वैशाली टक्कर ने टाली शादी, बोलीं- 'जब मेरे देश के लोग मर रहे हैं, तो मैं कैसे सेलिब्रेट कर सकती हूं'

वैशाली टक्कर 'ससुराल सिमर का' से घर-घर मशहूर हो गई थीं (फोटो साभारः Instagram/Vaishali Takker)

वैशाली टक्कर 'ससुराल सिमर का' से घर-घर मशहूर हो गई थीं (फोटो साभारः Instagram/Vaishali Takker)

टीवी शो 'ससुराल सिमर का' (Sasural Simar Ka) की मशहूर एक्ट्रेस वैशाली टक्कर (Vaishali Takker) ने हालात को देखते हुए अपनी शादी टाल दी है.

  • Share this:

नई दिल्लीः 'ससुराल सिमर का' फेम वैशाली टक्कर (Vaishali Takker), जिनका पिछले महीने रोका हुआ था और उम्मीद थी कि वे इस साल जून में डॉ. अभिनंदन सिंह हुंदल से शादी कर लेंगी और युगांडा चली जाएंगी. लेकिन, अब एक्ट्रेस की शादी (Vaishali Takker Wedding) अगले साल तक के लिए टल गई है. एक्ट्रेस ने अब कोरोना संकट (COVID-19) में जरूरतमंदों की मदद का फैसला किया है और सड़कों पर लोगों को भोजन और मेडिकल हैल्प मुहैया करा रही हैं.

वैशाली एक ग्रुप के साथ जुड़कर लोगों की मदद कर रही हैं. ईटाइम्स से बातचीत के दौरान, एक्ट्रेस ने बताया कि वे एक स्टूडेंट ग्रुप के साथ जुड़कर लोगों की मदद कर रही हैं, जो महामारी में जरूरतमंदों को जरूरी सुविधाएं दे रहा है. वे आगे कहती हैं कि ऐसे समय में जब लोग कोरोना के चलते मर रहे हैं और परेशान हैं, वे अभी किसी भी उत्सव, विवाह और भारत से बाहर जाने के बारे में सोच नहीं सकतीं.

एक्ट्रेस ने आगे बताया, 'मैंने अभी की स्थितियों को देखते हुए, अपनी शादी को टाल दिया है. मुझे ऐसे माहौल में सैलिब्रेशन का एहसास कैसे हो सकता है, जब हर दिन लोग मर रहे हैं, परेशान हैं. इस साल एक नया जीवन शुरू करने का मेरा मन नहीं है. मैं इस साल शादी नहीं कर रही हूं. अगले साल अगर हालात बेहतर हो जाते हैं, तो मैं शादी कर लूंगी. अगर सब कुछ ठीक रहा, तो हम अगले साल शादी कर लेंगे. अभी भारत सबसे ज्यादा प्रभावित है और मैं सैलिब्रेशन, शादी या देश से बाहर जाने के मूड में नहीं हूं. मेरे देश में जब मेरे आस-पास के लोग पीड़ित हैं और मर रहे हैं, तो मुझे यह कदम उठाना ठीक नहीं लग रहा है.'


इस संकट के समय में एक्ट्रेस लोगों को मदद पहुंचा रही हैं. वे इस बारे में विस्तार से बताती हैं, 'मैं कोरोना से जुड़ी निराशाजनक खबरों के बारे में सुन, पढ़ और देख रही हूं, जिससे हर रोज बहुत सारे लोग प्रभावित हो रहे हैं. लोग सड़कों पर भूख से मर रहे हैं, क्योंकि उनके पास भोजन नहीं है, लोग ऑक्सीजन, दवाओं, प्लाज्मा और मेडिकल हैल्प की कमी के चलते अस्पतालों में मर रहे हैं. मैं हाल में इंदौर के 'स्टूडेंट्स हेल्पिंग हैंड्स' की टीम में शामिल हुई हूं. वे लोगों का एक छोटा समूह है जो सड़कों पर लोगों को भोजन उपलब्ध करा रहा है. वे लोगों को ब्लड, प्लाज्मा, दवाएं, ऑक्सीजन सिलेंडर और अन्य मेडिकल हेल्प हासिल करने में मदद कर रहा है. वे उन छात्रों की हैल्प कर रहे हैं जो अपनी फीस नहीं दे सकते हैं या उनके पास खाना या कपड़े नहीं है. मैं बैठना नहीं चाहती थी.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज