रामानंद सागर की 'रामायण' के फिर से प्रसारण के पीछे ये है असली वजह

रामायण का दृश्य.
रामायण का दृश्य.

'रामायण' दूरदर्शन का एक सुपरहिट सीरियल था जिसे प्रसारित हुए अब पूरे 33 साल हो चुके हैं. रामानंद सागर का ये सीरियल जनवरी 1987 से जुलाई 1988 के बीच प्रसारित हुआ था. अब इसका पुनः प्रसारण होने जा रहा है. न्यूज 18 हिन्दी के डिजिटल प्राइमटाइम में जानिए इसके पीछे की वजह.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 27, 2020, 9:37 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. टीवी अभिनेता अरुण गोविल (Arun Govil) रामानंद सागर (Ramanand Sagar) की रामायण (Ramayan) में श्रीराम का किरदार मिलने का किस्सा सुनाते हैं, "उन दिनों मैं धारावाहिक विक्रम और बेताल में राजा विक्रमादित्य का रोल निभा रहा था. मुझे रामायण के बारे में पता चला तो मैंने रामानंद सर के पास जाकर राम का किरदार निभाने का अनुरोध किया. महीने भर तक वो कलाकर ढूंढते रहे फिर उन्होंने मुझे एक दिन फोन किया और कहा, 'तेरे से अच्छा राम नहीं मिलेगा."

अरुण गोविल ही रामायण के प्रसारण के बाद का एक किस्सा सुनाते हैं, "रामायण के प्रसारण के बाद बहुत सारे लोग मुझे ही भगवान राम मानने लगे थे. ऐसा कई बार हुआ जब हमें देश के कोने-कोने से बुलावे आए. जब हम वहां कार्यक्रम पहुंचे तो अचानक लोग खड़े हो जाते. हमसे उम्र में बड़े कई लोग हाथ जोड़े खड़े रहते. कई बार थोड़ा असहज होने लगता जब लोग पैर छूने लगते थे."

लक्ष्‍मण का किरदार निभाने वाले सुनील लहरी (Sunil Lahri) कहते हैं, 'मेरे साथ दो-तीन बार ऐसा हुआ है कि आप सोच लीजिए कि मैं बस बच गया हूं. एक बार हम दिल्ली के रामलीला मैदान (Ramleela Maidan) में किसी फंक्शन के लिए गए थे, उस समय मुझे नया-नया स्टारडम था. लोग वहां पर हाथ बढ़ा रहे थे मिलाने के लिए तो मैं भी हाथ बढ़ाने लगा. थोड़ी देर बाद मैंने देखा कि मेरे कुर्ते की आस्तीन (स्लीव) ही गायब थी.



इन तीन वक्तव्यों से आप इस धारावाहिक के प्रभाव अंदाजा लगा सकते हैं कि आखिर क्यों रामानंद सागर के जनवरी 1987 से जुलाई 1988 के बीच प्रसारित हुए एक धारावाहिक के लिए मार्च 2020 में फिर से प्रसारित करने की मांग उठी. इसमें एक बेहद रोचक किस्सा जुड़ा हुआ है. पिछली पीढ़ी के कई लोग दावा करते हैं जब रामायण शुरू होता था तो गलियां सूनी हो जाती थीं. आज फिर से देश में कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन होने के बाद वही दौर है. लोगों के घरों से बाहर निकलने पर पाबंदी है, गलिया सूनी हैं तो अचानक देश फिर से उसी दौर में लौट जाना चाहता है, जहां उसे मानसिक सुकून मिलता था. शायद यही वजह थी कि केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को इसको लेकर ऐलान करना पड़ा, "एक बार फिर दूरदर्शन पर रामानंद सागर के 'रामायण' को प्रसारित किया जाएगा."
रामायण का एक सीन.


न्यूज 18 हिन्दी के डिजिटल प्राइमटाइम में आज इसी धरावाहिक के बारे में कुछ बेहद दिलचस्प बातें हम आपको बताते हैं. केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के अनुसार, जनता की मांग पर 28 मार्च से 'रामायण' का पुनः प्रसारण दूरदर्शन के नेशनल चैनल पर शुरू होगा. पहला एपिसोड सुबह 9:00 बजे और दूसरा एपिसोड रात 9:00 बजे होगा. दूरदर्शन का एक सुपरहिट सीरियल को प्रसारित हुए अब 33 साल हो चुके हैं. इस बीच दो पीढ़ियों के लोग बड़े हो गए हैं.

मेरे पोतों को अजीब लगेगाः अरुण गोविल
एक्‍टर अरुण गोविल (Arun Govil) ने इस बारे में कहा, 'क्‍योंकि ये एक फैमली शो है, इसलिए पूरा परिवार अब साथ बैठकर देख सकता है. ये लोगों को साथ बैठकर सकारात्‍मक सोच के लिए प्रेरित करेगा साथ ही रामायण के गूढ़ तथ्‍य को समझने में मदद करेगा. अब मेरे पोते इसे टीवी पर देखेंगे. उन्‍हें बहुत अजीब लगेगा कि मैं उनके बगल में बैठा हूं और वो मुझे टीवी पर देखेंगे."

बॉम्‍बे टाइम्‍स को द‍िए इंटरव्‍यू में अरुण गोविल ने कहा, "रामानंद सागर का 'रामायण' तब भी दर्शकों के दिल में बस गया था और ऐसा ही अब भी होगा. मुझे लगता है कि इस शो पर खुद ईश्‍वर का ही आशीर्वाद है, वरना इतने सालों बाद आखिर क्‍यों इसकी वापसी होती. ऐसे कठिन समय में ये बहुत जरूरी हो जाता है कि लोग ईश्‍वर में अपनी आस्‍था रखें. अगर ये शो लोगों को ईश्‍वर की शिक्षाएं बताने और दिखाने में सफल है, तो ये अच्‍छा ही है."

रामानंद सागर की 'रामायण' का एक सीन. (फाइल फोटो).


मेरी बेटी, मेरे जंगल में रहने को लेकर सहज नहीं रहतीः दीपिका चिखलिया
सीता माता के किरदार में नजर आईं एक्‍ट्रेस दीपिका चिखलिया (Dipika Chikhlia) ने कहा, 'जब से ये खबर सामने आई है, मेरा फोन बजना बंद ही नहीं हुआ है. इस शो के दोबारा टेलीकास्‍ट से सिर्फ शहरों के ही नहीं बल्कि गांव के लोग भी इस शो से दोबारा जुड़ पाएंगे. अब नई पीढ़ी भी इस शो को देखेगी.' उन्‍होंने आगे कहा, 'आज भले ही प्रोडक्‍शन वेल्‍यू और तकनीक विकसित हो गई है. लेकिन हमारे डायलॉग, कहानी, उसे प्रस्‍तुत करने का तरीका सब कुछ यूनीक था और इसलिए यह अब तक रामायण का बेस्‍ट वर्जन है. जब मेरी बेटी छोटी थी तो उसे ये अजीब लगता था कि मैं शो में अपने पति के साथ जंगल में रहती हूं.'

दारा स‌िंह की आखिरी इच्छा थी दोबारा रामायण देखनाः विंदु दारा सिंह
हनुमान के किरदार में नजर आने वाला दारा सिंह के बेटे विंदु दारा सिंह ने बॉम्‍बे टाइम्‍स को द‍िए इंटरव्‍यू में कहा, "मेरे पिता के आखिरी दिनों में जब मैंने उनसे पूछा कि आपकी कोई इच्‍छा है, जो अधूरी रह गई हो, तो काफी जोर देने के बाद उन्‍होंने कहा था, 'चल रामायण लगा दे, मैं उसे दोबारा देखूंगा.' वह इस शो को काफी इंट्रेस्‍ट से देखते थे और एक दिन में 5 एपिसोड तक देख लेते थे. यह उनकी आखिरी इच्‍छा थी."

इन शो को देखने की भी उठ रही हैं मांगे
रामायण' को एक बार फिर छोटे पर्दे पर देखने के लिए दर्शक भी काफी एक्साइटेड हैं. सोशल मीडिया पर भी लोगों के एक्साइटमेंट को साफ देखा जा सकता है, लेकिन इस बीच अब सोशल मीडिया यूजर्स 'महाभारत (Mahabharata)', 'शक्तिमान' और 'देख भाई देख', 'मालगुडी डेज' और 'नुक्कड़' जैसे पुराने शोज को भी फिर से दिखाए जाने की मांग कर रहे हैं. सोशल मीडिया (Social Media) पर भारी संख्या में लोग इन सीरियल्स को दिखाए जाने की बात कह रहे हैं.

न‍िर्देश रामानंद सागर के साथ रात, सीता और लक्ष्‍मण.


रामायण की वापसी के साथ ही सोशल मीडिया पर 'महाभारत' भी ट्रेंड कर रहा है. सोशल मीडिया पर लोगों को कहते देखा जा सकता है कि, वह रामायण के साथ ही महाभारत भी देखना चाहते हैं. वह मेकर्स से लगातार इसे दोबारा टेलीकास्ट करने की रिक्वेस्ट कर रहे हैं. लोगों का कहना है कि उन्हें रामायण के अलावा महाभारत और शक्तिमान भी काफी पसंद था, इसलिए ये शोज भी दोबारा जरूर आने चाहिए.

यह भी पढ़ेंः Corona पर करण जौहर ने बच्चों से पूछे सवाल, यश-रूही बोले- यह बहुत बुरा है...
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज