गुजरात: अवैध शेर दिखाना पड़ा भारी, 6 लोगों को 3 साल तक मिली सश्रम कारावास की सजा

अदालत ने ऐतिहासिक फैसला देने के साथ आरोपी को 10,000 रुपये का जुर्माने के साथ ही 3 साल की कैद की सजा सुनाई है.

अदालत ने ऐतिहासिक फैसला देने के साथ आरोपी को 10,000 रुपये का जुर्माने के साथ ही 3 साल की कैद की सजा सुनाई है.

Gujarat News: गिरगढ़डा की अदालत ने ऐतिहासिक फैसला सुनाया. दोषियों को कारावास के साथ ही जमीन खाली करने का आदेश दिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 9, 2021, 11:28 AM IST
  • Share this:
अहमदाबाद. मई 2018 में गीर नेशनल पार्क के आसपास में एक अवैध लायन शो दिखाने का वीडियो वायरल हुआ. अवैध शेर दिखाने वाले व्यक्ति और दर्शकों और सहायकों सहित कुल 8 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था. आज, गुजरात की गीरगढडा अदालत ने मामले में आरोपी को सजा सुनाई है.

अदालत ने ऐतिहासिक फैसला देने के साथ आरोपी को 10,000 रुपये का जुर्माने के साथ ही 3 साल की कैद की सजा सुनाई है. एक आरोपी को बरी कर दिया गया है, जबकि दूसरे को एक साल की सजा सुनाई गई है. कोर्ट ने लायन शो दिखाने वाले व्यक्ति के सभी भूमि परमिटों को रद्द करने का भी आदेश दिया.

दरअसल, 19 मई, 2018 को और रात 1 बजकर 10. मिनिट पर इस मामले के आरोपी इलियासने ध्रुंबक नामकी बस्ती क्षेत्र में स्थित भूमि में पर्यटकों को अवैध शेर दिखाया था. उस आदमी ने मुर्गी को अपने हाथ में पकड़ लिया और शेरनी को लालच दिया. कभी-कभी मुर्गी के साथ उसे फुसलाता रहा. इस घटना का वीडियो इतना वायरल हुआ के गुजरात सरकारने खुद पक्षकार बनके इस मामलेमे कानूनी कारवाई की थी.



वन्यजीव सर्वेक्षण अधिनियम, 1972 की धारा 2 (16) (बी) 2 (36), 9, 29, 39, 51, 52 के तहत मामला दर्ज किया गया. मामले में फैसला आज गिरगढ़डा न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी सुनील दवे ने कड़ा फैसला सुनाया है.
अदालत ने कहा कि इस मामले में आरोपी, इलियास एद्रेमान होथ, जिसकी ज़मीन पर शेर का शो हुआ, जिसने मुर्गी देकर शेर को फुसलाया. अहमदाबाद के पर्यटक रवि पाटोदिया, दिव्यांग गज्जर, रागिन पटेल, हरमाडिया गांव के अब्बास रिंग्ब्लोच तलाला में मंडोराना गांव के अल्ताफ हैदर बलोच को 3 साल के सश्रम कारावास और 10,000 रुपये प्रति जुर्माने की सजा सुनाई गई है.

जुर्माना अदा न करने पर आरोपी को एक वर्ष और कारावास की सजा सुनाई गई है. मामले के आरोपी मांगीलाल मीणा को एक साल के सश्रम कारावास और 10,000 रुपये के जुर्माने की सझा सुनाई, आरोपी हासम सिकंदर कोरजा को बरी कर दिया गया है.

अदालत ने आरोपी के वाहनों को जब्त करने और आरोपी इलियास एड्रेमन होथ को वारसाइमें आवंटित बाबरिया रेंज फॉरेस्ट के धुंबक क्षेत्र में निपटान भूमि की अनुमति रद्द करने का भी आदेश दिया. यह जमीन सरकार द्वारा ली जाएगी और सरकार को सौंप दी जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज