गुजरात में टाउते का कहर, तिनकों की तरह उड़ी केवड़िया रेलवे स्टेशन की छत

यात्रियों के लिए आधुनिक सुविधा से लैस देश का पहला ग्रीन बिल्डिंग रेलवे स्टेशन केवड़िया में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के पास कुछ महीने पहले बना है. news18

यात्रियों के लिए आधुनिक सुविधा से लैस देश का पहला ग्रीन बिल्डिंग रेलवे स्टेशन केवड़िया में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के पास कुछ महीने पहले बना है. news18

Kevadiya green Building railway station: देश का पहला ग्रीन बिल्डिंग रेलवे स्टेशन केवड़िया में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के पास कुछ महीने पहले बना है.

  • Share this:

अहमदाबाद. गुजरात में भीषण चक्रवाती तूफान टाउते का असर सोमवार सुबह से ही दिखने लगा था. तेज हवाओं के चलते कई जगह बारिश तो कई जगह पेड़ गिरने की घटना सामने आई है. इस बीच एक वीडियो सामने आया है, जो केवड़िया केवड़िया रेलवे स्टेशन का है. वीडियो में न्यू ग्रीन बिल्डिंग रेलवे स्टेशन की छत तेज हवाओं के चलते तिनकों की तरह उड़ती दिखाई दे रही है. हालांकि इस दुर्घटना में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है. यात्रियों के लिए आधुनिक सुविधा से लैस देश का पहला ग्रीन बिल्डिंग रेलवे स्टेशन केवड़िया में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के पास कुछ महीने पहले बना है. चक्रवाती तूफान सोमवार रात में गुजरात तट से आ टकराया और इस दौरान हवा 185 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से चल रही है.

इससे पहले चक्रवात के परिणामस्वरूप मुंबई में भारी वर्षा हुई और गुजरात में 1.5 लाख से अधिक लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाना पड़ा. वहीं इसके चलते दो नौकाएं तट से दूर अरब सागर में चली गई हैं जिन पर 410 लोग सवार हैं. भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने कहा कि एक भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील हो गया ‘ताउते’ वर्तमान समय में गुजरात तट के पास स्थित है. आईएमडी ने कहा कि इसके टकराने की प्रक्रिया शुरू हो गई है और यह अगले दो घंटे जारी रहेगी. अधिकारियों ने कहा कि महाराष्ट्र के कोंकण क्षेत्र में भीषण चक्रवाती तूफान से संबंधित अलग-अलग घटनाओं में छह लोगों की मौत हो गई और दो नौकाओं के समुद्र में डूब जाने से तीन नाविक लापता हैं.

तीन लोगों की मौत रायगढ़ जिले में हुईं, एक नाविक की मौत सिंधुदुर्ग जिले में और ठाणे जिले के नवी मुंबई और उल्हासनगर में दो लोगों की मौत उन पर पेड़ गिरने से हुई. एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि सिंधुदुर्ग जिले के आनंदवाड़ी बंदरगाह में लंगर डाले दो नौकायें डूब गई जिन पर सात नाविक सवार थे. जब चक्रवात महाराष्ट्र तट से आगे बढ़ा और सुबह मुंबई के करीब पहुंचा तो यहां स्थित छत्रपति शिवाजी महाराज अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे ने पूर्वाह्न 11 बजे से दोपहर 2 बजे तक परिचालन स्थगित करने की घोषणा की और बाद में रात आठ बजे तक सभी परिचालन स्थगित रखने का फैसला किया.

एक अधिकारी ने बताया कि गुजरात में निचले तटीय इलाकों से 1.5 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है, जबकि राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) और राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) की 54 टीमें तैनात की गई हैं. एक अधिकारी ने कहा कि चक्रवात ताउते गुजरात तट की ओर बढ़ने के मद्देनजर पोरबंदर सिविल अस्पताल के ऐसे कम से कम 17 कोविड​-19 रोगियों को सोमवार को एहतियात के तौर पर अन्य सुविधाओं में स्थानांतरित कर दिया गया जो वहां आईसीयू में वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे.


गुजरात सरकार ने कहा कि केंद्र ने चक्रवात से निपटने के लिए गुजरात को हर संभव मदद की पेशकश की है और सेना, नौसेना और वायुसेना को जरूरत पड़ने पर प्रशासन की सहायता के लिए तैयार रहने को कहा है. गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने तटीय जिलों के कलेक्टरों के साथ बैठक करने के बाद कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह राज्य सरकार के संपर्क में हैं और उन्होंने हर संभव मदद का भरोसा दिया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज