होम /न्यूज /gujarat /गुजरात चुनाव में आम आदमी पार्टी की हार में भी छिपी है 'बड़ी जीत', ये आंकड़े दे रहे गवाही

गुजरात चुनाव में आम आदमी पार्टी की हार में भी छिपी है 'बड़ी जीत', ये आंकड़े दे रहे गवाही

गुजरात की 35 सीटें ऐसी रहीं, जहां आम आदमी पार्टी दूसरे नंबर पर रही. 39 सीटें ऐसी रहीं जहां कांग्रेस हारी और AAP को जीत के अंतर से अधिक वोट मिले. (File Photo)

गुजरात की 35 सीटें ऐसी रहीं, जहां आम आदमी पार्टी दूसरे नंबर पर रही. 39 सीटें ऐसी रहीं जहां कांग्रेस हारी और AAP को जीत के अंतर से अधिक वोट मिले. (File Photo)

गुजरात की 35 सीटें ऐसी रहीं, जहां आम आदमी पार्टी दूसरे नंबर पर रही. 39 सीटें ऐसी रहीं जहां कांग्रेस हारी और AAP को जीत ...अधिक पढ़ें

नई​ दिल्ली: गुजरात विधानभा चुनाव 2022 में भारतीय जनता पार्टी ने ऐतिहासिक जीत दर्ज की है. उसने न केवल पश्चिम बंगाल में सीपीआई के लगातार 7 चुनावों में जीत दर्ज करने के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली, बल्कि गुजरात के चुनावी इतिहास की सबसे बड़ी विजय भी हासिल की. वर्ष 1985 के गुजरात विधानसभा चुनाव में माधव सिंह सोलंकी के नेतृत्व में कांग्रेस ने 149 सीटें जीती थीं. भाजपा ने 156 सीटें जीतकर इस रिकॉर्ड को तोड़ दिया. वहीं, कांग्रेस ने इस बार गुजरात में अपनी सबसे शमर्नाक चुनावी हार देखी. लेकिन इन सबके बीच, आम आदमी पार्टी ने देश के इस पश्चिमी राज्य में अपनी शानदार उपस्थिति दर्ज करा ली है. उसने सीटें भले ही 5 जीती हों, लेकिन 13 फीसदी के करीब वोट शेयर हासिल किया. AAP ने जो 5 सीटें जीती हैं, उनमें से 2017 में 2 सीटों पर भाजपा, 2 पर कांग्रेस और 1 सीट पर भारतीय ट्राइबल पार्टी को जीत मिली थी.

गुजरात: 126 सीटों पर AAP की जमानत जब्त, 15 विधानसभा क्षेत्रों में NOTA से भी कम वोट आए; देखें पूरी लिस्ट

गुजरात की 35 सीटें ऐसी रहीं, जहां आम आदमी पार्टी दूसरे नंबर पर रही. 39 सीटें ऐसी रहीं जहां कांग्रेस हारी और AAP को जीत के अंतर से अधिक वोट मिले (AAP+INC वोट विजेता के वोट से अधिक). आम आदमी पार्टी ने गुजरात में जितने वोट प्राप्त किए, उसमें 50% से अधिक वोट उसके द्वारा लड़ी गई 181 सीटों में से 38 (21%) से हैं. AAP ने इस चुनाव में कुल 181 उम्मीदवार खड़े किए थे, जिनमें से 126 ने अपनी जमानत गंवा दी. डेडियापाड़ा सीट पर AAP ने 50% से अधिक वोटशेयर हासिल किया. यहां उसके प्रत्याशी चैतर वसावा जीते. जामजोधपुर से AAP के हेमंत अहिर ने पूर्व मंत्री चीमन सापरिया को हराया. लट्ठाकांड से चर्चा में आए बोटाद से AAP उम्मीदवार उमेश मकवाना ने जीत दर्ज की. विसावदर सीट से आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार भूपेंद्र भाई ने बीजेपी उम्मीदवार हर्षद रिबडीया को हराया. गारियाधार सीट से AAP के सुधीर वघानी ने भाजपा के केशुभाई नाकराणी को हराया.

आम आदमी पार्टी को राष्ट्रीय पार्टी का मिलेगा दर्जा
गुजरात चुनाव के बाद आम आदमी पार्टी को राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा मिल जाएगा. फिलहाल पार्टी को दिल्ली, पंजाब और गोवा में क्षेत्रीय पार्टी का दर्जा हासिल है. राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा मिलने के लिए किसी राजनीतिक दल को कम से कम 4 राज्यों में क्षेत्रीय पार्टी का दर्जा होना जरूरी है. इस लिहाज से गुजरात चुनाव आम आदमी पार्टी के लिए अहम है. AAP ने चुनाव में 12 फीसदी से ज्यादा वोट हासिल किए हैं और 5 सीटों पर जीत हासिल की है. इस तरह गुजरात में AAP को स्टेट पार्टी का दर्जा मिलना तय है. इसके बाद आम आदमी पार्टी को 4 राज्यों में क्षेत्रीय पार्टी का दर्जा मिल जाएगा और वह राष्ट्रीय पार्टी बन जाएगी.

गुजरात में चुनाव हारकर भी AAP में खुशी की लहर, ऐसा रहा राष्ट्रीय पार्टी बनने तक का सफर

गुजरात के आदिवासी बेल्ट में AAP की हो गई एंट्री
आम आदमी पार्टी को गुजरात के आदिवासी इलाके में एंट्री मिल गई है. उसने आदिवासी प्रभाव वाले नर्मदा जिले की डेडियापाड़ा सीट से जीत हासिल की है. यहां से आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार चैत्र वसावा जीते, जो बीजेपी के बड़े आदिवासी नेता छोटू वसावा के सबसे खास कहे जाते थे. आम आदमी पार्टी ने पंजाब, दिल्ली, गोवा के बाद गुजरात में भी संगठन खड़ा कर लिया है. ऐसे में 2024 के लोकसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को फायदा मिल सकता है और वह राष्ट्रीय राजनीति में एक प्रभावी विकल्प बनकर खड़ी हो सकती है. दिल्ली में उसने कांग्रेस को रिप्लेस कर दिया है, पंजाब में अकाली दल और भाजपा को. अब गोवा और गुजरात में भी उसकी उपस्थिति है.

Tags: Aam aadmi party, AAP, Gujarat Assembly Election

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें