जावेद अख्तर ने कहा पीएम मोदी की आलोचना मेरा मकसद नहीं था, ट्वीट पर दी सफाई

News18Hindi
Updated: July 1, 2019, 12:18 PM IST
जावेद अख्तर ने कहा पीएम मोदी की आलोचना मेरा मकसद नहीं था, ट्वीट पर दी सफाई
जाने माने गीतकार जावेद अख्तर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा संसद भवन में पढ़े गए गालिब के शेर को मीटर से बाहर बताया था.

जाने माने गीतकार जावेद अख्तर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा संसद भवन में पढ़े गए गालिब के शेर को 'मीटर' से बाहर बताया था.

  • Share this:
जाने माने गीतकार जावेद अख्तर ने बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को नसीहत देते हुए एक ट्वीट किया था. दरअसल पीएम ने संसद भवन में अपने वक्तव्य के दौरान ग़ालिब का एक शेर पढ़ा था. जावेद अख्तर ने इस शेर को पढ़ते समय पीएम से हुई भाषाई त्रुटि की ओर लोगों का ध्यान दिलाया था और इस पर ट्वीट किया था. लेकिन ये ट्वीट करना जावेद अख्तर को महंगा पड़ा क्योंकि ऐसा करते ही लोगों ने उन्हें निशाने पर लेना शुरू कर दिया.

पीएम मोदी के शेर पर जावेद अख्तर ने लिखा - पीएम मिनिस्टर साहब ने जो शेर राज्य सभा में अपने अभिभाषण के दौरान सुनाया उसकी वजह से ग़ालिब का गलत शेर सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है.

इस ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर जावेद ट्रोल होने लगे. कई लोगों ने इसे बेवजह की बात कहा तो कई लोगों ने उन्हें मोदी विरोधी कह डाला. अब इस ट्वीट पर जावेद अख्तर ने सफाई दी है.

जावेद की सफाई

PM Modi
प्रधानमंत्री ने राज्यसभा में अपने भाषण के दौरान पढ़ा था गालिब का शेर,


जावेद अख्तर ने ट्विटर पर एक नई ट्वीट में लिखा की वो प्रधानमंत्री की आलोचना नहीं करना चाहते थे. उनका मकसद सिर्फ एक साहित्य से जुड़ी भाषाई त्रुटि की ओर ध्यान दिलाना था.

जावेद का तर्क था कि मूल शेर अलग है और मोदी जी ने इसे भले ही एक अलग संदर्भ में पढ़ा है लेकिन लोग सोशल मीडिया पर इस गलत शेर को साझा कर रहे हैं.
Loading...

जावेद अख्तर ने अपने ट्वीट में लिखा कि ऐसा लग रहा है जैसे बहुत से लोगों के लिए महत्व नहीं रखता है कि शेर गलत पढ़ा गया. लेकिन जो लोग साहित्य से जुड़े हैं, उनके लिए ये परेशानी पैदा करता है.

पहले भी हुए हैं ट्रोल

Javed Akhtar life
जावेद अख्तर जाने माने उर्दू शायर और गीतकार जां निसार अख्तर के बेटे हैं और इन दिनों सक्रिय हैं


74 साल के जावेद अख्तर अब राजनीतिक मुद्दों पर अपनी राय लिखते रहते हैं और कहते रहते हैं. वो तेज़ी से राजनीतिक गलियारों में सक्रिय हुए हैं और भाजपा की नीतियों का विरोध करते रहे हैं.

जावेद अख्तर ने 2019 के लोकसभा चुनावों में बेगुसराय से लेफ्ट कैंडिडेट कन्हैया कुमार का समर्थन भी किया था और वो उनके प्रचार के लिए बेगूसराय भी गए थे. लेकिन कन्हैया इस चुनाव में असफल रहे थे और भारतीय जनता पार्टी के पूर्व सांसद गिरिराज सिंह ने ये चुनाव जीता था.

हिंदी फिल्मों में गीतकार और उर्दू के शायर जां निसार अख्तर के बेटे जावेद अख्तर, अभिनेता फरहान अख्तर और निर्देशक ज़ोया अख्तर के पिता हैं और वर्तमान में मुंबई में पत्नी शबाना आज़मी के साथ रहते हैं.

ये भी पढ़ें - पीएम नरेंद्र मोदी ने पढ़ा शेर, नसीहत देकर ट्रोल हुए जावेद अख्तर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सोशल / वायरल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 1, 2019, 11:37 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...