आपत्तिजनक ट्वीट केस: पायल रोहतगी के खिलाफ मुंबई की अंधेरी कोर्ट सख्त, दिए जांच के आदेश

सफूरा जरगर के खिलाफ ट्वीट के बाद पायल रोहतगी का ट्विटर अकाउंट भी सस्पेंड कर दिया था. फाइल फोटो

सफूरा जरगर के खिलाफ ट्वीट के बाद पायल रोहतगी का ट्विटर अकाउंट भी सस्पेंड कर दिया था. फाइल फोटो

पायल रोहतगी (Payal Rohatgi) के खिलाफ कोर्ट ने कहा कि हर शख्स को अपने धर्म के प्रति आस्था रखने का अधिकार है और किसी को भी यह हक नहीं कि वह किसी दूसरे समुदाय के रीति-रिवाजों या नियमों का मजाक उड़ाए. कोर्ट ने पुलिस को इस मामले में 30 अप्रैल तक रिपोर्ट जमा करने के आदेश दिए है.

  • Share this:
मुंबई. मुंबई स्थित अंधेरी की मेट्रोपोलिटन कोर्ट एक्ट्रेस पायल रोहतगी (Payal Rohatgi) के खिलाफ सख्त हो गई है. जामिया मिल्लिया इस्लामिया (Jamia Millia Islamia) की छात्रा सफूरा जरगर (Safoora Zargar) के खिलाफ आपत्तिजनक ट्वीट (Offensive tweet) करने के मामले में कोर्ट ने एक्ट्रेस के खिलाफ जांच करने का आदेश दिया है. कोर्ट ने पुलिस को इस मामले में 30 अप्रैल तक रिपोर्ट जमा करने के आदेश दिए हैं.

ये था मामला
दरअसल, जून 2020 में जामिया से एम. फिल कर चुकी सफूरा जरगर (Safoora Zargar) दिल्ली दंगों (Delhi Riots) में कथित भूमिका के आरोप में जेल गई थी. जेल में जाने के बाद हुई मेडिकल जांच में पता चला कि वह प्रेग्नेंट है. इसी को लेकर पायल रोहतगी (Payal Rohatgi) ने उसके धर्म का हवाला देते हुए आपत्तिजनक ट्वीट किया था.

मुंबई में एक वकील ने लिया था एक्शन
पायल के ट्वीट के खिलाफ मुंबई के वकील अली काशिफ खान देशमुख ने मुंबई की अंबोली पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई थी, लेकिन पुलिस ने इस मामले का संज्ञान नहीं लिया था. इसके बाद दिसंबर 2020 में उन्होंने अंधेरी कोर्ट में याचिका दायर कर इस मामले की जांच करवाने और एफआईआर दर्ज करने की मांग की थी.



कोर्ट ने क्या कहा
इस मामले की सुनवाई के दौरान मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट ने कहा कि अदालत ने पाया है कि पायल रोहतगी के ट्वीट मुस्लिम महिलाओं और इस पूरे समुदाय का अपमान करते हैं. मेट्रोपोलिटिन मजिस्ट्रेट भगवत जिरापे ने अपने आदेश में कहा, 'हर शख्स को अपने धर्म के प्रति आस्था रखने का अधिकार है और किसी को भी यह हक नहीं है कि वह किसी दूसरे समुदाय के रीति-रिवाजों या नियमों का मजाक उड़ाए.'

अदालत ने आगे कहा कि रोहतगी के ट्वीट्स को लेकर तकनीकी जांच किए जाने की आवश्यकता है, जिससे अभियुक्त के खिलाफ कार्रवाई आगे बढ़ाई जा सके और इस तरह की जांच पुलिस के द्वारा ही की जा सकती है.



आपको बता दें कि पायल रोहतगी के इस ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर एक्ट्रेस की खूब आलोचना हुई थी. यही, नहीं ट्विटर ने उनका अकाउंट भी सस्पेंड कर दिया था. इस मामले में पायल के खिलाफ सामाजिक कार्यकर्ता लहर सेठी ने भी राष्ट्रीय महिला आयोग में शिकायत दर्ज कराई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज