अहमदाबाद: फ्रेंडशिप क्लब के नाम पर ढाई हज़ार लोगों को लगा 1.54 करोड़ का चूना, 2 गिरफ्तार

30 साल के आरोपी सहदव जडेजा और 25 साल के राहुल बारिया को अहदाबाद की साइबर क्राइम सेल ने गिरफ्तार कर लिया है

30 साल के आरोपी सहदव जडेजा और 25 साल के राहुल बारिया को अहदाबाद की साइबर क्राइम सेल ने गिरफ्तार कर लिया है

Fake Friendship Club: 30 साल के आरोपी सहदव जडेजा और 25 साल के राहुल बारिया को अहदाबाद की साइबर क्राइम सेल ने गिरफ्तार कर लिया है. आरोप है कि इन दोनों ने शहर के बेरोजगार युवकों को अपने जाल में फंसाया.

  • Share this:

अहमदाबाद. पुलिस ने अहमदाबाद शहर में एक फर्जी फ्रेंडशिप क्लब (Fake Friendship Club) का पर्दाफाश किया है. इस सिलसिले में अब तक दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इन दोनों के खिलाफ आईसीसी की धारा 406 और 420 के तहत मामला दर्ज किया गया है. आरोप है कि इन दोनों ने फर्जी फ्रेंडशिप क्लब के नाम पर ढाई हज़ार लोगों को एक करोड़ 54 लाख का चूना लगा दिया. साल 2015 से 2021 के बीच ये क्लब गुजरात के अलग-अलग शहरों में चल रहे थे.

30 साल के आरोपी सहदव जडेजा और 25 साल के राहुल बारिया को अहदाबाद की साइबर क्राइम सेल ने गिरफ्तार कर लिया है. आरोप है कि इन दोनों ने शहर के बेरोजगार युवकों को अपने जाल में फंसाया. पुलिस ने बताया कि साल 2015 में इन दोनों ने एक क्लब बनाया जिसका नाम था 'ऑनलाइन अर्न मनी'. पुलिस ने कहा, 'ये अखबारों में विज्ञापन देते थे. बेरोजगारों को ये दोनों फ्रेंडशिप क्लब में काम करने का ऑफर देते थे. लोगों से रजिस्ट्रेशन और एडवांस के नाम पर पैसे लिए जाते थे. साथ ही इन्हें कहा जाता था कि अहमदाबाद की महिलाओं से शाररिक संबंध बनाने के लिए इन्हें पैसे मिलेंगे.'

ऐसे हुई गिरफ्तारी

पुलिस के मुताबिक लोगों से एडवांस पैसे लेने के बाद ये अपना मोबाइल स्विच ऑफ कर लेते थे. पुलिस ने बताया कि हाल ही में एक शख्स ने इसके बारे में शिकायत की. इनसे 43500 रुपये एडवांस में लिए गए थे. बाद में पुलिस ने जांच के बाद दोनों आरोपियों को धर दबोचा. पुलिस ने इनके पास से 11 मोबाइल फोन, 19 एटीएम कार्ड, 5 आधार कार्ड, 7 चेक बुक और 5 पासबुक बरामद किए हैं.
ये भी पढ़ें:- Cyclone Tauktae: तूफान 'टाउते' के चलते मुंबई में आज भी नहीं होगा वैक्सीनेशन

1.54 करोड़ रुपये ठगे 

पुलिस ने कहा, 'हमने उनकी डायरियों की जांच की है और गहन जांच के दौरान, हमने पाया है कि उन्होंने 2015-16 में 837 व्यक्तियों, 2017 में 756 व्यक्तियों, 2018 में 513 व्यक्तियों, 2019 में 135 व्यक्तियों, 2020 में 187 व्यक्तियों और 2021 में 97 व्यक्तियों को ठगा है. आरोपियों ने कुल 2,525 लोगों से 1.54 करोड़ रुपये ठगे हैं. हम नागरिकों से अपील करते हैं कि वे इन संदिग्ध ' फ्रेंडशिप क्लबों' के झांसे में न आएं.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज