पर झूठ बोलने का आरोप लगाना बंद करें’.