एमपी की छात्राओं ने फिर दिखाई हिम्मत, गाड़ी की खिड़की से कूदकर अपहर्ताओं से बचाई अपनी जान

अनुपपुर जिले के जमुना कालरी से अपह्रत दो छात्राएं अपहरणकर्ताओं के चंगुल से भागकर उमरिया पंहुची. जहां ग्रामीणों की मदद से वो उमरिया पुलिस के पास सुरक्षित पहुंची. पुलिस इस मामले में मानव तस्करी की आशंका जता रही है.

अनुपपुर जिले के जमुना कालरी से अपह्रत दो छात्राएं अपहरणकर्ताओं के चंगुल से भागकर उमरिया पंहुची. जहां ग्रामीणों की मदद से वो उमरिया पुलिस के पास सुरक्षित पहुंची. पुलिस इस मामले में मानव तस्करी की आशंका जता रही है.

अनुपपुर जिले के जमुना कालरी से अपह्रत दो छात्राएं अपहरणकर्ताओं के चंगुल से भागकर उमरिया पंहुची. जहां ग्रामीणों की मदद से वो उमरिया पुलिस के पास सुरक्षित पहुंची. पुलिस इस मामले में मानव तस्करी की आशंका जता रही है.

  • Share this:

अनुपपुर जिले के जमुना कालरी से अपह्रत दो छात्राएं अपहरणकर्ताओं के चंगुल से भागकर उमरिया पंहुची. जहां ग्रामीणों की मदद से वो उमरिया पुलिस के पास सुरक्षित पहुंची. पुलिस इस मामले में मानव तस्करी की आशंका जता रही है.

उमरिया जिले के कोइलारी गाँव की एक महिला सुबह जब लकड़ी बीनने जंगल जा रही थी, उसी दौरान उसे जंगल में दो स्कूली ड्रेस पहने लड़कियां मिली जो महिला से मदद की गुहार लगाने लगी. महिला इन लड़कियों को गांव लेकर आई और ग्रामीणों के साथ मिलकर पुलिस को सौंप दिया.

दरअसल इन दोनों लड़कियों का मंगलवार की सुबह अनुपपुर जिले के जमुना कोतमा कालरी से स्कूल जाते समय अज्ञात बदमाशों ने अपहरण कर लिया था. अपहरणकर्ताओं के चंगुल से भागकर अपनी जान बचाने वाली छात्राओं की मानें तो स्कूल जाने के दौरान उन्हें रास्ते में एक औरत मिली और स्कूल छोड़ने के बहाने गाड़ी में बैठा लिया.



इसके बाद गाड़ी में बैठे अन्य लोगों ने उन्हें कुछ सुंघाया जिससे वे बेहोश हो गईं, लेकिन देर रात ढाबे में अपहरणकर्ताओं के खाना खाने के दौरान वो होश में आ गई. गाड़ी में किसी को न पाकर दोनों लड़कियों ने गाड़ी से भागने के लिए गेट खोलने की कोशिश की तो पाया की गाड़ी लॉक पड़ी है.
गेट बंद होने पर लड़कियों ने हिम्मत नहीं खोई और समझदारी से काम लेते हुए वो खिड़की से कूदकर भागने में सफल हो गईं. इसके बाद छात्राओं की मानें तो गाड़ी में मौजूद लोगों की बातचीत मानव तस्करी की ओर इशारा करती है.

वहीं लड़कियों के इस खुलासे के बाद पुलिस भी चौंक गई है. पुलिस का कहना है कि अगर जिले में कोई मानव तस्करी कर रहा है तो वो इस गिरोह का जल्द से जल्द पता लगाएगी. इस कड़ी में पुलिस ने नाकेबंदी कर पीड़ित छात्राओं के बताए अनुसार गाड़ी की तलाश शुरू कर दी है ताकि आरोपियों को जल्द से जल्द पकड़ा जा सके.

बहरहाल पीड़ित छात्राओं को उनके परिजनों को सौंप दिया गया है, लेकिन अपहरणकर्ताओं के चंगुल में अभी भी तीन और नाबालिकों की जान फंसी हुई है, जिनका कोई सुराग नहीं लग पाया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज