अपना शहर चुनें

States

सुशांत सिंह राजपूत के फैंस के नाम बहन का ओपन लेटर, बोलीं- 'जख्म आसानी से नहीं भरते'

सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच सीबीआई कर रही है.
सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच सीबीआई कर रही है.

सुशांत सिंह राजपूत ( Sushant Singh Rajput) की बहन ने सोशल मीडिया (Social Media) पर इमोशनल ओपन लेटर शेयर करते हुए लिखा है-जब भी वह एक सामान्य जिंदगी जीने की कोशिश करती हैं, तभी कोई नया दर्द उभर आता है. जख्म आसानी से नहीं भरते और इसके लिए हमें सब्र रखना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 24, 2020, 2:50 PM IST
  • Share this:
मुंबई. बॉलीवुड (Bollywood) एक्टर सुशांत सिंह राजपूत ( Sushant Singh Rajput) के निधन के बाद से उनकी बहन श्वेता सिंह कीर्ति लगातार सोशल मीडिया पर अपने भाई के लिए इंसाफ की मांग उठाती रही हैं. वक्त बीतता जा रहा है, लेकिन परिवार और एक्टर के फैंस के मन के सवाल अभी भी वैसे ही हैं. तमाम कोशिशों के बाद भी सुशांत से जुड़े इस सवाल का जवाब अभी तक नहीं मिल पाया है. अपने प्यारे भाई 'रोशन' के लिए इंसाफ की आस के साथ उन्होंने एक्टर के फैंस के लिए एक ओपन लेटर शेयर किया है, जो बेहद इमोशनल है.

सुशांत सिंह राजपूत ( Sushant Singh Rajput) के लिए पूरे देश ने जस्टिस मांगा और इस कैंपेन में उनकी बहन श्वेता सिंह कीर्ति भी जुटी रहीं. इसी बीच श्वेता ने सुशांत के फैंस के नाम एक ओपन लेटर लिखा है.


सोशल मीडिया पर उन्होंने ये इमोशनल ओपन लेटर शेयर करते हुए लिखा है कि वह बहुत ज्यादा तकलीफ से गुजर रही हैं. इसके साथ ही उन्होंने लिखा कि जब भी वह एक सामान्य और रेगुलर जिंदगी जीने की कोशिश करती हैं, तभी कोई नया दर्द उभर आता है. जख्म आसानी से नहीं भरते और इसके लिए हमें सब्र रखना चाहिए. अगर हम इसी तरह अपने जख्मों को कुरेदते रहेंगे और चाहेंगे कि वह भर जाए तो ऐसा नहीं होगा बल्कि हालात और भी बुरी हो जाएगी.



इसके साथ ही श्वेता ने लिखा कि वह भाई जिसके साथ बड़े होते हुए जिंदगी का हर सेकेंड बिताया, जो मेरा एक अटूट हिस्सा था और हम साथ मिलकर पूरे होते थे. लेकिन अब वह मेरे साथ नहीं है और यह मानकर आगे जीने है. पर मुझे भगवान पर पूरा भरोसा है, वह अपने भक्तों को कभी निराश नहीं करते. वह जानते हैं कि दुनिया में बहुत से दुखी दिल है लेकिन वह हरेक नेक दिल को मौका देते हैं.

उन्होंने आगे लिखा- ईश्वर और कुछ नहीं बल्कि दया, प्यार और साथ है. हमें न्याय के लिए आवाज उठाना चाहिए लेकिन शांत ढंग से और एकजुट होकर ताकि हम लगातार कोशिश कर सकें. जोश या गुस्से में आकर हम अपनी ऊर्जा को जल्द नष्ट कर देते हैं.

इस ओपन लेटर के बाद ये जाहिर है कि परिवार बेहद परेशान है और आज भी सुशांत  को न्याय दिलाने की वो पूरी कोशिश कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज